बापू ने सांप्रदायिक ज़हर वाले सांपों पर जीत हासिल की थी- राजमोहन गांधी

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पौत्र राजमोहन गांधी ने शनिवार को कहा कि 'ब्रितानी शेरों' और देश में 'सांप्रदायिक ज़हर वाले सांपों' पर जीत हासिल करने वाला शख्स 'चतुर बनिया' से कहीं अधिक था.

राजमोहन गांधी इन दिनों अमरीका में हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार जीवनीकार और अमरीका की इलिनॉय यूनिवर्सिटी में रिसर्च प्रोफ़ेसर राजमोहन गांधी ने ई-मेल के ज़रिए भेजे गए जवाब में कहा, "जिस व्यक्ति ने ब्रितानी शेरों और सांप्रदायिक ज़हर वाले सांपों पर जीत हासिल की, वह चतुर बनिया से कहीं अधिक था. अमित शाह जैसे लोगों के उलट आज उनका लक्ष्य बेकसूर और कमज़ोर लोगों का शिकार कर रही शक्तियों को पराजित करना होता."

नज़रिया: 'महात्मा' का 'चतुर बनिया' बनना हमें परेशान क्यों नहीं करता?

'बहुत चतुर बनिया था, कांग्रेस की कमज़ोरी जानता था'

इमेज कॉपीरइट AFP

राजमोहन गांधी ने कहा कि शनिवार को महात्मा का लक्ष्य भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से कहीं अलग होता. शाह ने शुक्रवार को रायपुर में एक कार्यक्रम में महात्मा गांधी को 'चतुर बनिया' बताया था.

अमित शाह ने कहा था, "गांधी चतुर बनिया था. गांधी को मालूम था कि कांग्रेस का आगे क्या हश्र होने वाला है, इसीलिए उन्होंने आज़ादी के बाद तुरंत कहा था कि कांग्रेस को बिखेर देना चाहिए. महात्मा गांधी ने नहीं किया, लेकिन अब कुछ लोग उसको बिखेरने का काम समाप्त कर रहे हैं. इसलिए ही कहा था महात्मा गांधी ने, क्योंकि कांग्रेस की कोई आइडियोलॉज़ी ही नहीं थी, सिद्धांतों के आधार पर बनी हुई पार्टी ही नहीं थी."

शाह के चतुर बनिया वाले बयान की निंदा करते हुए विपक्षी पार्टियों ने शनिवार को मांग की कि उन्हें देश से माफी मांगनी चाहिए. साथ ही विपक्षी दलों ने इस बात पर जोर दिया कि अपमानजनक बयान को वापस लिया जाना चाहिए.

सोशल: 'एक बार फिर महात्मा गांधी की हत्या हुई है'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे