23 लाख रुपये के साथ तन्हा हुई रिक्शेवाले की बेटी, पिता की मौत

बबलू इमेज कॉपीरइट Narayan Bareth

उसकी भुजाये बेटी का पालना थी और दामन आशियाना. उम्र से पहले ही बूढ़ा नज़र आते रिक्शा चालक बबलू की असमय मौत से पांच साल की दामिनी अब तन्हा हो गई है.

दामिनी जब पैदा हुई तो सिर से मां का साया उठ गया. उस वक़्त पापी पेट की ख़ातिर बबलू रिक्शा चलाता तो दामिनी को भी गले से लटके झूले में संग-संग लेकर चलता था.

उनकी इस तस्वीर ने बीबीसी के ज़रिये दुनिया भर का ध्यान खिंचा तो मदद के लिए हाथ उठते चले गए. दामिनी पिछले चार साल से राजस्थान के भरतपुर में सरकारी बाल संरक्षण गृह में है क्योंकि रिक्शा चालक पिता बबलू उसकी परवरिश नहीं कर पा रहे थे.

बबलू की दामिनी जयपुर में भर्ती

बबलू की दामिनी में लौट रही है चमक

ऐ ज़िंदगी गले लगा ले....

इमेज कॉपीरइट Narayan Bareth

बेटी के लिए जमा हो चुके हैं 23 लाख

दामिनी और उसके पिता की बेबसी की कहानी जब बीबीसी के माध्यम से प्रसारित हुई तो मदद के लिए इतने हाथ उठे कि उस नन्हीं परी के लिए कोई 18 लाख रुपए जमा हो गए.

दामिनी की देखरेख के लिए बनी समिति के सदस्य डॉ बीएम भारद्वाज ने बीबीसी से कहा कि उसके बाद भी सहायता का सिलसिला थमा नहीं. कुछ महीने पहले तक 23 लाख रुपये आ चुके थे. ये भी तब जब और मदद के लिए मना कर दिया गया था.

यह राशि दामिनी के नाम बैंक में जमा है, ताकि उसका भविष्य सवांरने में मदद मिले. अभावों की लंबी ज़िंदगी के बाद दामिनी के पिता बबलू मंगलवार को भरतपुर में चल बसे.

रिक्शे के झूले में पली दामिनी की अस्पताल से छुट्टी

कैसे कर सकते हैं आप बबलू की मदद?

इमेज कॉपीरइट Narayan Bareth

कोठरी में मिला बबलू का शव

वो ख़ुद की तरह ही एक उपेक्षित कोठरी में बेजान पाए गए. इसके बाद उनका दाह संस्कार कर दिया गया. दामिनी का कोई परिजन भी नहीं है. उस नन्हीं जान को यह भी नहीं मालूम कि मां की अकाल मौत के बाद जो दामन उसका पालना बना था, वो हमेशा के लिए चला गया.

दामिनी का जन्म वर्ष 2012 में हुआ तो मां अस्पताल में चल बसीं. उसके बाद दामिनी की परवरिश का भार रिक्शा चलाकर जीवन यापन कर रहे बबलू पर आ गया. वो जब रिक्शा लेकर निकलते तो दामिनी को भी बांहों का झूला बना लेते.

एक रिक्शा चालक को इस तरह बेटी को गले लगाए घूमते देखना भाव-विह्वल करने वाला था. उस वक़्त बबलू ने बीबीसी से कहा, ''मेरी पत्नी की मौत के बाद मैंने दामिनी में उसका अक्स देखा और तय किया अपनी बेटी के लिए वो सब कुछ करूंगा जो एक पिता का फ़र्ज होता है.''

इमेज कॉपीरइट Narayan Bareth

कोई और नहीं था संभालने वाला

लिहाज़ा जब भी बबलू रिक्शा लेकर निकलते दामिनी को भी गले में लटका कर संग-संग रखते क्योंकि घर में कोई और नहीं था.

इस दौरान दो साल पहले वो घड़ी भी आई जब बबलू के ही एक दोस्त ने दामिनी का अपहरण कर लिया. उसकी नज़र दामिनी के नाम पर जमा हुए पैसे पर थी.

लेकिन पुलिस ने कुछ घंटो में ही दामिनी को उसके चंगुल से मुक्त करा लिया. सरकारी समिति के सदस्य डॉ भारद्वाज कहते हैं वे भरसक प्रयास करेंगे कि दामिनी को अच्छी शिक्षा मिले और वो पढ़ लिखकर समाज में एक मिसाल बने.

इमेज कॉपीरइट Narayan Bareth

दामिनी के प्रति उमड़ी करुणा और दुलार ने सरहदों को छोटा कर दिया और दुनिया के कोने-कोने से लोगो ने सहायता की पेशकश की. न्यूयॉर्क में टैक्सी चलाने वाले एक भारतीय ने दामिनी के लिए झोली फैलाई और कुछ डॉलर धनराशि जुटाई.

उसके इस काम में पड़ोस के पाकिस्तानी टैक्सी चालक भी शामिल हुए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे