प्रेस रिव्यू: अयूब पंडित की भाभी बोलीं, 'इसी आज़ादी के लिए लड़ रहे हैं हम?'

इमेज कॉपीरइट MAJID JAHANGIR
Image caption मोहम्मद अय्यूब पंडित

दिवंगत पुलिस अधिकारी मोहम्मद अयूब पंडित के परिवार और दोस्तों में ग़ुस्सा और अविश्वास है. 'हिंदुस्तान टाइम्स' से बात करते हुए उनकी भाभी ने कहा, 'हम किस मुक़ाम पर आ गए हैं कि एक पवित्र रात को हम एक मस्ज़िद के बाहर एक शख़्स को बेवजह मार डालते हैं. क्या मज़हब ने हमें यही सिखाया है?'

नोपोरा में अख़बार से बात करते हुए उन्होंने कहा, 'क्या हम इसी आज़ादी के लिए लड़ रहे हैं कि हमने लोगों को मार डालना शुरू कर दिया है.'

उन्होंने कहा, 'उन्हें किसी चरमपंथी या सेना के जवान ने नहीं मारा. उन्हें एक भीड़ ने मारा. उन्होंने एक बेकसूर तहजुद गुज़र (रात में प्रार्थना करने वाले) को मारा.'

श्रीनगर की जामा मस्ज़िद के बाहर सुरक्षा में तैनात पुलिस अधिकारी मोहम्मद अयूब पंडित की गुरुवार को भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. यह इस्लाम में पवित्र मानी गई रात शब-ए-क़द्र का मौक़ा था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

बीसीसीआई ने जो भारतीय क्रिकेट कोच के लिए आवेदन की आख़िरी तारीख बढ़ाई है, हो सकता है कि वह रवि शास्त्री को मौका देने के लिए हो. 'अमर उजाला' ने यह ख़बर दी है.

अख़बार ने लिखा है कि आवेदन की समयसीमा 31 मई को ख़त्म हो चुकी थी. लेकिन इसे बढ़ाकर 9 जुलाई कर दिया गया है. हालांकि शास्त्री ने अब तक आवेदन नहीं किया है, लेकिन अख़बार ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि वह तभी आवेदन करेंगे, जब उनका कोच बनना पुख़्ता हो जाएगा.

अब तक पूर्व सलामी बल्लेबाज़ वीरेंद्र सहवाग, इंग्लैंड के रिचर्ड पायबस, फिलहाल अफग़ानिस्तान टीम के कोच और पूर्व भारतीय खिलाड़ी लालचंद राजपूत, ऑस्ट्रेलिया के टॉम मूडी और पूर्व तेज़ गेंदबाज़ डोडा गणेश आवेदन कर चुके हैं. अनिल कुंबले के कोच का पद छोड़ने से पहले ही बीसीसीआई ने आवेदन मंगा लिए थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'द इंडियन एक्सप्रेस' ने ख़बर दी है कि कि राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की शुक्रवार को राष्ट्रपति भवन में हुई इफ़्तार पार्टी में केंद्र सरकार का एक भी मंत्री नहीं पहुंचा. यह बतौर राष्ट्रपति उनकी आख़िरी इफ़्तार पार्टी थी. अगले महीने उनके कार्यकाल पूरा हो रहा है.

माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने अख़बार से कहा, 'एक भी मंत्री, एक भी सरकारी प्रतिनिधि और एक भी बीजेपी नेता वहां नहीं थे. मैं इतने सालों में आज तक राष्ट्रपति की बुलाई ऐसी एक भी इफ़्तार पार्टी नहीं देखी, जिसमें भारत सरकार का एक भी नुमाइंदा न पहुंचा हो.'

सपा के राज्यसभा सांसद जावेद अली ख़ान ने बताया कि वह राष्ट्रपति भवन में तीन इफ़्तार पार्टियों में शामिल हो चुके हैं और उनमें राजनाथ सिंह, मुख़्तार अब्बास नकवी, महेश शर्मा और विजय गोयल जैसे मंत्री आए थे. लेकिन इस बार कोई नहीं था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

'द टाइम्स ऑफ़ इंडिया' ने ख़बर दी है क रामपुर में गैंगरेप की कथित शिकार जिस महिला ने एक पुलिस अधिकारी पर इंसाफ़ दिलाने के बदले शारीरिक संबंध की मांग करने का आरोप लगाया था, उन्हें धोखाधड़ी के केस में जेल भेज दिया गया है.

पुलिस का कहना है कि जो रिकॉर्डिंग महिला ने पुलिस अधिकारी की बताकर सौंपी थी, वह उसके प्रेमी की है. हालांकि अब तक इस रिकॉर्डिंग की फॉरेंसिक जांच नहीं करवाई गई है. मामले की जांच उसी थाने के एक वरिष्ठ अधिकारी को दी गई थी, जिस थाने के पुलिस अफसर पर महिला ने आरोप लगाया था. सिर्फ दो दिन में उन्होंने जांच पूरी कर ली.

गंज थाने के अधिकारी रेवेंद्र प्रताप सिंह ने कहा, 'रिकॉर्डिंग की फॉरेंसिक जांच की ज़रूरत नहीं थी क्योंकि यह साबित हो गया है कि जो फोन हमने बरामद किया था, जिससे वह रिकॉर्डेड कॉल गई थी. वह उसके प्रेमी ने की थी.'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे