मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का हलफ़नामा, दूल्हों को तलाक़ ना देने की नसीहत

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड इमेज कॉपीरइट Getty Images

तीन तलाक़ के मुद्दे पर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सलन लॉ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में नया हलफ़नामा दायर किया है.

ग़ौरतलब है कि 6 दिनों की सुनवाई के बाद 18 मई को तीन तलाक़ के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई ख़त्म हुई थी. कोर्ट ने अपना फ़ैसला सुरक्षित रख लिया है.

सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में दायर किए गए 13 पन्ने के हलफ़नामे में बोर्ड ने बताया कि तीन तलाक़ की प्रथा को रोकने की कोशिश की जाएगी.

इस हलफ़नामे में बोर्ड ने कहा है कि वह अपनी वेबसाइट, विभिन्न प्रकाशनों और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के ज़रिए लोगों को एडवाइज़री जारी करेगा जिसमें निकाह कराने वालों को तीन तालक़ से संबंधित सुझाव दिए जाएंगे.

तीन तलाक़- जो बातें आपको शायद पता न हों

कितने पंथों में बंटा है मुस्लिम समाज?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

निकाह के वक़्त दूल्हे को सुझाव

हलफ़नामे में कहा गया है कि निकाह के वक़्त काज़ी दूल्हे को सुझाव देगा कि किसी तरह के मतभेद की सूरत में एक बार में तीन तलाक़ देने से बचा जाए क्योंकि शरीयत में इस प्रथा को पसंद नहीं किया जाता है.

साथ ही निकाह के समय काज़ी दूल्हा और दुल्हन को सुझाव देगा कि निकाहनामे में तीन बार बोलकर तलाक़ ना देने की शर्त रखी जाए.

हलफनामे में बोर्ड की 15 और 16 अप्रैल को हुई मीटिंग का हवाला देते हुए लिखा है कि बोर्ड की कार्यसमिति ने उस बैठक में कुछ प्रस्तावों को पारित किया था. जिसमें एक बार में तीन तलाक़ देने से बचने को कहा गया था.

इमेज कॉपीरइट EPA

पुराने हलफ़नामे का दिया हवाला

15 और 16 अप्रैल को लखनऊ में मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की कार्यसमिति की बैठक में तलाक़ के मुद्दे को लेकर कुछ प्रस्ताव पास किए गए थे.

इस प्रस्ताव में कहा गया था, "तलाक़ को लेकर शरीयत का रुख़ एकदम साफ़ है. बिना किसी कारण तलाक़ देना और तीन बार तलाक़ बोलना तलाक़ देने का सही तरीक़ा नहीं है. इस तरह की प्रथा की शरीयत में घोर निंदा की गई है. इसके लिए ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड एक बड़ा सार्वजनिक आंदोलन शुरू करेगा."

प्रस्ताव में आगे कहा गया था, "मुसलमानों के सभी तबकों ख़ासतौर से ग़रीब लोगों के बीच इस बारे में जागरूकता लाई जाएगी और मस्जिदों के इमामों और वार्ताकारों से इस मामले में मदद के लिए कहा जाएगा."

कार्यसमीति ने ये भी तय किया था कि वो लोग जिनके तीन तलाक़ देने से आगे समस्याएं खड़ी होती हैं, उनका सामाजिक बहिष्कार किया जाना चाहिए. इस तरह का सामाजिक बहिष्कार से तलाक़ के मामले कम करने में मददगार होगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इसमें पति-पत्नी के लिए आचार संहिता जारी की गई थी जिसमें शरीयत के सिद्धांतो को ध्यान में रखते हुए इस बात पर ज़ोर दिया गया था कि पति पत्नी के बीच विवाद परस्पर बातचीत से हल किया जाना चाहिए.

यदि आपस में बातचीत कर विवाद हल नहीं होता तो दोनों परिवार के बड़े सदस्यों को विवाद सुलझाने की कोशिश की जानी चाहिए. तब भी विवाद हल ना हो तो तलाक़ का सहारा लिया जाना चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)