ब्लॉगः हिन्दू राष्ट्र में रहने में कोई आपत्ति नहीं

  • 20 जून 2017
बजरंग दल इमेज कॉपीरइट Getty Images

मैं एक भारतीय मुस्लिम की हैसियत से पूरे होश के साथ ये कहना चाहता हूँ कि अगर भारत एक हिन्दू राष्ट्र बन जाए तो मुझे आपत्ति नहीं.

लेकिन गोवा में 14-17 जून को हुए एक सम्मलेन में हिन्दू संगठनों ने जिस हिन्दू राष्ट्र की मांग की है और जिस हिन्दू राष्ट्र की आज कल्पना की जा रही है वो हिंदुत्ववादी राष्ट्र है. मैं एक हिन्दू राष्ट्र में रह सकता हूँ, हिंदुत्ववादी राष्ट्र में नहीं.

'राष्ट्र सर्वोच्च है और राष्ट्र का नाम हिंदू राष्ट्र है'

नज़रिया: आंबेडकर हिंदू राष्ट्र को भारी ख़तरा क्यों मानते थे?

मैंने ये फैसला 1997 में आज़ादी की 50वीं वर्षगांठ के अवसर पर लिया था.

पवित्र शहर आयोध्या में विश्व हिन्दू परिषद् के एक युवा अधिकारी ने मुझसे अपने हिन्दू राष्ट्र की कल्पना शेयर की थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

तेज़ होती हिन्दू राष्ट्र की मांग

उनकी नज़र में अगर मुसलमान और ईसाई अपने हिन्दू पूर्वजों को मानें और वैसा ही करें जैसा उनके पूर्वज करते थे तो वो भारत में रह सकते हैं.

उसके बाद से मैंने इस तरह के विचार को प्रकट करते हुए कई लोगों को सुना है- कभी पूर्वजों को पहचानने और कभी घर वापसी का तर्क देकर.

नज़रिया: 'संघ के हिंदी-हिंदू-हिंदुस्तान की राह पर बीजेपी'

मोदीराज में सेक्युलर राजनीति की जगह नहीं

हिंदुत्ववादी विचारधारा के सत्ता पर काबिज़ होने के बाद से हिन्दू राष्ट्र की मांग बढ़ती जा रही है.

कोई कहता है 2021 तक ये काम पूरा हो जाएगा तो कोई और एलान करता है कि 2023 तक भारत एक हिन्दू राष्ट्र बन जाएगा.

पता नहीं खुले ज़ेहन वाले मेरे हिन्दू दोस्त मुझे क्यों दिलासा देते हैं कि फ़िलहाल बीजेपी के सत्ता में रहने के बावजूद भारत एक हिंदुत्ववादी राष्ट्र नहीं बन सका है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हिंदू भी हो जाएंगे दूसरे दर्ज़े के नागरिक

वो ये स्वीकार करते हैं कि ऐसी कोशिशें हो रही हैं, माहौल तैयार किया जा रहा है, लेकिन अभी ऐसा हुआ नहीं है.

मुझे लगता है कि मुझे दिलासा देने की बजाय वो खुद को इत्मीनान दिलाना चाहते हैं कि भारत हिन्दू राष्ट्र नहीं बनेगा.

उन्हें डर है कि हिंदुत्ववादी राष्ट्र में कट्टरपंथी हिंदू राज करेंगे. उनका विरोध करने वाले हिन्दू भी, अल्पसंख्यकों की तरह, दूसरे दर्जे के शहरी बन कर रह जाएंगे.

मेरे 'सेक्युलर' हिन्दू दोस्त कहते हैं कि हिंदुत्व विचारधारा समाज को बांटने का काम करती है. ये विचारधारा 80 प्रतिशत हिन्दुओं को 14 प्रतिशत मुसलमानों से डराती है, उन्हें असुरक्षित महसूस कराती है.

उनका कहना है कि ये लिंचिंग या पीट-पीट कर मार देने को बढ़ावा देती है. हिंदुत्व का विकास सेकुलरिज़्म का हमेशा विरोध करके हुआ है.

Image caption आरएसएस से जुड़े राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के सदस्य

तरह तरह की परिभाषा

मेरे कई हिन्दू दोस्त कहते हैं कि हिंदुत्व ने हिंदू धर्म का उसी तरह से अपहरण कर लिया है जैसे अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान ने इस्लाम का अपहरण किया हुआ है.

अब धर्म गुरुओं की बजाय वो बताते हैं कि आप अच्छे हिन्दू कैसे बन सकते हैं. अब हिन्दू धर्म की परिभाषा उनसे सुनने को मिलती है.

नेपाल फिर से बनेगा हिंदू राष्ट्र?

फिर ज़ोर पकड़ती हिंदू पहचान

लेकिन मैं अपने युवा पाठकों को बताना चाहूंगा कि अपने देश में हमेशा से ऐसा नहीं था. मैं जब छोटा था तो हिंदुत्व शब्द का इस्तेमाल कभी-कभार हो जाया करता था.

'टाइम्स ऑफ़ इंडिया' के प्रसिद्ध संपादक स्वर्गीय गिरिलाल जैन ने इस शब्द के इस्तेमाल को बढ़ाना शुरू किया था.

ये बाबरी मस्जिद के गिराए जाने से कुछ समय पहले की बात है. आरएसएस का वजूद तो था, लेकिन राष्ट्रीय चेतना के मुख्यधारा में नहीं.

Image caption गौरक्षा के नाम पर कई हिन्दू संगठनें सक्रीय हैं. अक्सर वो क़ानून को अपने हाथों में लेते हैं

हिन्दू धर्म का योगदान

मैं उस समय हिन्दू धर्म को महसूस कर सकता था, हिन्दुओं के सभी त्यौहार में एक भारतीय की तरह हिस्सा लेकर एन्जॉय करता था.

मेरे एक धार्मिक और संस्कारी दोस्त दिनकर पाठक के घर में परिवार के एक सदस्य की तरह मैं समय बिताया करता था.

पड़ताल: गौसेवा करते मोदी और पहलू ख़ान के हमलावर

उनकी नानी इतनी धार्मिक थीं कि चमड़े के इस्तेमाल के कारण नलके का पानी नहीं पिया करती थीं. लेकिन धार्मिक होने के बावजूद कभी तंगनज़री का सबूत नहीं दिया था.

मैंने हिन्दू धर्म की कोख से तो जन्म नहीं लिया, इसकी गोद में परवान ज़रूर चढ़ा हूँ. मेरे विचारों को संवारने में हिन्दू धर्म का योगदान काफी रहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सर्व धर्म समभाव

केंद्र में हिंदुत्व विचारधारा के सत्ता में आने से काफ़ी समय पहले मैं विदेश में रहता था. तब मैं हिन्दू और हिंदुस्तान की आलोचना करने वालों को आड़े हाथों लेता था.

अब भी जब कोई हिंदुत्व और हिन्दू धर्म का नाम एक सांस में लेता है तो मुझे हिन्दू धर्म के बचाव में आना पड़ता है. मैं मुस्लिम समाज में हिन्दू धर्म की वकालत करता हूँ.

दिलचस्प बात ये है कि मेरे ख़िलाफ़ कोई फ़तवा जारी नहीं करता. शायद उन्हें अंदाज़ा है कि मैं अपना ईमान बेच कर हिन्दू धर्म के पक्ष में नहीं आता.

हिन्दू दोस्त भी जानते हैं कि हिन्दू धर्म से मेरा प्यार गहरा है, इस धर्म के प्रति मेरा सम्मान सच्चा है.

हिन्दू धर्म के बारे में एक बात आज भी कही जाती है कि इसका सामान्य सिद्धांत 'सर्व धर्म सांभाव' है, जिसका मतलब है कि सभी धर्म (सत्य) एक दूसरे के समान या सामंजस्यपूर्ण हैं.

हिन्दू धर्म के दर्शनशास्त्र में 'जियो और जीने दो' के महत्व से किसी को इंकार नहीं.

मुझे हिन्दू धर्म को समझने के लिए या इसका आदर करने में किसी हिंदुत्व फ़िलोसोफ़ी की ज़रूरत नहीं.

Image caption भीम आर्मी के दलित युवा हिन्दू राष्ट्र का विरोध करते हैं

हिन्दुइज़्म का असली चेहरा

वैसे भी हिंदुत्ववादियों के जन्म से पहले से भारत एक हिन्दू राष्ट्र नहीं तो हिन्दू समाज ज़रूर रहा है और मुझे इसमें कुछ आश्चर्य नहीं होता.

अगर हिन्दू आबादी का 80 प्रतिशत हैं तो उनकी ही चलेगी. हमारे और आपके रोकने न रोकने से क्या फ़र्क़ पड़ता है.

देश की आज़ादी के समय जैसे पाकिस्तान एक इस्लामी राष्ट्र बना, भारत के पास हिन्दू राष्ट्र बनने का विकल्प था.

लेकिन उस समय संविधान को बनाने वाले अधिकतर विलायत से पढ़ कर आये हिन्दू थे.

उन्होंने भारत की सांस्कृतिक, धार्मिक, जातीय और क्षेत्रीय विविधता को देखते हुए भारत को एक सेक्युलर राष्ट्र बनाया.

मेरे विचार में ये हिन्दू धर्म की एक बड़ी जीत थी. धर्म के नाम पर देश के विभाजन के बावजूद भारत को एक हिन्दू राष्ट्र न घोषित करना हिन्दू धर्म के आत्मविश्वास को जताता था. वो हिन्दुइज़्म का असली चेहरा था.

Image caption कश्मीरी पंडित हमेशा अपने धर्म से जुड़े रहने में गर्व करते हैं

क्या हम पाकिस्तान की राह पर जा रहे हैं?

हिंदुत्ववाद भारत को, अनजाने में ही सही, पाकिस्तान की राह पर ले जाना चाहता है. ज़रा सोचिये क्या आप किसी ऐसे देश की तरफ़ अपने देश को जाने देंगे जहाँ सुन्नी बहुसंख्यक, शिया, हिन्दू और मसीही समुदायों पर आसानी से ज़ुल्म ढाता हो?

हिंदुत्ववादी राष्ट्र बनने से पहले ही गौरक्षा के नाम पर अल्पसंख्यकों को पीट-पीट कर मारा जा रहा है. उस दिशा में जाना कितना सही होगा?

अगर नेपाल वाला हिन्दू राष्ट भारत में आये तो इसका स्वागत है. कुछ साल पहले तक नेपाल सरकारी तौर पर एक हिन्दू राष्ट्र था.

हिन्दू राष्ट्र के अंतर्गत वहां मुस्लिम और दूसरे अल्पसंख्यक खुश थे. अब जब कि नेपाल एक सेक्युलर स्टेट बन चुका है. वहां दूसरे समुदायों के साथ कुछ मुस्लिम नागरिकों ने हिन्दू राष्ट्र की वापसी की मांग की है.

मुझे नेपाल जैसे हिन्दू राष्ट्र में रहने में कोई आपत्ति नहीं. मुझे शिवजी के ज़माने का हिन्दू राष्ट्र भी मंज़ूर है. उनके काल में मुस्लिम प्रजा सुखी थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मुझे लगता है कि हिन्दू राष्ट्र नहीं तो हम हिन्दू समाज में ज़रूर रह रहे हैं. भारत की अधिकतर रीति-रिवाज हिन्दू धर्म से जुड़े हैं.

भारत का अतीत हिन्दू धर्म से जुड़ा है, इसकी संस्कृति हिन्दू धर्म का एक अटूट हिस्सा है.

असली हिन्दू धर्म सेक्युलर है. हम ये सब पहले ही स्थापित कर चुके हैं. संविधान ने जड़ें पकड़ ली हैं. ऐसे में एक हिन्दू राष्ट्र की मांग रस्मी लगती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे