महाराष्ट्र: सिर मुंडवा कर किसानों ने किया विरोध

इमेज कॉपीरइट Ashwin aghor

महाराष्ट्र के किसानों ने अपने हड़ताल के पांचवे दिन महाराष्ट्र बंद का ऐलान किया था. मुंबई के अलावा राज्य के हर शहर में बंद का ऐलान था.

इस बंद का मिलाजुला असर देखने को मिला. कहीं इसका शत-प्रतिशत असर था तो कहीं कुछ भी नहीं.

राज्य के हर इलाके में किसी भी तरह के अनुचित घटना को टालने के लिए भारी पुलिस बंदोबस्त तैनात किया गया. कई जगह गुस्साई भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया और कई आंदोलनकारियों को हिरासत में लिया.

लेकिन इस बंद का मुंबई पर कोई असर नहीं पड़ा, क्योंकि सोमवार के बंद से मुंबई को बाहर रखा गया था.

क्यों फूटा महाराष्ट्र में किसानों का गुस्सा?

महाराष्ट्र में हड़ताल पर किसान, भारी संकट की आशंका

इमेज कॉपीरइट Ashwin aghor
Image caption पुतला फूंक कर किसानों ने विरोध दर्ज किया.

नासिक ज़िले के लासलगांव, कलवन समेत छह मुख्य सब्जी मंडियां बंद थीं. जगह जगह रास्ता रोको किया गया. ज़िले के मखमलाबाद तथा मातोरी गांव के लोगों ने सब्जी और टायर रास्ते पर डालकर रास्ता रोके रखा.

महाराष्ट्र बंद के दौरान अनुचित घटना की आशंका को देखते हुए प्रशासन ने नांदेड़ ज़िले के अर्धापुर तहसील में कड़ा पुलिस बंदोबस्त तैनात किया था. फिर भी ज़िले के भोकर तहसील में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस तथा कृषि राज्य मंत्री सदाभाऊ खोत के पुतलों का दहन किया गया.

नांदेड़ ज़िले के लगभग सभी तहसीलों में बंद का असर रहा. कई जगह सब्जी मंडियां और दूसरी दुकानें पूरी तरह बंद रखी गई.

इमेज कॉपीरइट Ashwin aghor

यवतमाल ज़िले के किसानों ने अपना सिर मुंडवा सरकार का विरोध किया. अहमदनगर ज़िले में बंद का असर शत-प्रतिशत रहा. धुलिया ज़िले में किसानों ने धुलिया-सूरत महामार्ग पर रास्ता रोका. पश्चिम महाराष्ट्र में बंद का काफी असर दिखा. सांगली, सतारा, पुणे तथा कोल्हापुर ज़िलों में रोजमर्रा के सारे काम आज बंद थे.

बंद की वजह से औरंगाबाद कृषि उपज बाज़ार समिति में हर दिन के मुकाबले केवल 25 प्रतिशत सब्जी तथा फलों की आवक हुई. जिसके चलते यहाँ सब्जी तथा फलों के दाम बढ़े हुए थे.

जहां एक ओर इस बंद का शत-प्रतिशत असर रहा, वहीं कई जगह यह पूरी तरह से विफल रहा.

इमेज कॉपीरइट ASHWIN AGHOR

कोंकण के सिंधु दुर्ग तथा रायगढ़ ज़िलों में बंद का कोई असर नहीं था. पनवेल कृषि उपज बाजार समिति में हालाकी आवक कम थी, लेकिन बाज़ार पर उसका कोई ख़ास असर नहीं हुआ.

कोल्हापुर ज़िले के 3000 वकीलों ने किसानों के आन्दोलन के समर्थन में आज कम बंद रखा. विदर्भ के ज़्यादातर इलाकों में इस बंद का मिलाजुला असर रहा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे