मुर्दाघर में गाय मरी, लड़की का पोस्टमॉर्टम हुआ बाहर

मध्य प्रदेश में एक अजीब तरह के मामले में एक सरकारी अस्पताल के मुर्दाघर में एक गाय की मौत की वजह से डॉक्टरों को एक लड़की का पोस्टमॉर्टम खुले में करना पड़ा.

अधिकारियों ने बताया कि इस घटना पर हंगामे के बाद अस्पताल के प्रभारी को उनके पद से हटाने का फ़ैसला किया गया है.

ये घटना मध्य प्रदेश के गाडरवारा शहर की है जहाँ 14 वर्ष की एक लड़की का शव का पोस्टमॉर्टम किया जाना था जिसकी करंट लगने से मौत हो गई थी.

नरसिंहपुर ज़िले के चीफ़ मेडिकल हेल्थ ऑफ़िसर डॉक्टर आर पी फ़ौजदार ने बीबीसी को बताया कि दरअसल मुर्दाघर का दरवाज़ा ख़ुला था जिससे एक गाय वहाँ घुस गई और बाद में उसकी वहीं मौत हो गई.

उसकी लाश हटाने के लिए अस्पताल के प्रभारी ने नगरपालिका के साथ काग़ज़ी कार्रवाई की जिसमें देर हो गई.

गाय की लाश वहाँ दो-तीन दिन तक पड़ी रही जिससे वहाँ दुर्गंध आने लगी. इसी बीच सोमवार रात को मृत लड़की का शव पोस्टमॉर्टम के लिए आ गया.

मुर्दाघर की स्थिति को देखते हुए अगले दिन डॉक्टरों ने अस्पताल के बाहर ही पोस्टमॉर्टम कर दिया.

आसान नहीं शवों को खोल कर देखना

'गाय बीमारी से मरी, तब भी मुझ पर केस दर्ज होगा'

अधिकारी के ख़िलाफ़ कार्रवाई

डॉक्टर फ़ौजदार ने कहा, "जो हुआ वो बिल्कुल ग़लत हुआ, ये कोई तरीक़ा ही नहीं है, उन्हें पूछना चाहिए था. "

उन्होंने बताया कि इस बात का पता चलते ही ऊपर के अधिकारियों ने उनसे स्थिति जाननी चाही जिसके बाद उन्होंने ख़ुद गाडरवारा जाकर जाँच की.

उन्होंने बताया, "केवल एक छोटा सा कुंडा लगाने से समस्या ही नहीं होती, हम इतना बड़ा बजट देते हैं, एक कुंडा नहीं लगवाया जिससे गाय घुस गई, वो मर गई, तीन-चार दिन तक लिखा-पढ़ी करते रहे, उसको उठवा नहीं सके, और उसके बाद मृत लड़की का शव आया तो पूछना चाहिए था, ये बहुत बड़ी ग़लती है, ऐसा कतई नहीं होना चाहिए था. "

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे