आधारः दो तरह की बातें क्यों कर रही है सरकार?

  • 10 जून 2017
आधार इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत की सर्वोच्च अदालत ने शुक्रवार को कहा कि संविधान पीठ के अंतिम फ़ैसले तक आयकर रिटर्न के लिए आधार कार्ड को अनिवार्य नहीं किया जा सकता है.

लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने सरकारी आदेश का समर्थन करते हुए यह भी कहा कि जिनके पास आधार कार्ड है, उन्हें इसे पैन कार्ड से जोड़ना होगा.

आधार कार्ड पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले में क्या है

आधार कार्ड ना बनवाने की सात वजहें

हालांकि सिटीज़न फ़ोरम फ़ॉर सिविल लिबरेशन के सदस्य और संसद की वित्त संबंधी स्थाई समिति के सामने विशेषज्ञ की हैसियत से पेश हो चुके डॉक्टर गोपालकृष्ण ने कहा है कि सरकार आधार पर दोहरा रवैया अपना रही है.

बीबीसी के रेडियो एडिटर राजेश जोशी से बातचीत में डॉक्टर गोपालकृष्ण ने कहा कि मूल रूप से आधार सूचना के अधिकार के उलट है और इस तरह सूचनाएं इकट्ठा करने का काम कई देशों में पहले ही रोका जा चुका है. पढ़ें बातचीत के अंश-

इमेज कॉपीरइट PTI

कोर्ट का आदेश क्या कहता है?

  • डॉक्टर गोपालकृष्ण ने कहा- यह आदेश साफ़ कर देता है कि बिना सवाल पूछे आधार बनवाने के लिए लाइनों में खड़े लोगों को कोर्ट कोई राहत नहीं देने वाला है.
  • जिन लोगों ने मानवाधिकारों और मनुष्य के मूलभूत अधिकारों को मुद्दा बनाकर कोर्ट से आधार कार्ड के ख़िलाफ़ फ़रियाद की थी और कहा था कि उनसे ज़बरन हाथों और उंगलियों के निशान आदि लिए जा रहे हैं, उन लोगों को कोर्ट ने यह कहते हुए राहत दी है कि कार्ड उन लोगों के लिए बाध्यकारी नहीं है. यह राहत अंतरिम तौर पर दी गई है.
  • आधार एक्ट और सुप्रीम कोर्ट का यह फ़ैसला लगभग एक ही भाषा में बात करते दिख रहे हैं.
  • कोर्ट के इस फ़ैसले से यह प्रतीत हो रहा है कि सरकार की ओर से अटॉर्नी जनरल ने आधार को लेकर जो तर्क रखे हैं, उससे कोर्ट आंशिक रूप से सहमत हो गया है.
इमेज कॉपीरइट MANSI THAPLIYAL

आधार से डर किस बात का है?

  • डॉक्टर गोपालकृष्ण कहते हैं कि आधार जैसी परियोजना चीन, जर्मनी, ब्रिटेन, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, फ्रांस और फिलिपींस जैसे विकसित देशों में पहले ही रोक दी गई है.
  • कानून के सभी जानकार इस बात को मानते हैं कि अतीत में इस तरह से कैदियों की पहचान ली जाती थी. कैदियों की पहचान अब भी ली जाती है और सज़ा पूरी होने पर उसे नष्ट कर दिया जाता है.
  • लेकिन आधार में जिस तरह से पहचान ली जा रही है ये अनंत काल के लिए सरकार अपने पास रखेगी. साथ ही ये आंकड़े अमरीकी और फ़्रांसीसी कंपनियों के साथ साझा भी किए जा सकते हैं.
  • आधार एक्ट के मुताबिक़, सरकार अभी तो सिर्फ़ हाथों, उंगलियों और आंखों के निशान ले रही है. आगे नागरिकों की अन्य जैविक सूचनाएं भी ली जाएंगी. जैसे डीएनए और आवाज़ के सैंपल वगैरह.
  • यह एक्ट सूचना के अधिकार कानून के एकदम विपरीत है.
इमेज कॉपीरइट NOAH SEELAM/AFP/GETTY IMAGES

आधार पर सरकार का दोहरा रवैया

अटॉर्नी जनरल के कहने पर सुप्रीम कोर्ट की न्यायमूर्ति चालमेश्वर की अध्यक्षता वाली तीन जजों की एक पीठ ने 11 अगस्त, 2015 को बायोमेट्रिक पहचान/आधार संख्या मामले की सुनवाई को बीच में ही रोक कर संविधान पीठ को सुपुर्द कर दिया था.

ऐसा इस पीठ ने इसलिए किया क्योंकि अटॉर्नी जनरल ने यह तर्क रखा था कि निजता का अधिकार मौलिक अधिकार है या नहीं इस बारे में केवल सक्षम संविधान पीठ ही सुनवाई कर सकती है.

इमेज कॉपीरइट MANSI THAPLIYAL

मगर अटॉर्नी जनरल को आधार मामले में इसी तीन जजों की पीठ के पास कुछ आदेश लेने के लिए जाना पड़ा था. इस पीठ ने उनको सुनने से यह कहते हुए मना कर दिया था कि इसकी सुनवाई केवल संविधान पीठ ही कर सकती है.

डॉक्टर गोपालकृष्ण कहते हैं कि हैरानी की बात ये है कि सरकार आधार मामले में दोहरा रवैया अपना रही है. सरकार संसद में कहती है कि ये मौलिक अधिकार है और सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस चालमेश्वर को इस पर फ़ैसला देने से रोक दिया कि इस पर संविधान पीठ ही फ़ैसला लेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार