मोदी और ट्रंप की पहली मुलाक़ात में क्या होगा?

मोदी, ट्रंप इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को व्हाइट हाउस में राष्ट्रपति ट्रंप से मिलने जा रहे हैं और दोनों नेताओं की ये पहली मुलाकात होगी.

व्हाइट हाउस के एक प्रवक्ता का कहना है कि मोदी के स्वागत के लिए भव्य तैयारी की जा रही है और वो पहले विदेशी नेता होंगे जिनके सम्मान में ट्रंप प्रशासन के दौरान व्हाइट हाउस में रात्रि भोज का आयोजन किया जा रहा है.

डोनल्ड ट्रंप अपने चुनाव से ठीक दो हफ़्ते पहले भारत और प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ़ों के पुल बांध रहे थे और चुनाव के बाद के कुछ दिनों तक भी टेलीफ़ोन पर हुई बातचीत में ये प्यार बरक़रार था.

माना जा रहा था कि मोदी और ओबामा के रिश्तों में जो गर्माहट थी कुछ वैसा ही या उससे भी बेहतर इस नए रिश्ते में नज़र आएगा. लेकिन कुछ ही हफ़्तों के बाद ट्रंप के वाशिंगटन से एच-1-वी वीज़ा पर लगाम कसने की आवाज़ें तेज़ होने लगीं.

रूस पर कुछ नहीं किया ओबामा ने, ट्रंप का आरोप

पीएम मोदी ने मौक़ा गंवा दिया है: द इकनॉमिस्ट

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ट्रंप का भारत पर हमला

कुछ भारतीय ट्रंप के आर्थिक राष्ट्रवाद और कथित मुसलमान विरोधी बयानों की बलि चढ़े और फिर पेरिस जलवायु समझौते से निकलने का एलान करते हुए ट्रंप ने एक तरह से पहली बार भारत पर सीधा हमला किया.

ट्रंप ने कहा था कि भारत इस समझौते में इसलिए शामिल हुआ है क्योंकि उसे इसके बदले विकसित देशों से अरबों डॉलर दिया जा रहा है.

और अब कुछ ऐसे ही बदले-बदले से मौसम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाशिंगटन पहुंच रहे हैं.

भारत के बारे में ट्रंप की अब क्या सोच है फ़िलहाल न तो इसका अंदाज़ा किसी को लग पाया है और न ही भारत के बारे में उनके प्रशासन की कोई नीति स्पष्ट तौर से नज़र आई है.

राजा चारी: नासा के लिए अंतरिक्ष जाने वाले तीसरे हिंदुस्तानी

मोदी के अमरीकी दौरे से चीन क्यों है ख़ुश?

इमेज कॉपीरइट EPA

व्यापारिक संबंधों पर बात

वाशिंगटन के थिंक टैंक हडसन इंस्टीट्यूट में भारत-अमरीका मामलों की जानकार अपर्णा पांडे का कहना है कि फ़िलहाल तो मोदी की सबसे बड़ी चुनौती होगी ट्रंप के साथ एक रिश्ता कायम करना.

वो कहती हैं, "एक तरफ़ मेक इन इंडिया है, दूसरी तरफ़ मेक अमेरिका ग्रेट अगेन है. क्या अमरीका पहले की तरह व्यापार रिश्तों को मज़बूत करने की बात करेगा या फिर पूछेगा कि आप हमारे यहां कितना निवेश करेंगे या कितनी नौकरियां पैदा करेंगे. लेकिन सबसे पहले ये देखना होगा कि इस पहली मुलाक़ात में दोनों के बीच वही आत्मीयता पैदा होगी जो ओबामा और मोदी के बीच थी?"

भारतीय और अमरीकी अधिकारियों के अनुसार आतंकवाद, एच-1बी वीज़ा, व्यापार संबंधों पर बात होगी.

कुछ समाचार एजेंसियां सूत्रों के हवाले से कह रही हैं कि संभव है कि ट्रंप भारत को हवाई निगरानी करनेवाले गार्डियन ड्रोन बेचने का एलान कर सकते हैं.

चीन को ख़ुफ़िया जानकारी देने वाला अमरीकी राजनयिक गिरफ़्तार

ब्रिटेन में क्यों बढ़ रहा है इस्लाम का खौफ?

इमेज कॉपीरइट Reuters

बहुत ज़्यादा उम्मीद नहीं

ये सौदा दो अरब डॉलर का है लेकिन भारत के नज़रिए से ये एक बड़ी उपलब्धि होगी क्योंकि वो 2015 से ही इसकी मांग करता रहा है और अगर ऐसा हुआ तो तो वो पहले ऐसा देश होगा जो औपचारिक रूप से अमरीका का रणनीतिक साझेदार नहीं है लेकिन फिर भी उसे ये ड्रोन बेचे जाएंगे.

ओबामा प्रशान में दक्षिण एशिया मामलों के निदेशक रह चुके जोशुआ व्हाइट का कहना है कि मुलाक़ात के दौरान मोदी की ये भी कोशिश होनी चाहिए कि वो पाकिस्तान और चीन पर ट्रंप की नीति क्या होने जा रही है इसका अंदाज़ा ले सकें.

कहते हैं, "अंदाज़ा है कि ट्रंप चरमपंथी गुटों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने के लिए पाकिस्तान पर दबाव बढाएंगे. लेकिन क्या वो सिर्फ़ अफ़गानिस्तान में सक्रिय हक्कानी नेटवर्क जैसे गुटों के लिए होगा या फिर लश्करे तैबा और जैश ए मोहम्मद के ख़िलाफ़ भी होगा ये जानना भारत के लिए अहम होगा."

अमरीका- '21 प्रांत रूस की हैकिंग का निशाना बने'

हवा में एक फ़ाइटर जेट से दूसरे को गिराना इतना दुर्लभ क्यों?

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption दिल्ली से कुछ एक सौ किलेमीटर की दूरी पर स्थित मोरारा गांव को ट्रंप कहा जा रहा है.

कुछ लोगों का ये भी कहना है कि ये दौरा कामयाब तभी कहलाएगा जब ट्रंप के लिए इसमें कुछ ऐसा हो जिसे वो अपने चाहनेवालों के बीच एक जीत की तौर पर पेश कर सकें.

विश्लेषकों ने इस दौरे से एक शुरूआती मुलाक़ात से ज़्यादा की उम्मीदें नहीं लगाई हैं लेकिन ट्रंप की ख़ासियत रही है कि वो कुछ ऐसा कर जाते हैं जिसकी किसी को उम्मीद नहीं रहती. अब वो भारत के हक में जाएगा या उसके ख़िलाफ़ ये देखने वाली बात होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)