ग्राउंड रिपोर्ट-2: सहारनपुर में दलित ही नहीं, ठाकुर भी डरे हुए हैं

  • 28 मई 2017
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
जात-पात की लड़ाई के बाद सहारनपुर में अब कैसे हैं हालात?

रसूलपुर गांव की सुनीता को अपने पति सुमित को खोने का जितना गहरा दुख है, उतना ही अपने दो बच्चों के सवाल का जवाब न दे पाने का है, कि उनके पापा घर कब लौटेंगे?

तीन और चार साल के इन बच्चों को सुनीता क्या जवाब दें? 5 मई को शब्बीरपुर गांव में हुई दलित-ठाकुर हिंसा में उनके पति की हत्या कर दी गई थी.

"मेरे दोनों बच्चे रोज़ पूछते हैं, पापा कहां हैं, घर कब लौटेंगे, मैं....", सुनीता अपनी बात पूरी करने से पहले ही भावुक हो जाती हैं.

रसूलपुर ठाकुर बहुल गांव है. लेकिन यहां के ठाकुर आर्थिक रूप से काफी पिछड़े हैं.

27 वर्षीय सुमित रोज़ की दिहाड़ी करके अपने परिवार की परवरिश करते थे. उनकी मां नहीं हैं. पिता के पास एक छोटा सा खेत है. छोटा भाई पिता का हाथ बंटाता है. सुमित की हत्या के बाद यह परिवार गहरे आर्थिक कष्ट के दलदल में फंस गया है.

ग्राउंड रिपोर्ट-1:जात-पात की लड़ाई में नहीं मारा गया दलित युवक?

Image caption सुमित जात-पात की हिंसा में मारे गए

गांव के मुहाने पर ही सुमित का घर है, जिसमें उनकी पत्नी, दो बच्चे, पिता और भाई रहते हैं. घर छोटा है. इसके अहाते में कुछ भैंसे बंधी हैं और सामने के कमरे में मवेशियों के लिए चारा रखा है.

सुमित घर का सब से बड़ा बेटा था. उसके एक चचेरे भाई कहते हैं, "वो दो भाई और एक बहन में सबसे बड़ा था. घर का बड़ा तो बड़ा ही होता है".

सहारनपुर में फिर भड़की हिंसा, हालात तनावपूर्ण

क्या है भीम आर्मी और किसने बनाई?

Image caption सुमित के बच्चे अपनी माँ से पूछते हैं कि पापा घर कब लौटेंगे

सुनीता और सुमित की शादी पांच साल पहले हुई थी.

पल्लू से अपना चेहरा ढंके सुनीता अपने चेहरे की उदासी और दुख चाहकर भी नहीं छिपा पा रही थीं.

जात-पात के दंगों के बाद दलितों के गांवों में जितना डर है, उससे कम डर ठाकुर गांवों में नहीं है. मई में तीन बार झड़पें हुईं हैं जिनमें ठाकुरों में सुमित की हत्या हुई और दलितों में 19 वर्षीय आशीष की. गोली और तलवारों से दर्जनों घायल हुए हैं.

तनाव बना हुआ है. दोनों समुदाय के लोग एक दूसरों के गांवों और मोहल्लों में नहीं जा रहे हैं.

मीडिया को क्यों नहीं दिखता दलितों का संघर्ष?

'सास-बहू में बिज़ी मीडिया, दलित संघर्ष कैसे देखें?'

Image caption सुनीता हिंसा बंद करने की अपील करती हैं

ऐसे में सुनीता दोनों पक्ष से शांति की अपील करती हैं और कहती हैं कि क़ानून को कोई अपने हाथ में न ले.

सुनीता ने दोनों समुदायों से अपील करते हुए कहा, "मेरे बच्चे यतीम हो गए हैं. हिंसा से दोनों ओर के बच्चे यतीम होंगे. इसे बंद करना चाहिए." वो आपसी दुश्मनी के ख़िलाफ़ हैं .

उनके पति सुमित इसी आपसी दुश्मनी के शिकार हो गए. जब 5 मई को वो अपने घर से सुबह निकले थे तो सुनीता से उन्होंने कहा, "मैं शब्बीरपुर अपनी मासी से मिलने जा रहा हूँ".

सुनीता कहती हैं, "साढ़े ग्यारह बजे फोन आया. उनकी जान मौके पर ही निकल गई थी." परिवार और मोहल्ले वालों ने बताया कि सुमित को पत्थर से पीट-पीट कर मार दिया गया था.

सहारनपुर में फिर भड़की हिंसा, हालात तनावपूर्ण

भीम आर्मी- बेज़ुबानों की आवाज़ या लोकतंत्र को चुनौती?

Image caption सुमित का परिवार शोक में डूबा था

सुनीता दावा करती हैं कि उनके पति की हत्या के पीछे शब्बीरपुर के दलितों का हाथ था, लेकिन इसकी पुष्टि पुलिस ने अब तक नहीं की है.

क्या 23 मई को दलित युवा आशीष की हत्या सुमित की हत्या का बदला था? पुलिस ने कुछ गिरफ्तारियां ज़रुर की हैं लेकिन इस सवाल का जवाब फ़िलहाल किसी के पास नहीं.

'द ग्रेट चमार' का बोर्ड लगाने वाले 'रावण'

मोदी सरकार से 'जनता' पूछ रही है ये 30 सवाल

Image caption सुमित का परिवार

सहारनपुर से भाजपा के सांसद राघव लखनपाल शर्मा कहते हैं अब समय है ज़ख्म भरने का, मरहम लगाने का. लेकिन दोनों समुदायों में सुनीता से अधिक इस सुझाव पर हाथ उठाने वाला इस समय शायद ही कोई मिले.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे