ब्लॉग: क्या मस्जिदों के लिए लाउडस्पीकर ज़रूरी हैं?

मस्जिद, लाउड स्पीकर इमेज कॉपीरइट Getty Images

उत्तर प्रदेश के पश्चिमी शहर बरेली में कई मुस्लिम और हिंदू लोगों ने स्थानीय प्रशासन से रमज़ान के इस महीने में सहरी के समय रोज़ेदारों को जगाने के लिए लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाने का अनुरोध किया है.

इसके बाद अधिकारियों ने संबंधित मस्जिदों के इमामों को लाउडस्पीकरों की आवाज को मुनासिब हद तक कम करने का निर्देश दिया और कहा गया कि ऐसा नहीं करने पर उनकी मस्जिदों से लाउड स्पीकर हटा दिए जाएंगे.

सुप्रीम कोर्ट ने लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल के लिए एक गाइडलाइन तय कर रखा है. इसके तहत लाउडस्पीकर की आवाज़ की एक सीमा तय की गई थी.

लाउडस्पीकर बजे तो ग़ुस्सा क्यों: मीका

'शुक्र है कि सोनू निगम ने हिम्मत तो दिखाई'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लाउडस्पीकरों का शोर शराबा

इसके अलावा रात दस बजे से सुबह छह बजे तक लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल पर पांबदी लगी हुई है क्योंकि संविधान की धारा 21 के तहत चैन की नींद सोना नागरिकों के अधिकारों के दायरे में आता है.

बरेली में एक शिकायतकर्ता का कहना था कि उनके पिता दिल के मरीज हैं. पिछले साल उनका ऑपरेशन हुआ है. लाउडस्पीकरों के शोर शराबे से उनके पिता और 73 साल की माँ कई रातों से सो नहीं सकी हैं.

उनका कहना है कि चाहे वह मंदिर हो या मस्जिद, किसी को भी दूसरे के आराम में खलल डालने का कोई अधिकार नहीं है.

'मैं मुसलमान नहीं फिर अज़ान से क्यों जगूं?'

अलग है रामनगर की 233 साल पुरानी रामलीला

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
मुझे भी बोलने का हक़ हैः सोनू निगम

गैरमुसलमानों की दिक्कत

पिछले दिनों केरल से खबर आई थी कि मुस्लिम बाहुल मल्लपुरम में कुछ मस्जिदों ने अज़ान के लिए अपनी मर्जी से लाउड स्पीकरों का इस्तेमाल बंद कर दिया था ताकि स्थानीय लोगों, खासकर गैर मुसलमानों को दिक्कत न हो.

अब कुछ दशक पहले तक भारत के मौलवियों में यह बहस छिड़ी हुई थी कि लाउडस्पीकर पर अज़ान देना इस्लामी है या गैर इस्लामी. आज भारत के लाखों मस्जिदों में शायद ही ऐसी कोई मस्जिद हो जहां लाउड स्पीकर न लगे हों.

साल के ग्यारह महीनों में तो केवल अज़ान ही लाउड स्पीकर पर दी जाती है लेकिन रमजान के महीने में तो कई मस्जिदों से लाउडस्पीकर पर तरावीह (एक ख़ास नमाज़) और नमाज़ें भी प्रसारित की जाती हैं. सुबह तीन बजे से ही लाउडस्पीकरों से रोज़ेदारों को पूरी ताकत से जगाने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है.

मंदिर-मस्जिद-गुरुद्वारों में भोंपू क्यों?

सोनू निगम का जवाब, दस लाख तैयार रखो

इमेज कॉपीरइट AFP

मानवीय और धार्मिक कर्तव्य

मंदिरों में सुबह होते ही लाउड स्पीकरों पर भजन कीर्तन और प्रवचन (उपदेश) शुरू हो जाते हैं. धार्मिक प्रतिस्पर्धा और टकराव के इस दौर में लाउडस्पीकरों की आवाज़ और तादाद बढ़ गई है. लाउडस्पीकर अब धार्मिक टकराव और नफरत का एक महत्वपूर्ण स्रोत बन गए हैं.

उनका इस्तेमाल देश के अधिकतर नागरिकों के लिए एक बवाल बन गया है. आज की जटिल और दौड़ती भागती ज़िंदगी में धर्म और अध्यात्म का महत्व पहले से बढ़ गया है लेकिन इबादतगाहों में लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल ने आध्यात्मिकता के शांत माहौल को बेपनाह शोर से अस्त-व्यस्त कर दिया है.

धर्म शांति और प्रेम का संदेश देते हैं. लाउड सपीकरों की आवाज़ के शोर में यह संदेश तो कहीं खो गया, साथ ही लोगों की शांति भी अशांति में बदल गई है. अब समय आ गया है कि मस्जिद और अन्य धर्म स्थल इस हक़ीक़त को समझें कि धर्म और अध्यात्म की सेवा लाउडस्पीकर के बिना भी बेहतर तरीके से हो सकती है.

अगर लाउडस्पीकर से नागरिकों को तकलीफ पहुंच रही है तो उसे हटा देना एक मानवीय और धार्मिक कर्तव्य है.

सोनू ने सिर मुंडाया, मौलवी बोले- 'जूतों की माला पहनें'

'तड़के सोनू निगम के घर के पास कैसी आवाज़ें सुनाई देती हैं'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे