प्रेस रिव्यू: भारत-चीन तनाव: और सैनिकों की तैनाती

सैनिक इमेज कॉपीरइट Getty Images

जनसत्ता ने लिखा है कि भारत ने सिक्किम के पास एक इलाके में अपनी स्थिति को मज़बूत करने के लिए और अधिक सैनिकों को 'नॉन-कॉम्बैटिव मोड' में लगाया है.

क़रीब एक महीने से भारतीय सैनिकों का चीनी जवानों के साथ गतिरोध बना हुआ है और यह दोनों सेनाओं के बीच 1962 के बाद से सबसे लंबा इस तरह का गतिरोध है.

चीन ने कहा है कि अगर भारत गतिरोध ख़त्‍म करना चाहता है तो डोका ला से अपने सैनिक हटा ले.

सूत्रों ने कहा कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) की ओर से भारत के दो बंकरों को तबाह किए जाने और 'आक्रामक चालें' अपनाए जाने के बाद भारत ने और अधिक सैनिकों को लगाया है.

चीन ने भारत को नाथुला पास से सेना वापस बुलाने को कहा

नज़रिया: 'चीन अगर हमारी सीमा में घुसा तो उसका बुरा हाल होगा'

गैर-लड़ाकू मोड या 'नॉन-कांबैटिव मोड' में बंदूकों की नाल को जमीन की ओर रखा जाता है.

दोनों देशों की सेनाओं के बीच गतिरोध से पहले के घटनाक्रम का पहली बार ब्योरा देते हुए सूत्रों ने कहा कि पीएलए ने गत एक जून को भारतीय सेना से डोका ला के लालटेन में 2012 में स्थापित दो बंकरों को हटाने को कहा था जो चंबी घाटी के पास और भारत-भूटान-तिब्बत ट्राईजंक्शन के कोने में पड़ते हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

जनसत्ता ने लिखा है कि आईसीएसई स्कूलों में पढ़ाई जाने वाली एक किताब में मस्जिद को ध्वनि प्रदूषण का ज़रिया बताने को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों ने नाराज़गी ज़ाहिर की.

जिसके बाद प्रकाशक ने माफ़ी मांगी और चित्र को आगे आने वाले संस्करणों से हटवाने का वादा किया. ये चित्र सेलिना पब्लिशर्स द्वारा प्रकाशित विज्ञान की पाठ्यपुस्तक में ध्वनि प्रदूषण के कारणों पर एक अध्याय में प्रकाशित है.

सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीर में ट्रेन, कार, विमान और एक मस्जिद के साथ तेज़ ध्वनि को दर्शाने वाले चिह्न हैं जिसके सामने एक एक व्यक्ति दिख रहा है जिसने खीझकर अपने कान बंद कर रखे हैं.

सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने वाले लोगों ने किताब वापस लेने की मांग को लेकर अब एक ऑनलाइन याचिका शुरू की है. आईसीएसई बोर्ड के अधिकारी टिप्पणी के लिए मौजूद नहीं थे.

इमेज कॉपीरइट AFP

टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने लिखा है कि पाकिस्तान में जासूसी के आरोप में जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव तक राजनयिक पहुंच के लिए भारत ने 18वीं अर्ज़ी दी है जिसे पाकिस्तान ने ख़ारिज कर दिया है.

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नफ़ीस ज़कारिया ने कहा कि कुलभूषण मामूली क़ैदी नहीं है और भारत ये छुपाने की कोशिश कर रहा है कि वो जासूस है.

कुलभूषण जाधव जिन्हें भारत पूर्व नौसेना अधिकारी बताता है उन्हें पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने फांसी की सज़ा सुनाई है और भारत ये मामला अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत ले जा चुका है.

कुलभूषण जाधव की फांसी ख़त्म करने के लिए दया याचिका पाकिस्तान के सेना प्रमुख क़मर जावेद बाजवा के यहां लंबित है.

कुलभूषण जाधव को राजनयिक पहुँच नहीं देंगे: पाकिस्तान

ब्लॉग: दुनिया को उज़मा की नज़र से देखें या सुषमा की

इमेज कॉपीरइट AFP

नवभारत टाइम्स ने लिखा है कि ट्रेनों में वातालुकूलित सस्ते कोच का विकल्प जल्द आएगा. इकॉनॉमी एसी कोच की एक नई श्रेणी आएगी, इसका किराया एसी थ्री टीयर से कम होगा.

प्रस्तावित फ़ुल एसी ट्रेन में फ़र्स्ट एसी, सेकंड एसी और थर्ड एसी के अलावा 'इकॉनमी एसी क्लास' के 3 टियर कोच होंगे.

फ़िलहाल मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में स्लीपर के अलावा सिर्फ़ तीन कैटिगरी (फ़र्स्ट एसी, सेकंड एसी और थर्ड एसी) के एसी कोच ही होते हैं. वहीं, राजधानी, शताब्दी और हमसफ़र जैसी ट्रेनें फ़ुल एसी होती हैं.

इमेज कॉपीरइट @NARENDRAMODI

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं जो इसरायल की यात्रा पर जा रहे हैं. मंगलवार से शुरू होनेवाला उनका दौरा काफ़ी अहम माना जा रहा है.

द हिंदू ने फ़लस्तीनी ऑथोरिटी के प्रमुख महमूद अब्बास के कूटनीतिक सलाहकार डॉक्टर मजदी एल-ख़लदी का इंटरव्यू प्रकाशित किया है.

उन्होंने उम्मीद जताई है कि भारत को अपना संतुलन बनाना पड़ता है. लेकिन इसरायल के साथ संबध की क़ीमत फ़लस्तीन को नहीं चुकानी पड़ेगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चार जुलाई को तेल अवीव और येरूशलम जाएंगे. फ़लस्तीनी प्रशासन के प्रमुख महमूद अब्बास इसी साल मई महीने में भारत आए थे और दोनों के बीच कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए थे.

इमेज कॉपीरइट AFP

इंडियन एक्सप्रेस ने लिखा है कि पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में जिहादी ट्रेनिंग कैंप पर सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भारत पाकिस्तान के बीच नियंत्रण रेखा पर फ़ायरिंग में बहुत बढ़ोतरी हुई है.

इंडियन एक्सप्रेस के हाथ लगे डेटा के मुताबिक 2014 से नियंत्रण रेखा पर जवाब में भारी फ़ायरिंग की नीति से पाकिस्तान की तरफ़ से होने वाली घुसपैठ में सेना की मदद को प्रभावित करने में ख़ास मदद नहीं मिली है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)