जेवर गैंगरेप की पीड़ित महिलाओं ने की ख़ुदकुशी की कोशिश

जेवर इमेज कॉपीरइट SAMIRATMAJ MISHRA

यमुना एक्‍सप्रेस-वे पर जेवर के पास पिछले महीने हुई कथित गैंगरेप की घटना में चारों पीड़ित महिलाओं ने अब तक कोई कार्रवाई न होने के चलते रविवार को आत्महत्या की कोशिश की.

कहा जा रहा है कि एक महिला ने फांसी लगाकर तो तीन महिलाओं ने आग लगाकर ख़ुद को ख़त्म करने की कोशिश की, लेकिन समय रहते उन्हें बचा लिया गया.

24 मई को ग्रेटर नोएडा में जेवर के पास हाईवे पर कुछ हथियारबंद बदमाशों ने कार से जा रहे दो परिवारों की चार महिला सदस्यों के साथ कथित रूप से गैंग रेप किया. कार पर कुल आठ लोग सवार थे जिनमें चार महिलाएं थीं.

इन लोगों से लूटपाट भी की गई थी. लूटपाट का विरोध करने पर बदमाशों ने परिवार के मुखिया की गोली मार कर हत्या कर दी थी.

'... वो मेरे बच्चे को गोली मारने जा रहे थे'

'कनपटी पर बंदूक तानी और औरतों से रेप किया'

घटना में मारे गए शकील कुरैशी के भाई वकील ने बीबीसी को बताया, "हम लोग मुख्यमंत्री तक से गुहार लगा चुके हैं, लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई है. औरतों को ज़लालत अलग झेलनी पड़ रही है. इन्हीं सबसे तंग आकर महिलाओं ने आग लगा ली, लेकिन उन्हें बचा लिया गया. पड़ोस में रहने वाली दूसरी पीड़ित महिला ने देर रात फांसी लगाने की कोशिश की, लेकिन घर वालों ने देख लिया जिससे वो बच गईं."

इमेज कॉपीरइट SAMIRATMAJ MISHRA

हालांकि पुलिस पीड़ित महिलाओं की आत्महत्या की कोशिश की ख़बर की पुष्टि नहीं कर रही है.

जेवर के पुलिस क्षेत्राधिकारी दिलीप सिंह ने बीबीसी को बताया, "मैं रविवार को पीड़ित परिवारवालों के यहां गया था, लेकिन मुझे इस तरह की कोई जानकारी नहीं है."

पीड़ित परिवार का आरोप है कि पुलिस और प्रशासन के लोग जानबूझकर घटना की तह में नहीं जाना चाहते हैं. फांसी लगाने की कोशिश करने वाली पीड़ित महिला उस कार चालक की पत्नी है जिस पर बैठकर पीड़ित परिवार के लोग बुलंदशहर जा रहे थे.

इमेज कॉपीरइट SAMIRATMAJ MISHRA

यह महिला अपने पति के साथ किराये के मकान में रहती है. गैंगरेप कांड का शिकार हुईं अन्य तीन पीड़ित महिलाएं भी पास में ही रहती हैं. पीड़ित परिवार ने पिछले दिनों लखनऊ में मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी से भी मुलाक़ात की थी, लेकिन अभी तक इस मामले में कोई ठोस कार्रवाई नहीं हो सकी है.

हाइवे पर रेप, डकैती, हत्याएं क्यों नहीं रुकतीं?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे