बिहार: 12वीं की परीक्षा में किशनगंज के छात्रों ने कैसे किया कमाल?

  • 4 जून 2017
इमेज कॉपीरइट SEETU TEWARI

बिहार के कला संकाय के इंटरमीडिएट परिणाम में महज 37 फ़ीसदी छात्र ही पास हुए है.

लेकिन मुस्लिम बहुल इलाके किशनगंज में कला संकाय के 63 फ़ीसदी छात्र पास हुए है. पास प्रतिशत के लिहाज से ये पूरे बिहार में सबसे ज़्यादा है.

'हम फेल नहीं, बिहार बोर्ड का गणित है कमज़ोर'

बिहार बोर्ड परीक्षा में करीब आठ लाख छात्र फेल

क्या कहते हैं आंकड़े?

किशनगंज में कुल 7355 छात्रों ने यहां इंटर (कला) की परीक्षा दी थी. इनमें से 4635 छात्र पास हुए. 1336 छात्रों को फर्स्ट डिवीजन मिली है जबकि 3007 छात्र सेंकेंड डिवीजन से पास हुए है.

विज्ञान संकाय की बात करें तो 1553 बच्चों ने परीक्षा दी जिसमें से 996 पास हुए. वहीं, कामर्स की बात करें तो 607 बच्चों में से 548 छात्रों ने सफलता पाई.

आबादी के लिहाज से देखें तो 2011 की जनगणना के मुताबिक किशनगंज की आबादी 1,690,948 है जिसमें से 68 फ़ीसदी आबादी मुस्लिम समाज की है. ये आर्थिक सामाजिक और शैक्षणिक तौर पर पिछ़ड़ी हुई है.

ऐसे में बिहार के कितने 'माधव झा' आएंगे सेंट स्टीफ़ेंस

बिहार: टॉपर हिरासत में, रिज़ल्ट निलंबित

साक्षरता दर की बात करें तो ये 57 फ़ीसदी है. किशनगंज के लिए ये उपलब्धि इसलिए महत्वपूर्ण हो जाती है क्योंकि ये भारत के पिछड़े ज़िलों में से एक है.

इमेज कॉपीरइट SEETU TEWARI

सामाजिक कार्यकर्ता चित्राली बीते चार साल से किशनगंज में लड़कियों की शिक्षा को लेकर ज़िले के दो ब्लाक बहादुरगंज और कोचाधामन में काम कर रही है.

बकौल चित्राली, "बीते कुछ सालों में सरकारी योजनाओं ने किशनगंज पर ध्यान दिया है. साथ ही मुस्लिम समाज में चेतना बढ़ी है कि उनके यहां के बच्चे भी पढ़ें और मुख्यधारा में शामिल हों.".

इमेज कॉपीरइट BIHARPICTURES.COM
Image caption पटना में विरोध प्रदर्शन

सिर्फ आर्ट्स ही नहीं बल्कि अन्य संकायों में भी किशनगंज के नतीजे अच्छे रहे है.

बिहारः अंडरगार्मेंट्स से नक़ल की कोशिश

किशनगंज में शिक्षा क्षेत्र से जुड़े लोग इसे उपलब्धि के तौर पर देख रहे है. मारवाड़ी कालेज, किशनगंज में हिन्दी के विभागाध्यक्ष सजल प्रसाद कहते हैं, " हमारे लिए बहुत ख़ुशी की बात है कि इतने बुरे दौर में भी हमनें बहुत अच्छा परफॉर्म किया है."

'किशनगंज बहुत पिछड़ा है, ऐसा करिश्मा कैसे?'

शिक्षा क्षेत्र से जुड़े मोहम्मद अब्दुल हफीज से जब ये सवाल किया गया कि किशनगंज बहुत पिछड़ा इलाका है तो उससे ऐसे करिश्मे की उम्मीद कैसे की जाए.

हफीज़ बहुत ठोस वजह तो नहीं बताते लेकिन आत्मविश्वास से लबरेज होकर कहते हैं, "पिछड़ा है तो क्या उठेगा नहीं. पिछड़ा है तो हालात बदलने की कोशिश भी करेगा और किशनगंज भी कर ही रहा है. वैसे भी पिछड़ा क्या होता है, हमारे देश में तो यूपीएससी टॉपर भी अब पिछड़े समाज से आ रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट SHAILENDRA KUMAR
Image caption 30 मई को नतीजे घोषित करते बोर्ड के अधिकारी

बीजेपी ने किशनगंज की सफलता पर उठाए सवाल

बीजेपी नेता सुशील मोदी ने प्रेस नोट जारी करके किशनगंज के पास प्रतिशत को लेकर सवाल उठाए है.

उनके मुताबिक, "सरकार बताए कि बिहार के सबसे पिछड़े ज़िले किशनगंज में इंटर आर्ट्स में 63. 46 प्रतिशत को बगल के अररिया में 24 प्रतिशत छात्र ही क्यों पास हुए?"

बता दें कि इंटर आर्टस में नालंदा का रिज़ल्ट 24 फ़ीसदी, पटना का 34 फ़ीसदी रहा जबकि वैशाली जिले के नतीजे सबसे खराब रहे जहां सिर्फ 11.55 फ़ीसदी बच्चे ही पास हुए.

सुशील कुमार मोदी जो सवाल उठा रहे हैं उसे बिहार बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष एके पी यादव के तर्क भी ताक़त देते हैं.

इमेज कॉपीरइट SEETU TEWARI

वह कहते हैं, "किशनगंज बहुत पिछड़ा ज़िला है वहां जब इस तरह का रिजल्ट आता है तो उनके दो मायने निकाले जा सकते हैं. पहला तो ये कि या तो वहां एडमिनिस्ट्रेशन ने सख्ती नहीं बरती और नकल हुई. दूसरा ये हो सकता है कि कॉपियों की बारकोडिंग ना हुई हो. अब किशनगंज की कॉपियों की बारकोडिंग हुई है या नहीं, ये बोर्ड बता सकता है."

क्या कहते हैं बिहार बोर्ड के अध्यक्ष?

बिहार बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर से जब किशनगंज की परफारमेंस को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने बताया, "अभी तक बोर्ड ने ज़िला स्तर पर रिज़ल्ट की समीक्षा नहीं की है, समीक्षा जब गहन स्तर पर होगी तभी कुछ कह पाना संभव होगा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे