यूपी: बिजनौर में दारोगा की गला रेतकर हत्या

सहजोर सिंह मलिक इमेज कॉपीरइट Amit Shukla

उत्तर प्रदेश के बिजनौर ज़िले में दारोगा की हत्या के मामले में पुलिस अभी तक किसी को भी गिरफ़्तार नहीं कर पाई है.

बिजनौर के पुलिस अधीक्षक अतुल शर्मा ने बीबीसी को बताया कि कई लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है लेकिन अभी गिरफ़्तारी किसी की नहीं हुई है.

बिजनौर में शुक्रवार देर रात अज्ञात लोगों ने दारोगा की गला रेतकर हत्या कर दी और शव को खेत में फेंक दिया. हत्यारे दारोगा की पिस्टल भी लेकर भाग गए.

उत्तर प्रदेश: योगीराज में क़ानून की व्यवस्था या अव्यवस्था?

मृत दारोगा सहजोर सिंह मलिक बिजनौर ज़िले में ही मंडावर थाने की बालावाली चौकी के इंचार्ज थे. बताया जा रहा है कि हमले के वक़्त इंस्पेक्टर मलिक मंडावर थाने से बालावली पुलिस चौकी जा रहे थे.

वो बालावाली पुलिस चौकी के इंचार्ज थे और यहां पिछले एक साल से तैनात थे. एसपी अतुल शर्मा का कहना था, "ऐसा माना जा रहा है कि दारोगा की हत्या किसी रंज़िश की वजह से हुई है. हालांकि अभी तक यह साफ़ नहीं हो सका है कि किससे उनकी रंज़िश थी, लेकिन पुलिस ख़ासतौर पर इस एंगल से मामले की जांच कर रही है."

इमेज कॉपीरइट twitter.com/bijnorpolice

वहीं स्थानीय लोग इसके लिए खनन माफ़िया को ज़िम्मेदार मान रहे हैं. एसपी का कहना है कि हर पहलू की जांच की जा रही है और दोषियों को जल्द से जल्द पकड़ लिया जाएगा.

एसपी अतुल शर्मा के मुताबिक इंस्पेक्टर मलिक पुलिस चौकी पर ही बने क्वॉर्टर में रहते थे. मूल रूप से शामली ज़िले के रहने वाले इंस्पेक्टर मलिक का परिवार मेरठ में रहता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे