श्रीनगर के पास चरमपंथी हमला, दो सैनिकों की मौत

  • 3 जून 2017
इमेज कॉपीरइट EPA

अपुष्ट ख़बरों के अनुसार शनिवार सुबह को भारत प्रशासित कश्मीर में हुए एक चरमपंथी हमले में कम-से-कम दो सैनिकों की मौत हो गई है और पांच अन्य को गोली लगी है.

सेना के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने हमले की पुष्टि की है और कहा है, "छह जवानों को गोलियां लगी हैं. इनमें से एक गंभीर रूप से घायल हैं."

ये हमला श्रीनगर के नज़दीक काज़ीकुंड के कस्टम चेकप्वाइंट के पास हुआ.

कश्मीर पर अब सवाल नरेंद्र मोदी से पूछा जाएगा

'पीटा, जीप से बांधा और 18 किमी तक घुमाते रहे'

इमेज कॉपीरइट EPA

कश्मीर में हाल में चरमपंथी हिंसा और भारतीय प्रशासन के ख़िलाफ़ सड़कों पर विरोध प्रदर्शनों में तेज़ी देखी जा रही है.

हाल में श्रीनगर में सेना के आला अधिकारियों की एक अहम बैठक हुई थी जिसमें चरमपंथियों से लड़ने के लिए 'रणनीति' तैयार करने पर चर्चा हुई.

लगभग एक दर्जन स्थानीय लोगों और विदेशी चरमपंथियों की 'हिट-लिस्ट' जारी की गई और 'सेना को उनके ख़िलाफ़ कार्यवाई करने का' आदेश दिया गया ताकि जून के आख़िर में दक्षिण कश्मीर स्थित एक गुफ़ा तक होने वाली हिंदुओं की तीर्थ यात्रा सुचारू रूप से हो पूरी सके.

पुलिस और सेना के अधिकारियों का मानना है कि कश्मीर के उत्तर और दक्षिण के इलाकों में कम से कम 200 चरमपंथी सक्रीय हैं.

'कश्मीरियों का लोकतंत्र से भरोसा उठ रहा है'

बीते साल जुलाई में हिज़बुल मुजाहिद्दीन कमांडर बुरहान वाली की मौत के बाद से घाटी में हिंसा का माहौल रहा.

बुरहान वानी की मौत के बाद से घाटी में अब तक लगभग 100 प्रदर्शनकारियों की मौत हो चुकी है और हज़ारों घायल हुए हैं. इनमें से कई पेलेट गन से निकली नकली गोलियों का शिकार हुए.

हिजबुल कमांडर बुरहान वानी की मौत

इंटरनेट के बिना कश्मीरियों का जीवन

बीते साल कई महीनों घाटी में बंद रहा और कामकाज ठप रहा.

सर्दियों के महीनों में कुछ दिनों की शांति के बाद इस साल अप्रैल में एक बार फिर से सड़कों में प्रदर्शन शुरू हो गए. इस दौरान अधिकारियों ने भारतीय संसद की एक खाली सीट के लिए उप-चुनाव करवाया था.

कश्मीर का इलाका जहां कोई वोट देने नहीं आया

'आखिर कश्मीर में कब तक लाशें गिरती रहेंगी?'

इमेज कॉपीरइट AFP

अलगाववादी नेताओं ने मतदाताओं से मतदान का बहिष्कार करने की अपील की. मतदान देने के लिए योग्य मतदाताओं में से मात्र सात फीसदी मतदाताओं ने ही अपने वोट डाले.

अधिकारियों ने तय किया कि अलगाववादियों के विरोध और हथियारबंद हिंसा के ख़िलाफ़ वो सख्ती से निपटेगी.

27 मई को घाटी में फिर से ताज़ा विरोध की ख़बरें आईं, जब त्राल में सुरक्षाबलों के साथ गोलीबारी में हिज़्बुल मुजाहिदीन कमांडर सबज़ार अहमद बट की मौत हो गई. उन्हें बुरहान वानी का करीबी माना जाता था.

कौन हैं बुरहान वानी के करीबी रहे सबज़ार?

प्रेम में नाकाम रहने पर चरमपंथी बने सबज़ार!

कश्मीर: मुठभेड़ में मारा गया बुरहान का साथी सबज़ार

इमेज कॉपीरइट Facebook

भारतीय सरकार आरोप लगाती रही है कि पाकिस्तान कश्मीर में हिंसा का समर्थन करता रहा है और सोशल मीडिया के ज़रिए युवाओं को भड़का रहा है और अलगाववादी दलों के ज़रिए हथियारबंद हिंसा को बढ़ावा दे रहा है.

भारत की जांच एजेंसी एनआईए ने शनिवार को कई अलगाववादी नेताओं के घरों और इलाके के बड़े उद्योगपतियों के घरों पर रेड डाली.

पाकिस्तान प्रायोजित चैनल के ज़रिए ग़ैरकानूनी तरीके से पैसों के लेनदेन के मामले में उनकी भूमिका के संबंध में कम से कम तीन अलगाववदी नेताओं से पूछताछ की जा चुकी है.

'कश्मीर में युवक को जीप से बांधने वाले मेजर सम्मानित'

#UnseenKashmir: कश्मीर की कहानी, सीआरपीएफ़ की ज़बानी

#UnseenKashmir: कश्मीर की अनदेखी, अनसुनी कहानियां

दिल्ली स्थित न्यूज़ चैनल में एक 'स्टिंग ऑपरेशन' दिखाए जाने के बाद सरकार हरकत में आई है.

स्टिंग ऑपरेशन में कथित तौर पर कुछ नेताओं ने कबूल किया था कि घाटी में हिंसा को बढ़ावा देने के लिए उन्हें बड़ी रकम मिली है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे