'कश्मीर में युवक को जीप से बांधने वाले मेजर सम्मानित'

  • 23 मई 2017
इमेज कॉपीरइट TWITTER

भारतीय मीडिया में आई ख़बरों के मुताबिक सेना ने मेजर एल गोगोई को सम्मानित किया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों का हवाले से बताया है कि उन्हें चरमपंथ रोधी (काउंटर इनसर्जेंसी) अभियान के लिए पुरस्कार दिया गया है.

इमेज कॉपीरइट TWITTER

पीटीआई ने एक अन्य ट्वीट में बताया है कि मेजर गोगोई के निरंतर प्रयासों के लिए सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने उन्हें कमेंडेशन कार्ड से सम्मानित किया.

मेजर गोगोई बीते अप्रैल महीने में फ़ारुक़ अहमद डार नाम के व्यक्ति को मानव ढाल की तरह जीप पर बांधकर घुमाने के बाद चर्चा में आए थे.

'पीटा, जीप से बांधा और 18 किमी तक घुमाते रहे'

नौ अप्रैल को श्रीनगर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव के बाद डार को जीप में बांधने का वीडियो वायरल हो गया था.

इमेज कॉपीरइट TWITTER

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्विटर पर वीडियो जारी करते हुए इस मामले की जांच कराने की मांग की थी.

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने इस मामले में भारतीय सेना की 53वीं राष्ट्रीय रायफल्स के ख़िलाफ एफआईआर दर्ज़ की थी.

'मानव ढाल' वीडियो मामले में सेना पर एफ़आईआर

वहीं जीप में बांधे गए फ़ारुक़ अहमद डार ने बीबीसी संवाददाता सलमान रावी को बताया था कि राष्ट्रीय रायफल्स के जवानों ने उन्हें सुबह 11 बज़े पकड़ा और शाम सात बजे तक जीप में बांधकर घुमाते रहे.

डार ने दावा किया, "राष्ट्रीय रायफल्स के लोगों का कहना था कि मैं पत्थरबाज़ हूं, जबकि मैंने कभी पत्थरबाज़ी नहीं की. मैंने वोटर आईडी कार्ड, आधार कार्ड दिखाया, लेकिन उन्होंने कुछ नहीं माना."

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक इस मामले में सेना की कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी जारी है.

'मानव ढाल' वाले वीडियो पर कश्मीरी मीडिया में ग़ुस्सा

मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया है कि सेना की शुरुआत से ये राय है कि संवेदनशील हालात के बीच लोगों की जान बचाने के लिए मेजर ने कार्रवाई का 'सबसे सुरक्षित रास्ता चुना'

टाइम्स ऑफ इंडिया ने एक अधिकारी के हवाले से दावा किया है कि सरकार और सेना का मानना है कि चरमपंथ रोधी अभियान में बाधा पहुंचाने की कोशिश करने वाले चरमपंथियों अथवा पत्थर फेंकने वालों को कोई जगह नहीं मिलनी चाहिए.

उधर, मेजर गोगोई को पुरस्कार मिलने की ख़बर सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर प्रतिक्रियाओं की बाढ़ आ गई.

इमेज कॉपीरइट TWITTER

भारतीय जनता पार्टी के सांसद और अभिनेता परेश रावल ने भी सोमवार को इसी मुद्दे पर एक ट्वीट किया था, जिस पर विवाद शुरु हो गया था.

सांसद परेश रावल बोले: पत्थरबाज़ों को नहीं, अरुंधति रॉय को आर्मी जीप से बांधो

परेश रावल ने लिखा, ''आर्मी जीप से पत्थरबाज़ों को बांधने की बजाय अरुंधति रॉय को बांधना चाहिए.''

इमेज कॉपीरइट TWITTER

वहीं मेजर गोगोई को मिले सम्मान को लेकर भारतीय जनता पार्टी की नेता प्रीति गांधी ने ट्विटर पर लिखा, "कश्मीर में प्रदर्शनकारी को मानव ढाल की तरह जीप में बांधने वाले अधिकारी को सम्मानित किया गया है. अभी आगे जाना है!!"

इमेज कॉपीरइट TWITTER

सोशल मीडिया पर कई अन्य लोगों ने भी मेजर गोगोई को सम्मान मिलने की ख़बर की सराहना की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे