वेलेंटाइन डे के कारण रेप को बढ़ावा: इंद्रेश कुमार

  • 3 जून 2017
इंद्रेश कुमार इमेज कॉपीरइट PTI

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के नेता इंद्रेश कुमार का मानना है कि 'पश्चिमी' परंरपरा वेलेंटाइंस डे रेप, अवैध बच्चा और औरतों के ख़िलाफ़ हिंसा का लिए ज़िम्मेदार है.

इंद्रेश कुमार ने राजस्थान की राजधानी जयपुर में स्वयंसेवकों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम पूरा होने के बाद उन्हें संबोधित करते हुए यह बात कही.

उन्होंने स्वंयसेवकों को संबोधित करते हुए कहा, ''भारत में प्यार का मतलब पवित्रता से है लेकिन पश्चिमी सभ्यता ने इसका व्यावसायिक रूप दे दिया.

उन्होंने कहा, ''भारत में प्यार का संबंध पवित्रता से है. इसे हम राधा-कृष्ण, लैला-मजनू और हीर-रांझा के गानों में महसूस कर सकते हैं लेकिन पश्चिमी संस्कृति ने इसे व्यावसायिक बना दिया है. वेलेंटाइन डे उसी का एक रूप है और इसी वजह से रेप, अवैध बच्चे और महिलाओं के ख़िलाफ़ हिंसा जैसी वारदात में लगातार बढ़ोतरी हो रही है.''

एनआईए आरएसएस नेता से पूछताछ न कर पाई

इमेज कॉपीरइट Twitter

इंद्रेश कुमार ने कहा, ''भारत ने प्रेम को जिस रूप में प्रस्तुत किया उससे दुनिया में उसे विश्व गुरु का दर्जा मिला. भारत में स्त्री और पुरुषों का संबंध पवित्रता की कसौटी पर है इसलिए इसे भोग और वासना के कारण वेलेंटाइन डे पर सावर्जनिक स्थानों पर प्रकट करने के बजाय उसकी पवित्रता को बनाए रखें. हमें वासना को बढ़ावा नहीं देना चाहिए.''

इंद्रेश कुमार ने कहा कि यदि ऐसा हम करते हैं तो जो नारी पर अत्याचार हो रहा है उस पर रोक लगेगी.

इमेज कॉपीरइट TWITTER

इंद्रेश कुमार ने कहा कि इन समस्याओं से केवल भारत ही नहीं बल्कि पूरा संसार जूझ रहा है. उन्होंने यह भी कहा कि आरएसएस चरित्र निर्माण और शुद्धीकरण का काम करता है.

इंद्रेश कुमार ने कहा कि आरएसएस लोगों में नैतिक मूल्यों को बढ़ावा देता है. उन्होंने कहा कि लोगों में शुद्धीकरण के लिए एक आंदोलन की शुरुआत की जानी चाहिए.

इंद्रेश कुमार ने कहा, ''आत्मा का शुद्धीकरण देश की प्रगति के लिए ज़रूरी है. आरएसएस छुआछूत के ख़िलाफ़ है.'' कुमार ने लोगों से यह भी आग्रह किया कि त्योहारों के दौरान चीनी उत्पादों का बहिष्कार करें. उन्होंने कहा कि चीनी उत्पाद ख़रीदने के कारण करोड़ों भारतीयों की रोजी-रोटी प्रभावित होती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे