दार्जिलिंग में हिंसा जारी, एक की मौत

गेटी इमेजिस इमेज कॉपीरइट Getty Images

दार्जिलिंग में हुईं हिंसा की ताज़ा वारदातों के बाद पुलिस फ़ायरिंग में एक व्यक्ति की मौत की ख़बर है.

गोरखा नेशनल लिबरेशन फ्रंट (गोरखा जनमुक्ति मोर्चा) ने इस ख़बर की पुष्टि करते हुए कहा है कि उनके एक समर्थक को गोली मारी गई है, जो कुछ दवाएं खरीदकर अपने घर लौट रहा था.

बताया गया है कि पुलिस फ़ायरिंग की घटना दार्जिलिंग के सोनादा इलाके में उस वक़्त हुई, जब प्रदर्शनकारियों ने शहर में आगजनी की और एक पुलिस स्टेशन में भी आग लगा दी.

ख़बर है कि शनिवार सुबह हुए प्रदर्शनों में भीड़ ने दार्जिलिंग की लोकप्रिय टॉय ट्रेन के एक स्टेशन में भी आग लगा दी है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के वाहनों में भी तोड़फोड़ की है. शनिवार को पूरे दार्जिलिंग शहर में प्रदर्शन हुए.

पुलिस का दावा है कि भीड़ को काबू करने के लिए पहले आंसू गैस के गोले छोड़े गए और रबड़ की गोलियां चलाई गईं. उसके बाद ही फ़ायरिंग की गई.

स्थानीय लोगों का कहना है कि पुलिस फ़ायरिंग में एक अन्य शख़्स की भी मौत हुई है. हालांकि, दार्जिलिंग पुलिस ने इस ख़बर की पुष्टि नहीं की है.

स्थिति को नियंत्रित करने के लिए सेना को एक बार फिर दार्जिलिंग बुलाया जा सकता है.

कोलकाता में सेना के प्रवक्ता ने कहा है कि सेना के दो कॉलम पहले से ही इलाके में तैनात हैं. एक सोनादा में और दूसरा दार्जिलिंग शहर में.

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

वहीं सूबे की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि मामले की जांच शुरू हो गई है कि सोनादा में व्यक्ति की मृत्यु कैसे हुई और इस मामले में अगर कोई दोषी पाया गया, तो उसे दंडित किया जाएगा.

ममता बनर्जी ने आगे कहा कि 'गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के नेता हिंसा का रास्ता छोड़ दें. हड़ताल समाप्त करें और खाने-पीने का सामान दार्जिलिंग तक पहुंचने दें.'

उन्होंने आरोप लगाया है कि दार्जिलिंग में केंद्रीय सुरक्षा बलों की जितनी संख्या मांगी गई थी, वो केंद्र सरकार ने नहीं भेजी हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार