'मानव ढाल' केस में सेना की जांच एक तमाशा: उमर अब्दुल्ला

उमर अब्दुल्ला इमेज कॉपीरइट TAUSEEF MUSTAFA/AFP/Getty Images)

भारत प्रशासित कश्मीर में भारतीय सेना के काफिले की एक गाड़ी के बोनट पर एक कश्मीरी को बांधकर ले जाने का मामला थमता नहीं दिख रहा है.

अब जम्मू और कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने एक कश्मीरी को मानव ढाल के तौर पर इस्तेमाल करने वाले मेजर गोगोई के खिलाफ सेना की जांच को तमाशा बताया है.

उमर अब्दुल्ला की ये टिप्पणी मेजर गोगोई के आतंकवाद निरोधी अभियानों में कोशिशों के लिए आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत के हाथों हाल ही में सम्मानित होने के बाद आई है.

अरुंधति-परेश रावल पर पाकिस्तान में भी चर्चा

अब मेरा और बदतर हाल कर दिया जाएगा: फ़ारूक़ डार

इमेज कॉपीरइट Twitter @abdullah_omar

उमर अब्दुल्ला ने ट्विटर पर लिखा, भविष्य में सेना की मिलिट्री कोर्ट की जांच के तमाशे को लेकर आप ज्यादा परेशान न हों. साफ़ है कि जो कोर्ट मायने रखती है, वो है लोकमत की अदालत.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
कहानी कश्मीरी मांओं की

9 अप्रैल के श्रीनगर उपचुनाव के दौरान एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था जिसमें दिखाया गया कि सेना की गाड़ी के आगे एक आदमी बंधा हुआ है. इसके बाद सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा भड़क गया.

हालांकि सेना ने इसके बाद जांच शुरू कर दी और पुलिस ने भी अधिकारी के खिलाफ मामला दर्ज किया था.

उमर अब्दुल्ला का कहना है कि सरकार मानवाधिकारों के मामले में दोहरा रवैया अपना रही है.

मीडिया रिपोर्टों में उस समय ये कहा गया कि सेना के काफिले को पत्थरबाज़ों से बचाने के लिए ऐसा किया गया था.

'कश्मीर में युवक को जीप से बांधने वाले मेजर सम्मानित'

क्या कश्मीर के हिंसक प्रदर्शन बड़े ख़तरे का संकेत हैं?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
एक कश्मीरी छात्र की आवाज़

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे