ये लड़की किसके लिए पहन रही है गाय का मुखौटा?

सुजात्रो घोष इमेज कॉपीरइट Sujatro Ghosh

कोलकाता के फ़ोटोग्राफ़र सुजात्रो घोष की खींची तस्वीरें फिलहाल सोशल मीडिया पर खूब चर्चित हो रही हैं.

बावजूद इसके सुजात्रो को चेहरे पर इसका कोई गुमान नहीं. उनके माता-पिता दोनों शिक्षक हैं.

लेकिन सुजात्रो को इन तस्वीरों का ख्याल कैसे आया और उन्होंने इसके लिए गाय का मुखौटा ही क्यों चुना?

इमेज कॉपीरइट Sujatro Ghosh

गाय से लेकर बाघ तक टेंशन में

गाय राष्ट्रीय पशु बनी तो बाघ शाकाहारी हो जाएंगे?

इसके जवाब में कहते हैं कि बीते दिनों देश में गायों की रक्षा और बीफ़ के मुद्दे पर हुई हत्याओं के बाद उनको लगातार यह सवाल मथता रहता था कि आख़िर देश के लोग वह चीज क्यों नहीं खा सकते जो वे खाना चाहते हैं.

इमेज कॉपीरइट Sujatro Ghosh

सुजात्रो कहते हैं, "हमारे देश में हर चीज को धार्मिक चश्मे से देखा जाता है. गाय का मुखौटा इसलिए चुना कि देश की राजनीति तब इसी के इर्द-गिर्द घूम रही थी."

कोलकाता जैसे महानगर में पलने-बढ़ने के दौरान उनको कभी धार्मिक भेदभाव का सामना नहीं करना पड़ा था.

इमेज कॉपीरइट Sujatro Ghosh

लेकिन दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में स्टिल फ़ोटोग्राफ़ी एंड वर्चुअल कम्युनिकेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई के दौरान उनको समझ में आया कि कोलकाता और दिल्ली के सामाजिक नज़रिए में क्या अंतर है.

इमेज कॉपीरइट Sujatro Ghosh

वो कहते हैं कि कोलकाता में तो हर चीज राजनीति के तराजू पर तौली जाती है लेकिन दिल्ली में राजनीति और धर्म के मिलेजुले तराजू पर. खासकर दादरी कांड के बाद उनको हिंदू और मुस्लिम का अंतर साफ़ नज़र आया.

एक प्रोजेक्ट के सिलसिले में उनका न्यूयार्क जाना हुआ. वहां रहते हुए देश में घटने वाली घटनाओं को एक परिप्रेक्ष्य में रख कर देखने का प्रयास करते हुए उनके मन में सवाल पैदा हुआ कि क्या भारत में महिला की बजाय पशु बन कर जीना ज़्यादा सुरक्षित है?

इमेज कॉपीरइट Sujatro Ghosh

वे कहते हैं कि 'महिलाओं से छेड़खानी के दौरान लोग नज़रें बचा कर निकल जाते हैं. लोग महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों के मुद्दे पर गंभीर नहीं हैं. बलात्कार पीड़िता को न्याय पाने में यहां बरसों गुजर जाते हैं. लेकिन किसी गाय की हत्या या महज बीफ़ खाने और ले जाने की हालत में कथित अभियुक्त की मौके पर ही पीट-पीट कर हत्या कर दी जाती है.'

इमेज कॉपीरइट Sujatro Ghosh

उनके मन में गाय का मुखौटा पहने महिलाओं की तस्वीरें खींचने का ख्याल आया. इसके बाद ही उन्होंने किसी महिला मित्र को गाय का मुखौटा पहना कर उसकी तस्वीरें खींचने का फैसला किया.

गाय का मुखौटा तलाशने में भी उनको काफ़ी मेहनत करनी पड़ी. आख़िर में उनको अपना मनपसंद मुखौटा मिला न्यूयॉर्क में.

लेकिन उनकी मुशिकलें अभी खत्म नहीं हुई थीं. कोलकाता में उन्होंने जब अपनी एक महिला मित्र को मुखौटे पहन कर फ़ोटो खिंचाने का प्रस्ताव दिया तो उसने कहा कि वह उनके काम की तारीफ़ तो करती हैं, लेकिन मुखौटे पहन कर फोटो नहीं खिंचाएंगी.

इमेज कॉपीरइट Sujatro Ghosh

उस महिला मित्र का कहना था कि 'बाहर निकलने पर तो लोग यूं ही इतना घूरते हैं. मुखौटे पहनने पर क्या करेंगे?'

सुजात्रो ने बाद में अपनी एक अन्य महिला मित्र को इस काम के लिए राज़ी किया और कोलकाता और दिल्ली में उसकी तस्वीरें खींच कर इंस्टाग्राम पर डाल दीं. उसके बाद तो सोशल मीडिया पर इसकी खूब तारीफ़ हुई.

एक अमरीकी टीवी चैनल टीवाईटी टीवी ने अपने 'द यंग तुर्क' कार्यक्रम में उनकी तस्वीरों के साथ एक रिपोर्ट दिखाई है.

दुनिया भर के अखबारों में उनकी ये तस्वीरें छप रही हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे