सीरिया: चरमपंथियों के आत्मघाती धमाके में 19 मरे

सीरिया इमेज कॉपीरइट SANA VIA REUTERS
Image caption सीरिया के दमिश्क में आत्मघाती धमाके की तस्वीर

सीरिया की राजधानी दमिश्क में रविवार को हुए आत्मघाती बम धमाके में अब तक 19 लोगों के मौत की ख़बर है.

सरकारी न्यूज़ एजेंसी एसएएनए के मुताबिक, सीरियाई पुलिस तीन संदिग्ध कारों का पीछा कर रही थी. ये कारें राजधानी दमिश्क में घुसने की कोशिश कर रही थीं.

पुलिस इनमें से दो कारों को रोकने में सफल हुई. लेकिन तीसरी कार शहर के पूर्वी हिस्से तहरीर चौराहे में घुस गई.

यहां चरमपंथी को घेर लिया गया. इसके बाद चरमपंथी ने आत्मघाती बम धमाके को अंजाम दिया.

युद्ध की आग में क्यों जल रहा है सीरिया ?

सीरिया पर कौन अमरीका के साथ और कौन ख़िलाफ़?

रविवार को हुए इस धमाके में कम से कम 12 लोग घायल हुए हैं.

क्या थी हमलावरों की योजना?

सरकारी टीवी चैनल के मुताबिक, हमलावरों ने इन बमों को रमज़ान के बाद काम शुरु होने के पहले दिन को ध्यान में रखते हुए भीड़ भरी जगहों में रखने की योजना बनाई थी.

इमेज कॉपीरइट SANA VIA REUTERS

एक पुलिस अधिकारी ने सना टीवी से बात करते हुए बताया, "चरमपंथियों ने जो बम धमाका किया है उसमें कई लोग मरे और घायल हुए हैं, इसके साथ ही आसपास के इलाके को भी भारी नुकसान हुआ है."

सीरिया पर अमरीकी हमले के बाद होगा तीन मुद्दों पर असर

सीरिया पर हमले से अमरीका को क्या हासिल हुआ?

न्यूज़ एजेंसी एएफपी से बात करते हुए एक स्थानीय नागरिक ने कहा, "लगभग छह बजे गोलीबारी की आवाज सुनाई दी, इसके बाद एक जोरदार धमाका हुआ जिससे आसपास के घरों के शीशे चकनाचूर हो गए."

अब तक किसी भी संगठन ने इस घटना की ज़िम्मेदारी नहीं ली है. सीरिया में साल 2011 से राष्ट्रपति बशर अल असद की सरकार और स्थानीय विद्रोहियों के खिलाफ जंग जारी है. इस युद्ध में अब तक तीन लाख लोगों की मौत हो चुकी है.

यूएन की शरणार्थियों से जुड़ी संस्था के मुताबिक, संघर्ष के शुरू होने के बाद अब तक 55 लाख लोग देश छोड़कर जा चुके हैं और अन्य 63 लाख लोग देश में ही बेघर हो चुके हैं.

सीरिया की राजधानी दमिश्क अब तक ज़्यादातर समय में राष्ट्रपति बशर अल-असद के नियंत्रण में ही रही है. हालांकि, राजधानी में कई आत्मघाती धमाके हो चुके हैं.

इन धमाकों में बीते मार्च में कोर्ट परिसर में हुआ धमाका शामिल है जिसमें 31 लोगों की जान गई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे