अब तक का सबसे कांटे का राष्ट्रपति चुनाव

ज़ाकिर हुसैन इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption ज़ाकिर हुसैन

साल 1969 में राष्ट्रपति चुनाव कराने की नौबत तब आई जब 3 मई को अचानक दिल का दौरा पड़ने से राष्ट्रपति ज़ाकिर हुसैन की मौत हो गई.

उप राष्ट्रपति वराह गिरी वैंकट गिरी कार्यवाहक राष्ट्पति बन गए. इंदिरा गाँधी चाहती थीं कि वो ही राष्ट्पति भी बने.

उधर इंदिरा का आर्थिक नीतियों से परेशान सिंडिकेट की मर्ज़ी थी कि इंदिरा को किसी भी हालत में राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार चुनने की छूट न दी जाए.

उसके लिए इंदिरा को सरेआम अपमानित करने का ये अच्छा मौका था.

अपनी पसंद का राष्ट्रपति उम्मीवार चुनवा कर वो देश को ये भी बताना चाहते थे कि कांग्रेस में चलती किसकी है.

इमेज कॉपीरइट Tim Graham/Fox Photos/Getty Images

इंदिरा गांधी को पेशकश

राष्ट्रपति पद के कांग्रेस अध्यक्ष निजलिंगप्पा की पहली पसंद वित्त मंत्री मोरारजी देसाई थे.

लेकिन जब वो इस मद्दे पर बात करने मोरारजी देसाई के पास गए तो उन्होंने कहा, 'मुझे आप मंत्रिमंडल में ही रहने दीजिए, वर्ना ये औरत देश को कम्यूनिस्टों को बेच देगी.'

उधर जब इंदिरा को पता चला कि कांग्रेस कार्यसमिति गिरि की उम्मीदवारी का समर्थन नहीं करेगी तो उन्होंने जगजीवन राम को इस पद के लिए उतारने के बारे में विचार किया.

लेकिन इस दौरान पता चला कि जगजीवन राम के साथ कई विवाद जुड़े हुए थे. मसलन उन्होंने पिछले दस सालों से अपना टैक्स रिटर्न नहीं फ़ाइल किया था.

कामराज ने अपनी समझ में एक बहुत बड़ा मास्टर स्ट्रोक चलने की कोशिश की जब उन्होंने स्वयं इंदिरा गाँधी को राष्ट्रपति बनाने की पेशकश कर दी.

इमेज कॉपीरइट Twitter @itbp_official
Image caption 1978 में राष्ट्रपति बनने के बाद भारत तिब्बत सीमा पुलिस के एक वेलफ़ेयर सेंटर के दौरे पर नीलम संजीव रेड्डी

नीलम संजीव रेड्डी की उम्मीदवारी

लेकिन वो उनके झाँसे में नहीं आईं. तब कामराज और सिंडिकेट के दूसरे नेताओं ने इस पद के लिए नीलम संजीव रेड्डी को उम्मीदवार बनाने का फ़ैसला किया.

छप्पन वर्षीय रेड्डी उस समय लोकसभाध्यक्ष के पद पर काम कर रहे थे और 1960 और 1962 के बीच कांग्रेस अध्यक्ष भी रह चुके थे.

वो इंदिरा गांधी के मंत्रिमंडल के सदस्य भी थे, लेकिन उन्होंने 1967 के चुनाव के बाद उन्हें अपने कैबिनेट में नहीं लिया था.

रेड्डी के नाम का ऐलान इंदिरा गांधी को बिल्कुल भी हज़म नहीं हुआ.

वो इससे परेशान हो गईं कि उन्होंने उप राष्ट्रपति वी वी गिरि के पास जा कर उन्हें इस पद के लिए लड़ने के लिए तैयार कर लिया.

इमेज कॉपीरइट The President of India Website
Image caption वीवी गिरि

सिंडिकेट के नेता

75 वर्षीय गिरि ने तब सार्वजनिक रूप से ऐलान कर दिया कि अगर कांग्रेस उन्हें अपना उम्मीदवार नहीं भी बनाती तब भी वो निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में राष्ट्रपति का चुनाव लड़ेंगे.

उधर इंदिरा गांधी ने ऐलान किया कि उनके दल के लोग इस चुनाव में अपनी 'अंतरात्मा की आवाज़' पर वोट करें.

चुनावी लड़ाई उस समय दिलचस्प हो गई जब सिंडिकेट के नेताओं ने रेड्डी को जितवाने के लिए दक्षिणपंथी जनसंघ और स्वतंत्र पार्टी से संपर्क किया.

इंदिरा गांधी ने भी सभी मुख्यमंत्रियों से संपर्क कर गिरि को जिताने की अपील की. इनमें उन राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल थे, जहाँ उनकी पार्टी सत्ता में नहीं थी.

16 अगस्त को चुनाव होने के बाद 20 अगस्त, 1969 को वोटों की गिनती शुरू हुई. इंदिरा के बेटे राजीव गांधी का उस दिन जन्म दिन था.

इमेज कॉपीरइट Keystone/Getty Images
Image caption गुलजारी लाल नंदा और के कामराज के साथ इंदिरा गांधी

कामराज कैंप

जब मतों की गिनती शुरू हुई तो कभी गिरी आगे होते तो कभी रेड्डी.

इंदिरा गांधी की नज़दीकी दोस्त पुपुल जयकर उनकी जीवनी में लिखती हैं, 'जब रेडियो पर मतगणना के ट्रेंड आ रहे थे तो मैं इंदिरा से मिलने उनके घर गई. पहले राउंड में गिरि की जीत नहीं हो पाई थी, इसलिए कामराज के कैंप में खुशियाँ मनाई जा रही थीं.

जब मैं वहाँ पहुंची तो इंदिरा 'बीथोवन' का संगीत सुन रही थीं. मैंने उनसे कहा कि दूसरे राउंड की मतगणना का मतलाब है गिरि की हार. वो मुस्करा कर बोलीं, इतना निराश मत हो पुपुल. मुक़ाबला कड़ा है, लेकिन मैं इसके लिए तैयार हूँ.'

पहले राउंड की समाप्ति पर किसी को बहुमत नहीं मिला, फिर दूसरी पसंद के वोटों की गिनती की गई. अंत में इंदिरा के उम्मीदवार वी वी गिरि ने कांग्रेस के आधिकारिक उम्मीदवार नीलम संजीव रेड्डी को सिर्फ़ 14650 मतों के मामूली अंतर से हरा दिया.

इमेज कॉपीरइट Photodivision.gov.in
Image caption मोरारजी देसाई

कांग्रेस का बंटवारा

गिरि को इंदिरा के अलावा कम्यूनिस्टों, अकालियों, निर्दलियों और डीएमके का समर्थन भी मिला.

जो लोग समझते थे कि इंदिरा गांधी एक गूंगी गुड़िया साबित होंगी और उनके इशारों पर चलेंगी, वो ग़लत साबित हुए. इंदिरा उन सब पर भारी पड़ीं.

लेकिन इसके साथ ही कहानी का अंत नहीं हुआ. नवंबर, 1969 में कांग्रेस कार्य समिति की दो समानांतर बैठकें हुई.

एक पार्टी दफ़्तर पर और दूसरी प्रधानमंत्री निवास पर. अपने जन्म के 84 साल बाद पहली बार हुआ कि कांग्रेस दो भागों में विभाजित हो गई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे