शौच के लिए गई छात्रा के साथ दुष्कर्म, एक गिरफ़्तार

  • 19 जून 2017
रेप
Image caption सांकेतिक तस्वीर

रुख़साना (बदला हुआ नाम) के बाएं हाथ पर सुर्ख़ लाल मेहंदी बहुत खिल रही थी लेकिन उनका हाथ बेजान पड़ा था. वो बिहार की राजधानी पटना के मेडिकल कॉलेज अस्पताल में आईसीयू में भर्ती हैं.

दसवीं में पढ़ने वाली रुख़साना का शरीर सूजा हुआ है. उनके साथ कथित तौर पर दुष्कर्म हुआ है.

कभी-कभार वो एक-दो शब्द कहती हैं. वो बताती हैं कि वो ठीक हैं, उन्हें खाना मिलता है और वो सोना चाहती हैं.

क्या वाक़ई में महिला हितैषी है नीतीश सरकार?

भाई को है न्याय की उम्मीद

आईसीयू के बाहर रुख़सार के बड़े भाई पूछने वालों को पूरी घटना बता रहे हैं. बार-बार बताने पर भी वो थकतं नहीं. बल्कि हर बार जब वो बताते हैं तो उनका ये विश्वास बढ़ता जाता है कि उनकी बहन को न्याय मिलेगा.

इमेज कॉपीरइट Seetu Tewari
Image caption 16 वर्षीय पीड़िता रुख़साना (बदला हुआ नाम)

दरअसल 16 जून को तड़के तक़रीबन ढाई बजे रुख़साना शौच के लिए घर से बाहर निकली थी. बहुत देर तक जब वो वापस नहीं आई तो घरवालों को चिंता हुई.

रुख़साना के बड़े भाई बताते हैं, "हमने उसको ढूंढना शुरू किया. थोड़ी देर बाद मालूम चला कि किऊल स्टेशन पर किसी लड़की को चलती ट्रेन से फेंक दिया गया है."

वो कहते हैं, "मैं जब अपने छोटे भाई के साथ वहां गया तो देखा पटरी पर खून से लथपथ मेरी छोटी गुड़िया रानी ही पड़ी थी."

'यहां बलात्कार की ख़बरें आम हैं, नया क्या है?'

'हर चार घंटे में बलात्कार का एक केस'

सुरक्षा तो दूर की बात इलाज़ भी है मुश्किल

16 साल की रुख़साना के घरवालों ने पहले उनका इलाज स्थानीय स्तर पर ही कराया. लेकिन जब हालात में सुधार नहीं हुआ तो उन्हें 17 जून की रात पटना चिकित्सा महविद्यालय अस्पताल (पीएमसीएच) लाया गया.

इमेज कॉपीरइट Seetu Tewari
Image caption पटना का चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल

रुख़साना के भाई कहते हैं, "हम उसे बिहार के सबसे बड़े अस्पताल ले आए, लेकिन स्त्री विभाग कहता था हम भर्ती नहीं लेंगें और इमरजेंसी कहता था कि हम नहीं लेंगे."

वो बताते हैं, "काफी हो-हंगामा के बाद यहां इमरजेंसी में भर्ती किया गया है. अब गरीब आदमी को इलाज भी नहीं मिलेगा क्या, उसकी बहन बेटियों को सुरक्षा को दूर की बात है."

'बलात्कार' के बाद बेटी की लाश लेकर मेट्रो में सफ़र

रेप करके पाकिस्तान भागने वाले को सज़ा

इमेज कॉपीरइट Seetu Tewari
Image caption पटना का चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल में कोलाहल का माहौल

मेडिकल रिपोर्ट आने पर होगी दुष्कर्म की पुष्टि

घरवालों की मानें तो 6 लोगों ने रुख़साना के साथ दुष्कर्म किया.

रुख़साना के बयान के आधार पर 2 लोगों मिथुनंजय कुमार और संतोष कुमार के खिलाफ़ नामजद एफ़आईआर और 4 अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज कराई गई है.

हाइवे पर रेप, डकैती, हत्याएं क्यों नहीं रुकतीं?

यूपी में दो बहनों का बलात्कार और हत्या

लखीसराय के पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार ने बीबीसी से कहा, "इस मामले में एक व्यक्ति की गिरफ़्तारी हो गई है और दूसरे की तलाश जारी है. अनुसंधान किया जा रहा है और प्राप्त होने वाले तथ्यों के आधार पर ही कार्रवाई होगी. बाकी जहां तक दुष्कर्म की बात है तो इसकी पुष्टि मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट आने के बाद ही होगी."

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सांकेतिक तस्वीर

कई हड्डियां टूटीं लेकिन ख़तरे से बाहर

वहीं, पीएमसीएच के अधीक्षक लखिन्द्र प्रसाद के मुताबिक पीड़िता की हालत अब ख़तरे से बाहर है.

लखिन्द्र प्रसाद ने कहा, "उनको मल्टीपल फ्रैक्चर है लेकिन इंटरनल पार्ट में कोई चोट नहीं है. बाकी गाइनोकोलिजस्ट ने भी उनकी जांच की है और कोई समस्या नहीं है, ऐसा बताया है."

वो कहते हैं, "पीड़िता को ठीक होने में 2 से 3 महीने लगेंगे क्योंकि हड्डियां टूटी हुई है."

वो बच्चे के साथ थी फिर भी रेपिस्टों ने नहीं छोड़ा

SPECIAL REPORT: बलात्कार के मुक़दमे जो शुरू तक नहीं हुए

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK
Image caption सांकेतिक तस्वीर

बीजेपी की मांग- उच्चस्तरीय मेडिकल बोर्ड बने नहीं तो अनशन

पीड़िता से मिलने पहुंची बीजेपी नेता उषा विद्यार्थी के मुताबिक़, "हमारी मांग है कि पीड़िता के इलाज के लिए एक उच्च स्तरीय मेडिकल बोर्ड बने, सभी आरोपियों को कड़ी सजा मिले."

उनका कहना है, "अगर सरकार ये बातें नहीं मानती है तो 21 जून को प्रदेश बीजेपी पटना में अनशन पर बैठेंगें."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे