हम कैसे लोग हैं गाय के नाम पर इंसान को मारते हैंः मोदी

इमेज कॉपीरइट @narendramodi

गुजरात के साबरमती में प्रधानमंत्री मोदी ने गोभक्ति के नाम पर हो रही हत्याओं पर बयान दिया है.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "गोभक्ति के नाम पर हो रही हत्याएं स्वीकार्य नहीं है. ये ऐसी चीज़ नहीं है जिससे महात्मा गांधी सहमत होते."

मोदी ने कहा, "समाज में हिंसा की कोई जगह नहीं है."

गौसेवा करते मोदी और पहलू ख़ान के हमलावर

पहलू, अख़लाक़ को मारने में भीड़ क्यों नहीं डरती?

गोरक्षा पर बयान देते हुए मोदी ने कहा, "हम कैसे लोग हैं गाय के नाम पर इंसान को मारते हैं."

मोदी ने पूछा, "क्या किसी इंसान को मारने का हक़ मिल जाता है, क्या ये गोरक्षा है?"

प्रधानमंत्री ने सुनाई कहानी

इमेज कॉपीरइट PTI

प्रधानमंत्री ने इस मौके पर एक कहानी भी सुनाई. उन्होंने कहा, 'जब मैं छोटा था तो हमारे घर के पास एक परिवार रहता था. उस परिवार में कोई संतान नहीं थी, जिसके कारण काफ़ी तनाव रहता था.'

'काफ़ी समय बाद उस घर में एक संतान का जन्म हुआ. उस समय एक गाय वहां पर आती थी और रोजाना कुछ खाकर जाती थी. एक बार गाय के पैर के नीचे बच्चा आ गया था, और उसकी मौत हो गई.'

'दूसरे दिन सुबह ही वह गाय उनके घर के सामने खड़ी हो गई, उसने किसी के घर के सामने रोटी नहीं खाई. उस परिवार से भी रोटी नहीं खाई. गाय के आंसू लगातार बह रहे थे. वह गाय कई दिनों तक कुछ नहीं खा-पी सकी.'

'पूरे मोहल्ले के लोगों ने काफी कोशिश की लेकिन गाय ने कुछ नहीं खाया और बाद में अपना शरीर त्याग दिया. एक बच्चे की मौत के पश्चाताप में उस गाय ने ऐसा किया, लेकिन आज लोग गाय के नाम पर ही हत्या कर रहे हैं.'

इमेज कॉपीरइट PIB
Image caption साबरमती आश्रम में नरेंद्र मोदी ने चरखा भी चलाया.

क़ानून अपना काम करेगा

मोदी ने कहा, "आज जब मैं सुनता हूं कि गाय के नाम पर किसी की हत्या की जा रही है. वो निर्दोष हैं कि नहीं, क़ानून क़ानून का काम करेगा, इंसान को क़ानून हाथ में लेने का हक़ नहीं है."

मोदी ने कहा, "हिंसा समस्याओं का समाधान नहीं है."

मोदी ने कहा कि किसी ने गायों को बचाने के बारे में इतना नहीं बोला जितना महात्मा गांधी और विनोबा भावे बोले.

गुजरात के दो दिन के दौरे पर गए प्रधानमंत्री ने अहमदाबाद के साबरमती आश्रम के 100 साल पूरे होने पर होनेवाले समारोह में गोरक्षा के मुद्दे पर ये बातें कहीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)