कोविंद की उम्मीदवारी पर क्या कह रहा है विपक्ष

  • 19 जून 2017
इमेज कॉपीरइट biharpictures.com

अगले महीने होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनावों पर सारी अटकटों को विराम लगाते हुए, बीजेपी ने बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को एनडीए की ओर से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाए जाने की घोषणा की है.

नज़रिया: कोविंद ने कैसे दिग्गजों को पछाड़ा?

रामनाथ कोविंद आख़िर हैं कौन

पार्टी प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद का कहना है कि इस बारे में सभी पार्टियों से सलाह मशविरा किया गया था, "प्रधानमंत्री ने इस बारे में खुद सोनिया गांधी को फ़ोन किया था और एक समहमति बनाने की कोशिश की गई थी."

लेकिन कांग्रेस और वामपंथी पार्टियों का कहना है कि बीजेपी ने सर्व सहमति की बात तो की थी लेकिन नाम तय करने को लेकर कोई सलाह मशविरा नहीं किया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

कांग्रेस पार्टी के नेता गुलाम नबी आज़ाद ने कहा कि 'बीजेपी ने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार का नाम तय करते हुए उनसे कोई सलाह मशविरा नहीं की इसलिए समर्थन करने की गुंजाइश नहीं बची.'

इसलिए आसान नहीं है बीजेपी का राष्ट्रपति बनना...

माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने पत्रकारों से कहा, "पहले जब प्रधानमंत्री का संदेश लेकर राजनाथ सिंह और वेंकैया नायडू आए थे उन्होंने कहा था कि सर्वसम्मति से राष्ट्रपति चुना जाना चाहिए."

उनके मुताबिक, "उस समय उनके पास उम्मीदवार का नाम नहीं था. उस समय उन्होंने कहा था कि जब हम तय करेंगे, सलाह मशविरा करने आएंगे. लेकिन अभी उन्होंने नाम की घोषणा कर दी तो उन्होंने सलाह मशविरा की गुंजाइश छोड़ी नहीं."

इमेज कॉपीरइट Pti

बसपा प्रमुख मायावती ने लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस कर कहा, "एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद के दलित होने के नाते उनकी पार्टी का रुख उनके प्रति साकारात्मक रहेगा, बशर्ते यदि विपक्ष की ओर से इस पद के लिए इनसे से भी योग्य उम्मीदवार नहीं उतारा जाता है."

मायावती ने कहा कि 'चूंकि एनडीए ने एक दलित उम्मीदवार उतारा है इसलिए विपक्षी उम्मीदवार को भी एक दलित उम्मीदवार उतारना चाहिए और अगर वो एक गैर राजनीतिक दलित उम्मीदवार उतारता है तो ये अच्छी बात होगी.'

इस बीच, बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड के मुखिया नीतीश कुमार ने कहा है कि 'बिहार के राज्यपाल के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनाए जाने पर उन्हें खुशी' है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उन्होंने पत्रकारों से कहा, "हमारी लालू जी से भी बात हुई है, मैडम सोनिया गांधी का भी फ़ोन आया था. मैंने अपनी बात से उन्हें अवगत कराया है. लेकिन इन सब पर आगे भी बातचीत होगी."

शिवसेना नेता संजय राउत ने पत्रकारों को बताया, "बीजेपी की संसदीय समिति ने राष्ट्रपति पद के लिए रामनाथ कोविंद का नाम तय किया है और भाजपा अध्यक्ष ने उद्धव ठाकरे को इसकी सूचना देते हुए समर्थन मांगा है."

उन्होंने कहा कि 'आज शिवसेना का स्थापना दिवस है और शाम सात बजे उद्धव ठाकरे अपने भाषण में इस मुद्दे पर अपनी स्थिति स्पष्ट करेंगे.'

लोक जन शक्ति पार्टी के नेता और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा है कि 'वो लोग अपने आपको प्रगतिशील मानते हैं उन्हें रामनाथ कोविंद को समर्थन देना चाहिए, और जो नहीं समर्थन करेंगे, उन्हें माना जाएगा कि वो दलित विरोधी हैं.'

उन्होंने ये भी कहा कि 'जो लोग ये कहते नहीं थकते थे कि मोदी सरकार दलित विरोधी है, उनके मुंह पर ये तमाचा है.'

उधर, तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) की नेता के कविता ने कहा है कि उनकी पार्टी एनडीए के उम्मीदवार को समर्थन देगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे