सहारनपुर में फिर भड़की हिंसा, हालात तनावपूर्ण

  • 24 मई 2017
जातीय संघर्ष (फ़ाइल फ़ोटो) इमेज कॉपीरइट PTI

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में जातीय हिंसा एक बार फिर भड़क गई है और दोनों पक्षों की ओर से हिंसा और आगज़नी करने की ख़बरें मिली हैं.

घटना के बाद हिंसा से सबसे ज़्यादा प्रभावित शब्बीरपुर गांव में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किए गए हैं और आला अधिकारी वहां पहुंच कर स्थिति को नियंत्रित करने का प्रयास कर रहे हैं.

मेरठ परिक्षेत्र के अपर पुलिस महानिदेशक आनंद कुमार ने हिंसक घटनाओं की पुष्टि करते हुए कहा कि सहारनपुर के ज़िलाधिकारी और एसएसपी समेत तमाम आला अधिकारी घटनास्थल पर मौजूद हैं और वो ख़ुद भी कुछ ही देर में वहां पहुंचने वाले हैं.

'सास-बहू में बिज़ी मीडिया, दलित संघर्ष कैसे देखें?'

मीडिया को क्यों नहीं दिखता दलितों का संघर्ष?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
'दहशत ऐसी थी कि मैंने भूस के ढेर में छिपकर जान बचाई'

मायावती का दौरा

एडीजी आनंद कुमार ने बताया, "इलाक़े में ताज़ा हिंसा की ख़बरें मिली हैं. दो पक्षों के लोगों की आपसी लड़ाई हिंसा में तब्दील हुई है. कुछ लोगों को चोटें भी आईं हैं और आगज़नी की घटनाएं भी हुई हैं, लेकिन किसी का घर नहीं जलाया गया है, आगज़नी सड़कों पर की गई है."

ताज़ा हिंसा भड़कने से इलाक़े में ज़बरदस्त तनाव की स्थिति है. मंगलवार की सुबह बीएसपी नेता मायावती ने शब्बीरपुर गांव का दौरा किया.

इस बीच उन्होंने रास्ते में कुछ जगहों पर लोगों को संबोधित भी किया.

स्थानीय लोगों के मुताबिक मायावती के शब्बीरपुर पहुंचने से पहले ही कुछ दलितों ने ठाकुरों के घर पर पथराव करने के बाद आगजनी की थी.

भीम आर्मी- बेज़ुबानों की आवाज़ या लोकतंत्र को चुनौती?

दलितों का प्रदर्शन, 'संघ'वाद से आज़ादी के नारे

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
दलित कार्यकर्ताओं पर एफ़आईआर और गिरफ़्तारी के विरोध में प्रदर्शन

क्षेत्र में हाई अलर्ट

वहीं मायावती के जाते ही ठाकुरों ने दलितों के घरों पर कथित तौर पर हमला बोल दिया.

शब्बीरपुर के अलावा उससे सटे गांव चंद्रपुरा में भी दोनों समुदाय आमने-सामने आ गए और दोनों के बीच गोली-बारी भी हुई. हालांकि किसी अप्रिय घटना की ख़बर नहीं है.

घटना के बाद से ही दोनों गांवों में हालात तनावपूर्ण हो गए हैं और इलाक़े को एक बार फिर हाई अलर्ट कर दिया गया है.

इलाक़े में पीएसी के अलावा सहारनपुर के साथ ही आस-पास के ज़िलों से भी पुलिस बल को बुलाया गया है.

'द ग्रेट चमार' का बोर्ड लगाने वाले 'रावण'

योगीराज में क़ानून की व्यवस्था या अव्यवस्था?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
भीम आर्मी जैसी सेनाएं खड़ी होने लगेंगी तो लोकतंत्र के लिए अलग चुनौती खड़ी हो सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे