झारखंड: मरी गाय पर बवाल, उस्मान का घर फूंका

झारखंड में हिंसा इमेज कॉपीरइट Mrinal

झारखंड के गिरिडीह जिले में मृत गाय के मिलने पर हुई हिंसा में दो लोग घायल हो गए हैं. गुस्साई भीड़ को काबू में करने के लिए पुलिस को गोलियां भी चलानी पड़ी.

इसमें एक व्यक्ति घायल हो गया. उसके पैर में गोली लगी है. इसके बाद इलाके में तनाव है.

हिंसाग्रस्त गांव में पुलिस के साथ सीआरपीएफ जवानों को भी तैनात किया गया है.

झारखंड पुलिस के प्रवक्ता और आईजी आरके मल्लिक ने बताया, "घटना में घायल उस्मान अंसारी की हालत स्थिर है. उनका धनबाद में इलाज कराया जा रहा है. पुलिस फायरिंग में घायल कृष्णा शख्स भी उनके साथ ही भर्ती कराए गए हैं. पुलिस ने इस मामले में 11 लोगों को गिरफ्तार किया है."

लोकतंत्र में भीड़तंत्र: क्या देश में अराजकता का राज है?

नज़रिया: हिंदुओं के 'सैन्यीकरण' की पहली आहट है जुनैद की हत्या

इमेज कॉपीरइट Mrinal

गिरिडीह ज़िला

घटना गिरिडीह ज़िले के देवरी थानाक्षेत्र के बैरिया गांव की है.

पुलिस प्रवक्ता आरके मल्लिक ने बीबीसी को बताया, "देवरी थाना के बैरिया गांव निवासी उस्मान अंसारी डेयरी चलाने का काम करते हैं. उनकी एक गाय की बीमारी से मौत हो गयी.''

उन्होंने कहा, ''इसके बाद उस्मान ने मृत पशुओं को डिस्पोज करने वाले एक व्यक्ति से बात की. पैसे को लेकर दोनों मे कहासुनी हो गयी तो उस्मान ने खुद ही गाय के डिस्पोज कर दिया. इस बीच किसी ने गाय का सर और पैर काट दिया."

मुसलमान ही नहीं, हिंदू भी बने थे झारखंड में उन्मादी भीड़ के शिकार

'वो तूफ़ान की तरह आए, सब कुछ बहा ले गए, जान भी'

इमेज कॉपीरइट Mrinal
Image caption उस्मान अंसारी को धनबाद मेडिकल कॉलेज अस्पताल में दाखिल कराया गया है

आरके मल्लिक ने बताया, "कल हटिया (साप्ताहिक बाजार) जा रहे लोगों ने गाय का सिर कटा देखा तो अफवाह फैली कि उस्मान अंसारी ने ही गाय को मारा है. इसके बाद भीड़ ने उस्मान के घर पर हमला कर दिया.''

उन्होंने बताया, ''इस सूचना पर गांव पहुंची पुलिस ने उपद्रवियों को काबू में करने के लिए लाठीचार्ज किया और फायरिंग की. इसमें एक व्यक्ति घायल हो गया. उसके पैर में गोली लगी है. इसके बाद उस्मान अंसारी के घर के लोगों को बचाया जा सका. इस दौरान भीड़ ने उस्मान अंसारी को बुरी तरह पीट दिया. इसमें वे गंभीर रूप से घायल हो गए."

इमेज कॉपीरइट Mrinal

इस हमले में घायल उस्मान अंसारी के बेटे सलीम ने बताया कि भीड़ ने उनके घऱ में आग लगा दी. तब उऩकी मां, पत्नी समेत परिवार के सभी सदस्य घर के अंदर ही थे.

पुलिस के बीच-बचाव करने पर भीड़ ने जवानों पर भी हमला किया. सलीम ने बताया कि अगर पुलिस नहीं आती तो उनके पिता को लोग वहीं पर मार देते.

गिरिडीह के उपायुक्त उमाशंकर सिंह ने कहा है कि स्थिति अभी नियंत्रण में हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे