ग्राउंड रिपोर्ट 4: किससे लड़ रही है आज़ाद की भीम आर्मी

  • 30 मई 2017
सहारनपुर

सहारनपुर से लगभग 20 किलोमीटर दूर सरसावन गांव में भीम आर्मी की एक बैठक चल रही है.

बैठक में शामिल लगभग सभी लोग 30 साल से कम उम्र के हैं. अधिकतर पढ़े-लिखे लगते हैं. एक कमरे का ये कार्यालय बीच बाज़ार में है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
सहारनपुर के दलितों की कई शिकायतें हैं और एक संगठन उन शिकायतों को आवाज़ दे रहा है.

बाहर बाबा साहेब आंबेडकर की एक बड़ी तस्वीर लगी है जो कमरे के अंदर वाली तस्वीर से काफ़ी बड़ी है. दरवाज़े पर हिंदी में "भीम आर्मी" लिखा है.

इसके नीचे छोटे अक्षरों में "भारत एकता मिशन" दर्ज है. लोगों के अंदर आने-जाने का सिलसिला लगा रहता है.

'मुस्लिम हिंदू समझकर काटते हैं, हिंदू चमार समझकर'

जात-पात की लड़ाई में नहीं मारा गया दलित युवक?

भीम आर्मी

कमरे में पंखे की आवाज़ जितनी तेज़ है, इसकी गति उतनी ही धीमी.

यहाँ मौजूद लोग पसीने से नहा रहे हैं लेकिन अपनी एकाग्रता नहीं खोते हैं. अपनी बातें पूरे आत्मविश्वास के साथ कहते हैं.

भीम आर्मी के सरसावन क़स्बे के अध्यक्ष अलोक लोहानी कहते हैं, "आस-पास के गांवों में अब भी छुआ-छूत आम है. वो हम से कहते हैं कि भाई ये चमार है, इसे पीछे बैठा दो."

अलोक के एक दबंग साथी ने कहा, "ये ठाकुर लोग दलितों की शादियों में बारात अपने इलाक़े से गुज़रने नहीं देते."

ये हैं दलितों के नए चेहरे, उनकी नई आवाज़. भीम आर्मी इन दिनों सुर्ख़ियों में है.

इसके संस्थापक हैं चंद्रशेकर आज़ाद जिन्हें हिंसा में शामिल होने के इल्ज़ाम में पुलिस तलाश कर रही है.

ग्राउंड रिपोर्ट-2: सहारनपुर में दलित ही नहीं, ठाकुर भी डरे हुए हैं

सहारनपुर में मोबाइल इंटरनेट बैन

Image caption भीम आर्मी के सरसावन क़स्बे के अध्यक्ष अलोक लोहानी

दलित-ठाकुर हिंसा

इस महीने के शुरू में दलित-ठाकुर हिंसा से पहले भीम आर्मी का शायद ही किसी ने नाम सुना हो.

यहाँ के स्थानीय पत्रकारों ने भी मुझसे ज़ोर देकर कहा कि उन्होंने न तो भीम आर्मी और न ही इसके संस्थापक चंद्रशेखर आज़ाद का नाम इस महीने से पहले कभी सुना था.

पांच मई को एक धार्मिक जुलूस को लेकर सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में ठाकुरों और दलितों में झड़पें हुईं.

इस हिंसा में दलितों के 50 से अधिक घर जला दिए गए और एक ठाकुर युवक मारा गया.

सहारनपुर हिंसाः जो बातें अब तक पता हैं

नज़रिया: जनाधार खिसकने के डर से सहारनपुर पहुंचीं मायावती

चंद्रशेखर आज़ाद

अगले कुछ दिनों में भीम आर्मी काफ़ी सक्रिय हो गई. इसने 9 मई को सहारनपुर के गांधी पार्क में एक विरोध प्रदर्शन का आयोजन किया.

इस प्रदर्शन में सहारनपुर ज़िले से क़रीब हज़ार प्रदर्शनकारी इकट्ठा हो गए लेकिन प्रशासन की इजाज़त न होने के कारण पुलिस ने इसे रोकने की कोशिश की.

भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आज़ाद ने बीबीसी को बताया था कि प्रशासन की ओर से अनुमति न मिलने के कारण प्रदर्शनकारियों में आक्रोश बढ़ा और कई जगहों पर भीड़ और पुलिस में झड़पें हुईं.

इस दौरान एक पुलिस चौकी फूंक दी गई, एक बस को जला दिया गया और कई वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया.

भीम आर्मी यहीं से सुर्ख़ियों में पहली बार आई. पहली बार पुलिस ने इसके नेताओं के नाम मुक़दमे दर्ज किए. इनके कुछ लोग गिरफ्तार भी किए गए.

इनमें से एक अलोक लोहानी भी थे जो हमारी मुलाक़ात से कुछ दिन पहले ही ज़मानत पर रिहा हुए हैं.

सहारनपुर में फिर भड़की हिंसा, हालात तनावपूर्ण

मीडिया को क्यों नहीं दिखता दलितों का संघर्ष?

इमेज कॉपीरइट Dalit Camera

पुलिस का आरोप

अलोक लोहानी के साथी रमाकांत कहते हैं कि भीम आर्मी की स्थापना दो साल पहले दलित युवाओं को एकजुट करने और इन्हें पढाई में मदद के लिए हुई थी.

उन्होंने कहा, "हमारे लोग 100- 50 रुपए चंदा देते हैं जिससे संगठन 300 स्कूल चलाता है जहाँ दलित युवाओं को शिक्षा दी जाती है."

अब इसकी शाखाएं सात राज्यों में हैं लेकिन ये सहारनपुर में अधिक सक्रिय हैं.

उत्तर प्रदेश के एक उच्च पुलिस अधिकारी अमिताभ यश ने भीम आर्मी के खिलाफ हिंसा में शामिल होने के सबूत मिलने का दावा किया है.

लेकिन संगठन के सभी लोग इससे इनकार करते हैं. हाँ वो ये ज़रूर स्वीकार करते हैं कि भीम आर्मी ने 5 मई के दिन दलितों पर हुए हमले के खिलाफ प्रदर्शन ज़रूर किया था लेकिन हिंसा में इसके सदस्य शामिल नहीं थे.

दलितों का प्रदर्शन, 'संघ'वाद से आज़ादी के नारे

'आरक्षण हटाओ लेकिन पहले ख़त्म हो जाति व्यवस्था'

नक्सलाइट शब्द का इस्तेमाल

प्रशासन और पुलिस में भीम आर्मी के लिए नक्सलाइट शब्द का इस्तेमाल किया जा रहा है.

अलोक लोहानी प्रशासन और पुलिस के खिलाफ भेद-भाव का इल्ज़ाम लगाते हैं, "शिव सेना और हिंदू युवा वाहिनी हथियार उठा सकती है. हम प्रदर्शन भी नहीं कर सकते? हमें नक्सलाइट कहा जा रहा है जो बिल्कुल ग़लत है."

भीम आर्मी दलितों का नया चेहरा ज़रूर है लेकिन वो ऐसा इकलौता संगठन नहीं.

उत्तर भारत में ही इस तरह के कई संगठन हैं, जिनमें भीम सेना, दलित चेतना विकास समिति, बहुजन मुक्ति पार्टी और राष्ट्रीय दलित महासभा ख़ास हैं.

महाराष्ट्र, गुजरात और राजस्थान में भी दलित युवा एकता के नाम पर संगठन बना रहे हैं.

समाजशास्त्रियों के अनुसार मायावती जैसी दलित लीडरशिप दलितों के नए चेहरों को नहीं पहचानती, इनके बीच पीढ़ीगत फासले हैं.

तीन साल के जश्न में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस तो करें मोदी

'हमें तो ये हिंदू ही नहीं मानते वरना ऐसा बर्ताव करते'

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
क्या है भीम आर्मी और किसने बनाई?

मोदी समर्थक

अलोक लोहानी के अनुसार, "अगर मायावती, दूसरे दलित नेता और बीजेपी के अंदर दलित सांसद हमारे साथ होते तो ये दिन न देखने पड़ते."

भीम सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल भारती के विचार में भी नए दलित संगठनों की स्थापना के पीछे मायावती समेत दलित नेताओं की नाकाम लीडरशिप है.

इसीलिए जब 23 मई को मायवती ने शब्बीरपुर का दौरा किया तो उन्होंने भीम आर्मी जैसे संगठनों पर बीजेपी की बी टीम होने का इल्ज़ाम लगाया.

इस पर सहारनपुर से बीजेपी के सांसद राघव लखनपाल शर्मा ज़ोर से हँसे और कहा ये सब राज्य सरकार को बदनाम करने की एक साज़िश है.

अलोक लोहानी और उनके कई साथियों ने स्वीकार किया कि वो मोदी समर्थक थे.

सहारनपुर में दो समुदायों में संघर्ष, एक की मौत

'एसएसपी के मकान पर हमला, पुलिस के मनोबल का क्या'

मायावती के खिलाफ

उन्होंने कहा, "हमने लोक सभा और हाल में असेंबली चुनावों में दुनिया भर में लोकप्रिय नेता मायावती के ख़िलाफ़ मोदी को वोट दिया. बीजेपी को वोट दिया. लेकिन योगी आदित्यनाथ सरकार हमारे ख़िलाफ़ हो गई है."

उनके अनुसार हर नेता और हर पार्टी दलित को केवल चुनाव के समय पूछती है, "चुनवा के बाद वो हमें पहचानते भी नहीं."

भीम आर्मी और इस तरह के दूसरे कई दलित संगठनों की स्थापना के पीछे यही दलित-विरोधी सोच है.

लेकिन क्या ये संगठन दलितों को एकजुट करने में कामयाब हुए हैं? इसका जवाब कुछ समय बाद ही मिल सकेगा.

'ख़ौफ़ देखा है मैंने अपने दोनों बच्चों की आंखों में'

योगीराज में क़ानून की व्यवस्था या अव्यवस्था?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
क्यों भड़की सहारनपुर में हिंसा

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे