जोती सिर्फ़ 6 महीने रहेंगे मुख्य चुनाव आयुक्त

अचल कुमार जोती इमेज कॉपीरइट PTI

प्रणब मुखर्जी ने 1975 बैच के गुजरात काडर के पूर्व आईएएस अफसर अचल कुमार जोती को देश का अगला मुख्य चुनाव आयुक्त नियुक्त किया है.

वह देश के 21वें मुख्य चुनाव आयुक्त होंगे. केंद्रीय कानून एवं न्याय मंत्रालय ने प्रेस रिलीज़ जारी कर बताया है कि जोती गुरुवार को चुनाव आयुक्त नसीम ज़ैदी की जगह लेंगे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गुजरात का मुख्यमंत्री रहते समय जोती लगातार तीन साल तक राज्य के मुख्य सचिव रहे थे.

वह जनवरी 2010 में राज्य के मुख्य सचिव बनाए गए थे और जनवरी 2013 तक वह इस पद पर रहे.

इसके बाद 64 वर्षीय जोती को 13 मई 2015 को चुनाव आयुक्त नियुक्त किया गया था और इस दौरान वह उस टीम का हिस्सा रहे जिसने उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु जैसे राज्यों के विधानसभा चुनावों का निरीक्षण किया.

मुख्य चुनाव आयुक्त के रूप में उनका कार्यकाल करीब 6 महीने का होगा और वह इस पद पर जनवरी 2018 तक बने रहेंगे. पद पर रहते हुए वह गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों को संपन्न कराएंगे.

इमेज कॉपीरइट PTI

इस साल नवंबर और दिसंबर में इन दो राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं.

इसके अलावा जोती को 40 वर्षों का प्रशासनिक अनुभव है. वह 1981-85 तक गुजरात के तीन ज़िलों सुरेंद्रनगर, पंचमहल और खेड़ा के डिस्ट्रिक्ट मैजिस्ट्रेट और कलेक्टर रह चुके हैं.

दिसंबर 2016 में गुजरात के वित्त विभाग का प्रमुख सचिव रहते हुए जोती ने इलेक्ट्रॉनिक ख़रीद की शुरुआत की थी जिसका कुछ विभागों ने विरोध किया था लेकिन इसके बाद सभी ज़िलों, तहसीलों और राज्य के कार्यालयों में इसे लागू किया गया.

2013 में रिटायर होने के बाद उन्हें राज्य का सतर्कता आयुक्त नियुक्त किया गया था.

वहीं, मुख्य चुनाव आयुक्त पद से रिटायर होने वाले नसीम ज़ैदी ने कहा है कि उनका कार्यकाल बेहद संतोषप्रद रहा और उन्हें काफ़ी कुछ करने का मौक़ा मिला.

ज़ैदी ने अप्रैल 2015 में मुख्य चुनाव आयुक्त का पदभार संभाला था. 1976 बैच के पूर्व आईएएस अफसर रह चुके ज़ैदी पूर्व नागरिक उड्डयन सचिव का पद संभाल चुके हैं और इसके बाद वह 2012 में चुनाव आयुक्त नियुक्त किए गए थे.

ज़ैदी के रिटायर होने के बाद अब तीन सदस्यीय चुनाव आयोग की टीम में केवल एक चुनाव आयुक्त ओ.पी. रावत बचे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे