ऐतिहासिक भूल किए हैं, करने दीजिएः नीतीश

इमेज कॉपीरइट Getty Images

विपक्ष द्वारा गुरुवार को राष्ट्रपति चुनाव के लिए मीरा कुमार की उम्मीदवारी तय होने के बाद लालू प्रसाद यादव ने कहा था कि नीतीश कुमार ने एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का समर्थन कर ऐतिहासिक भूल की है.

शुक्रवार को लालू के यहां इफ्तार में शामिल होने के बाद नीतीश ने इस टिप्पणी का जवाब भी दिया.

उन्होंने इस आरोप पर हल्के-फुल्के अंदाज में कहा, ''कह रहे हैं कि ऐतिहासिक भूल किए हैं, करने दीजिए. छोड़ दीजिए.''

हालांकि इसके तुरंत बाद ही उन्होंने मामले को गंभीरता से संभालते हुए कहा, ''इन बातों में कोई बहुत राजनीति देखने की जरुरत नहीं है. मैं इसको कोई राजनीतिक टकराव का मुद्दा नहीं मानता हूं.''

'सेक्युलर बिहारी' बनाम 'कम्यूनल बाहरी'

नीतीश की मुस्कान से लालू उतने परेशान नहीं, जितने लालू की मुस्कान से नीतीश

बिहार की बेटी को हराने के लिए बनाया उम्मीदवार

गौरतलब है कि राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के उम्मीदवार के रूप में पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार को खड़ा किए जाने के बाद, राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने उन्हें बिहार की बेटी कहा था.

शुक्रवार को पटना में इफ़्तार पार्टी के बाद नीतीश कुमार ने संवाददाताओं से कहा, "मीरा कुमार के प्रति मेरे मन में पूरा सम्मान है, लेकिन बिहार की बेटी को हराने के लिए ही उम्मीदवार बनाया गया है."

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक उन्होंने कहा, "हमने इस तरह के स्वतंत्र फैसले अतीत में भी लिए हैं और जब हम एनडीए में थे तब हमने राष्ट्रपति के रूप में प्रणव दा का समर्थन किया था."

इमेज कॉपीरइट BIHARPICTURES.COM

नीतीश कुमार ने कहा कि सब पार्टी नेताओं से बातचीत करके, सोच समझ कर ही ये निर्णय लिया गया है.

उन्होंने कहा कि 'ये कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं है और इसे राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता का विषय नहीं बनाया जाना चाहिए.'

इससे पहले एनडीए की ओर से दलित पृष्ठभूमि से आने वाले रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित किया गया था. उन्होंने शुक्रवार को अपना नामांकन भी भरा.

एनडीए से अलग बीजू जनता दल, टीआरएस और एआईएडीएमके ने भी उनकी उम्मीदवारी का समर्थन किया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

गुरुवार को जब विपक्ष ने मीरा कुमार के नाम की घोषणा की तो बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए लालू प्रसाद यादव ने एनडीए उम्मीदवार को समर्थन करने के जदयू के फैसले को 'ऐतिहासिक भूल' कहा था.

बिहार में जदयू और राजद मिलकर सरकार चला रहे हैं और नीतीश कुमार के इस फैसले को दोनों दलों के बीच मतभेद के रूप में देखा जा रहा है.

हालांकि लालू प्रसाद यादव ने पहले ही कह दिया है कि उनकी तरफ़ से राज्य की नीतीश सरकार को कोई ख़तरा नहीं पैदा किया जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे