भीम आर्मी चीफ़ चंद्रशेखर गिरफ़्तार

  • 8 जून 2017
इमेज कॉपीरइट CHANDRASHEKHAR
Image caption चंद्रशेखर आजाद 'रावण'

भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद 'रावण' को उत्तर प्रदेश पुलिस ने हिमाचल प्रदेश के डलहौजी से गिरफ्तार किया है.

चंबा जिले के एसपी वीरेंद्र तोमर ने बीबीसी से बात करते हुए इस बात की पुष्टि की है कि उत्तर प्रदेश पुलिस की एक टीम चंद्रशेखर को गिरफ्तार करके ले गई है.

'द ग्रेट चमार' का बोर्ड लगाने वाले 'रावण'

'जो ख़ुद को हिंदू न माने उसे नक्सली माना जाए?'

इससे पहले बुधवार को भी पुलिस ने भीम आर्मी के दो पदाधिकारियों को गिरफ्तार किया था. दोनों पर

पुलिस चौकी में आगजनी, तोड़फोड़, पुलिस और मीडिया पर हमले का आरोप है.

पांच मई को शब्बीरपुर गांव में दलितों के घर जलाए जाने के चार दिन बाद सहारनपुर में दलितों के प्रदर्शन हुए थे. इसके बाद चंद्रशेखर पर कथित रूप से हिंसा भड़काने को लेकर पुलिस ने एफ़आईआर दर्ज की है.

हिंसक झड़प के दौरान एक राजपूत युवक की मौत हो गई थी.

Image caption पांच मई को सहारनपुर से 25 किलोमीटर दूर शब्बीरपुर गांव में दलितों के 25 घर जला दिए गए थे

हिंसक प्रदर्शन के बाद पुलिस ने भीम आर्मी और नक्सलियों के बीच संबंधों की जांच कराए जाने की बात कही थी.

राजपूत समुदाय की ओर से चंद्रशेखर के नक्सलियों से कथित संबंधों को लेकर ज़िला प्रशासन के पास शिकायत भी की गई है.

दलित छात्रों के साथ 'भेदभाव' पर बनी थोराट रिपोर्ट क्या कहती है?

लेकिन चंद्रशेखर का दावा है- "हम अपने समुदाय के लिए संघर्ष कर रहे हैं. संविधान के दायरे में रहकर हक़ की आवाज़ उठाने पर प्रशासन मुझे नक्सली कहता है, तो मुझे इससे कोई गुरेज़ नहीं."

देहरादून से लॉ की पढ़ाई करने वाले चंद्रशेखर खुद को 'रावण' कहलाना पसंद करते हैं. इसके पीछे वो तर्क देते हैं- "रावण अपनी बहन शूर्पनखा के अपमान के कारण सीता को उठा लाता है लेकिन उनको भी सम्मान के साथ रखता है."

चंद्रशेखर कहते हैं, "भले ही रावण का नकारात्मक चित्रण किया जाता रहा हो लेकिन जो व्यक्ति अपनी बहन के सम्मान के लिए लड़ सकता हो और अपना सब कुछ दांव पर लगा सकता हो वो ग़लत कैसे हो सकता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे