भाजपा ने कहा, 'घरों पर भाजपा लिखने में कुछ ग़लत नहीं'

इमेज कॉपीरइट Shuraih Niyazi

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के कुछ इलाक़ों के घरों के बाहर 'मेरा घर भाजपा का घर' लिखा गया है.

यह सब किया है भाजपा के कार्यकर्ताओं ने जिन्होंने पार्टी में नये सदस्यों को जोड़ने के लिये अभियान चलाया था.

कई कांग्रेसी भी हैं जिनके घर को भाजपा कार्यकर्ताओं ने भाजपा का घर बता दिया.

'पुलिस ने घर में घुसकर हमें पीटा'- 80 वर्षीय कमलाबाई

भोपाल में समलैंगिकों की रंग-बिरंगी परेड

इमेज कॉपीरइट Shuraih Niyazi

प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी का कहना है कि भाजपा अब लोगों के दिलों से उतर गई है, यही वजह है कि वो दीवारों पर इस तरह से लिख कर काम चला रही है.

उन्होंने कहा, "यह बताता है कि भाजपा की सोच क्या है. जो ज़ोर जबर्दस्ती करके कांग्रेस वालों के घर को भी अपना घर बता रहे है. इससे कोई पार्टी को वोट तो नहीं दे देगा."

शहर के शाहपुरा इलाके में रहने वाले कांग्रेस जिला उपाध्यक्ष प्यारे ख़ान की गैरहाज़री में उनके घर के बाहर भी यह लिख दिया गया. उन्होंने बताया,"मैं घर पर नहीं था उस वक़्त यह लिख कर चले गये. घरवालों ने इसका विरोध किया पर वो नही मानें."

संघ की ही उपज हैं मंदसौर के विद्रोही किसान नेता कक्का जी

भोपाल में तलाक़ से ज़्यादा ख़ुला के मामले

इमेज कॉपीरइट Shuraih Niyazi

वहीं उस क्षेत्र में रहने वाले एक अन्य व्यक्ति राजेश चौहान ने बताया, "उन्होंने बगैर हमसे पूछे हमारे घर के बाहर लिख दिया. हमें इन पार्टियों से कोई लेना-देना नहीं है. आख़िर कौन चाहेगा कि घर के बाहर इस तरह लिखा रहे."

वहीं भाजपा के प्रवक्ता राहुल कोठारी इस बात को स्वीकार करते है कि कुछ कार्यकर्ताओं ने उत्साह में लिख दिया होगा. लेकिन उनका यह भी कहना है कि इसमें कुछ भी ग़लत नहीं है.

उन्होंने कहा, "किसी भी तरह से दीवार पर लिखने के लिए पार्टी ने नहीं कहा था. लेकिन अगर लिख भी दिया गया है तो इसमें कुछ ग़लत नहीं है. आख़िर विकास भी उन क्षेत्रों में भाजपा की वजह से ही हो रहा है."

भोपाल- कहां निपटाया जाए ज़हरीला कचरा

12 छात्रों ने रिज़ल्ट से दुखी हो खुदकुशी की

इमेज कॉपीरइट Shuraih Niyazi

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)