नज़रिया- 'धर्मनिरपेक्षता की तह लगाकर उस पर बैठेंगे विपक्षी नेता?'

  • 4 जून 2017
चेन्नई में रैली इमेज कॉपीरइट Imran Qureshi

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी ने 1991 के चुनाव प्रचार के दौरान द्रविड़ मुनेत्र कषगम के भीष्म पितामह एम. करुणानिधि के काले चश्मे का मज़ाक उड़ाया था और पूछा था "काले चश्मे के पीछे क्यों छिपे हो, करुणानिधि जी?" करुणानिधि ने पलट के जवाब दिया - "मैं काला चश्मा ज़रूर पहनता हूँ लेकिन बुलेटप्रूफ़ जैकेट नहीं पहनता."

उसी दौरान श्रीपेरुम्बुदूर में एक रात चुनाव प्रचार के लिए पहुँचे राजीव गाँधी के नज़दीक पहुँच कर लिबरेशन टाइगर्स ऑफ़ तमिल ईलम (एलटीटीई) की एक आत्मघाती बम हमलावर ने राजीव गाँधी की हत्या कर दी.

क़रीब छब्बीस साल बाद उन्हीं राजीव गाँधी के बेटे और काँग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गाँधी कई और विपक्षी नेताओं के साथ काला चश्मा पहनने वाले एम. करुणानिधि का 94वां जन्मदिवस समारोह मनाने के बहाने चेन्नई में जुटे.

करुणानिधि के जन्मदिन के बहाने बीजेपी के ख़िलाफ़ मोर्चाबंदी?

योगी आदित्यनाथ की अयोध्या यात्रा पर बवाल क्यों?

पर इस विपक्षी महाजोट का मक़सद बर्थ-डे ब्वॉय को बधाई देना कम और नरेंद्र मोदी की लाई राजनीतिक सूनामी में ख़ुद को डूबने से बचाने के लिए तिनके तलाशना ज़्यादा था.

इमेज कॉपीरइट Imran Qureshi

हाल ही में हुए पाँच राज्यों के चुनावों में चार राज्यों में भारतीय जनता पार्टी के हाथों हुई चुनावी हार के बाद काँग्रेस और दूसरी विपक्षी पार्टियों के लिए अपने अस्तित्व को बचाने की लड़ाई लड़ना ज़्यादा ज़रूरी हो गया है.

न तो वो प्रभावी तरीक़े से गाय के मुद्दे की काट ढूँढ पा रहे हैं और न ही राष्ट्रभक्ति को मोदी-भक्ति से जोड़ दिए जाने का सही जवाब तलाश पा रहे हैं. इसलिए अब एक बार नए सिरे से बीजेपी के ख़िलाफ़ विपक्षी एकता की कोशिशें हो रही हैं.

क्या लोग भरोसा करेंगे?

काँग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी, राष्ट्रवादी काँग्रेस पार्टी की ओर से माजिद मेमन, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव सीताराम येचुरी, सीपीआई के डी. राजा, नेशनल कांफ़्रेंस के उमर अब्दुल्ला, जनता दल (यूनाइटेड) के नेता और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और तृणमूल काँग्रेस के डेरेक ओब्रायन आदि इस पार्टी में शामिल थे.

इमेज कॉपीरइट Imran Qureshi

चेन्नई में एकजुट ये नेता यूँ तो भारतीय जनता पार्टी के ख़िलाफ़ एक मज़बूत विपक्ष खड़ा करना चाहते हैं लेकिन उनकी इस कोशिश पर देश की जनता का भरोसा कैसे जगेगा जब इनमें से कई नेता बरसों तक भारतीय जनता पार्टी के साथ किसी न किसी मौक़े पर सत्ता में शामिल रहे?

अब वो बीजेपी को देश के धर्मनिरपेक्ष ढाँचे के लिए ख़तरा बताएँगे तो कौन उनकी बात पर भरोसा करेगा और क्यों?

ख़ुद द्रविड़ मुनेत्र कषगम काँग्रेस और बीजेपी के बीच झूलती रही है. वो अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में शामिल रही पर 2003 में हालात को भाँपकर करुणानिधि ने एनडीए से पल्ला झाड़ लिया.

2004 के चुनावों के लिए काँग्रेस से गठबंधन कर लिया. यूपीए -I और यूपीए - II के दस बरसों के शासन के दौरान द्रमुक ने कई बार गठबंधन तोड़ने का फ़ैसला किया और आख़िर में 2014 के आम चुनाव से पहले अपनी धमकी पर अमल भी कर लिया.

बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल (यूनाइटेड) के नेता नीतीश कुमार ने अपने नेता जॉर्ज फ़र्नांडिस के साथ उस दौर में भारतीय जनता पार्टी का दामन थामा था जब बीजेपी बाबरी मस्जिद ढहाने के कलंक से उबरने की कोशिश कर रही थी और लंबे समय तक कोई राजनीतिक पार्टी उसके साथ खड़े होने को तैयार नहीं थी.

और तो और सीताराम येचुरी की मार्क्सवादी कम्यूनिस्ट पार्टी भी विश्वनाथ प्रताप सिंह की सरकार के समर्थन के वक्त बीजेपी के साथ खड़ी थी.

महागठबंधन की बीमारी तो नहीं

इमेज कॉपीरइट Imran Qureshi

बाबरी मस्जिद ध्वंस के बाद भारतीय जनता पार्टी को अलगाव के बियाबान से निकाल कर लाने वालों में जॉर्ज फ़र्नांडिस और नीतीश कुमार दोनों शामिल थे. वाजपेयी के दौर में जब ओडिशा में ईसाई मिशनरी ग्राहम स्टेंस और उनके दो बच्चों को दारा सिंह ने ज़िंदा जलाकर मार दिया था तब जॉर्ज फ़र्नांडिस ने बीजेपी, वाजपेयी सरकार और संघ परिवार का पुरज़ोर बचाव किया था और गोधरा कांड के दौरान नीतीश कुमार वाजपेयी सरकार में रेल मंत्री थे.

आज भी इस विपक्षी एकता की असलियत तब समझ में आती है जब सोनिया गाँधी के लंच में लालू प्रसाद यादव आते हैं तो नीतीश कुमार नहीं पहुँचते. पर अगले ही दिन वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से "बिहार के विषय" पर चर्चा करने के लिए दिल्ली पहुँच जाते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

और अब जब वो करुणानिधि के जन्मदिन समारोह में भाग लेने के लिए चेन्नई पहुँचते हैं तो लालू प्रसाद बीमार पड़ जाते हैं. ये लालू प्रसाद की नहीं बल्कि बिहार के महागठबंधन को लगी बीमारी के संकेत हैं.

विपक्ष के इस जमावड़े की पूर्वी ध्रुव ममता बनर्जी आज पश्चिम बंगाल में बीजेपी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विस्तार की आशंकाओं से ख़ौफ़ज़दा हैं. पर वाममोर्चे के ख़िलाफ़ अपनी जंग में उन्होंने सबसे पहले नब्बे के दशक में पश्चिम बंगाल के स्थानीय चुनावों में भारतीय जनता पार्टी के साथ पर्दे के पीछे हाथ मिलाने में संकोच नहीं किया था.

ये पीवी नरसिंह राव का दौर था जब काँग्रेस में ममता बनर्जी को अलगाव में डालने की शुरुआत हो चुकी थी. उनके सामने एक मज़बूत वाम मोर्चा सरकार थी जिसे उखाड़ फेंकने का संकल्प उन्होंने ले लिया था.

इमेज कॉपीरइट EPA

इस संकल्प को पूरा करने के लिए उन्होंने पहली बार बीजेपी को बंगाल में अपने बीज बोने के लिए खेत मुहैया करवाया. अब बीजेपी का डर उन्हें काँग्रेस और दूसरी विपक्षी पार्टियों के नज़दीक ला रहा है इसीलिए उन्होंने अपनी पार्टी के डेरेक ओब्रायन को चेन्नई भेजा.

धर्मनिरपेक्षता से समझौता होगा या नहीं?

आज बीजेपी के ख़िलाफ़ मोर्चा बनाने को तैयार डॉक्टर फ़ारुख़ अब्दुल्लाह भी संघ परिवार की उस नाव में सवार हुए थे जिसके खेवनहार अटल बिहारी वाजपेयी थे. जब उनसे पूछा जाता था कि बीजेपी का साथ देने का विचारधारात्मक आधार क्या है तो वो जवाब देते थे - जम्मू कश्मीर संवेदनशील राज्य है इसलिए हमें केंद्र के साथ साथ चलना पड़ता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

रहे शरद पवार जिन्होंने महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी को बिना शर्त समर्थन देने का ऐलान किया था, लेकिन जब ये स्पष्ट हो गया कि शिवसेना और बीजेपी की सरकार बनेगी तो उन्होंने कह दिया कि धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांतों से वो क़तई समझौता नहीं करेंगे.

पिछले तीन बरस में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में गाय, सेना, भारत माता, राष्ट्रवाद, लव जिहाद, धर्मांतरण और सबके विकास का जो राजनीतिक नैरेटिव तैयार किया गया है उसमें किसे परवाह है कि शरद पवार या राहुल गाँधी धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांतों से समझौता करेंगे या नहीं करेंगे, या फिर उसकी तह बनाकर उस पर अच्छी तरह से बैठ जाएँगे?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे