मर्सी किलिंग चाहते हैं राजीव गांधी के हत्या के दोषी

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के आरोप में पिछले 26 साल से क़ैद में जीवन गुज़ार रहे रॉबर्ट पायस ने मर्सी किलिंग के लिए तमिलनाडु के अधिकारियों से गुज़ारिश की है.

श्रीलंका के नागरिक रॉबर्ट ने प्रदेश के मुख्यमंत्री ई पलनीसामी को लिखे एक ख़त में कहा है कि उन पर दया कर उन्हें मरने की अनुमति दी जाए और मौत के बाद उनके शव को उनके परिवार को सौंप दिया जाए.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार जेल के एक आला आधिकारी का कहना है, "पायस ने पुज़ल जेल अधिकारियों के ज़रिए सरकार को याचिका सौंपी है."

राजीव गांधी को हो गया था मारे जाने का अंदेशा?

ऐसा था राजीव गांधी का आख़िरी दिन

Image caption यह दृश्य घटनास्थल का राजीव गांधी की हत्या से पहले का है.

रॉबर्ट का कहना है कि उनके परिजन भी अब उनसे मुलाकात के लिए नहीं आते और अब उनके जीवन का कोई उद्देश्य नहीं रहा.

राजीव गांधी की हत्या के संबंध में तमिल टाइगर्स के जिन सात पूर्व सदस्यों को क़ैद की सजा दी गई थी, पायस उनमें से एक हैं.

पायस का कहना है कि तमिलनाडु सरकार उनकी रिहाई की कोशिशें करती रही है. पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता ने भी उन्हें रिहा कराने की कोशिश की थी.

वो इसके लिए केंद्र की मनमोहन सिंह सरकार और अब मौजूदा एनडीए सरकार को दोषी मानते हैं जो उनकी रिहाई का विरोध कर रही है.

वो कहते हैं, "केंद्र चाहता है कि हम जेल में ही मर जाएं."

वो धमाका जिसने राजीव गांधी को मार डाला

नलिनी- 'प्रियंका गांधी बहुत गुस्सा हो गई थीं'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पायस कहते हैं, "तमिलनाडु सरकार और केंद्र सरकार की चुप्पी हमें बता रही है कि हमारी ज़िंदगी जेल में ही ख़त्म हो जानी चाहिए."

वो कहते हैं, "मैं इस नतीजे पर पहुंचा हूं कि अगर मेरे बाहर निकलने की कोई उम्मीद ही नहीं है तो मेरे जीने का कोई मतलब नहीं है."

पायस के मुताबिक, 11 जून को जेल में उनके 26 साल पूरे हो चुके हैं और अब वो यहां अपना 27वां साल काट रहे हैं.

जेल में ही रहेंगे राजीव गांधी के हत्यारे

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
26 साल पहले भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी एक आत्मघाती हमले में मारे गए थे.

पायस कहते हैं, "पहले उन्होंने मौत के बारे में नहीं सोचा था लेकिन अब गंभीरता से मर्सी किलिंग के बारे में सोच रहे हैं."

राजीव गांधी की 21 मई 1991 में दक्षिण भारत के श्री पेरम्बदूर में एक चुनावी रैली के दौरान हत्या कर दी गई थी.

उनकी हत्या के दोष में संथन, मुरूगन, पेरारिवलन, नलिनी, रॉबर्ट पायस, जयकुमार और रविचंद्रन जेल में सज़ा काट रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट HINDUSTAN TIMES
Image caption अगले दिन के अख़बार में राजीव गांधी की हत्या की ख़बर.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे