शशिकला पर आरोपः दो करोड़ में ख़रीदीं जेल की सुविधाएं

शशिकला इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption शशिकला पर जेल में विशेष किचन की सुविधा लेने का आरोप है

ऐसा लगता है कि तमिलनाडु की भूतपूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की क़रीबी रहीं वीके शशिकला को जेल में रहते हुए भी विवादों से राहत नहीं मिल पा रही है.

शशिकला इस समय आय से अधिक संपत्ति के मामले में बेंगलुरु की केंद्रीय जेल में सज़ा काट रही हैं.

शशिकला: चाहा सिंहासन, मिली जेल

'पार्टी से अलग किए गए शशिकला और दिनाकरण'

डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल डी रूपा ने अपने विभाग के ही पुलिस महानिदेशक (डीजीपी, जेल) एचएन सत्यनारायण राव पर गंभीर आरोप लगाए हैं. इसके केंद्र में शशिकला हैं.

डी रूपा ने एचएन सत्यनारायण और राज्य के डीडीपी आरके दत्ता को पत्र लिखकर आरोप लगाया है कि 'शशिकला को खुद का भोजन बनाने के लिए विशेष कमरा दिया गया है, जो जेल नियमों का उल्लंघन है.'

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption शशिकला पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की बेहद नजदीकी रही हैं

जेल में विशेष सुविधा देने के आरोप

उन्होंने पत्र में लिखा है, "जेल नियमों के उल्लंघन का मामला मेरे संज्ञान में आया है. ऐसी चर्चा है कि विशेष सुविधाएं देने के लिए दो करोड़ रुपये की रिश्वत दी गई है. मैं आपसे अपील करती हूं कि नियमों को तोड़ने वाले लोगों पर सख़्त और तत्काल कर्रवाई हो."

राव ने रूपा के आरोपों का जवाब देते हुए कहा, "शशिकला को किसी भी तरह की विशेष सुविधा प्रदान नहीं की गई है. वो पहले माले पर स्थित महिला कैदियों के वार्ड में रहती हैं. उन्हें किसी भी तरह का वीआईपी ट्रीटमेंट नहीं दिया गया है. यहां तक कि सांसद व मंत्रियों के मिलने के लिए साधारण प्रक्रिया अपनाई गई है."

आय से अधिक संपत्ति के मामले में शशिकला, इलावरसी और सुदर्शन को सुप्रीम कोर्ट ने दोषी ठहराया था.

राव ने कहा है कि इन तीनों को 15 दिनों में एक बार 'किसी से मिलने की इजाज़त दी जाती है.' उन्होंने आगे कहा कि जेल में 'उनके पहले दिन से ही उन्हें किसी तरह की कोई विशेष सुविधा से दूर रखा गया है, क्योंकि वे इसकी हक़दार नहीं हैं.'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सीएम ने दिए जांच के आदेश

बीबीसी हिंदी से बात करते हुए रूपा ने बताया, "यह आरोप किसी के ख़िलाफ़ नहीं है. मैंने डीआईजी के तौर पर जो चीजें देखी, उसके बारे में पत्र में लिखा. मेरा उद्देश्य है कि व्यवस्था सुधरे और जो भी कमियां है उसे खत्म किया जा सके. पत्र लिखने के पीछे मेरा कोई निजी हित नहीं है. अगर किसी को इसमें सच्चाई नहीं दिखती है तो इसकी जांच करवाई जाए."

जिलों के दौरे पर गए मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने इस मामले में ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा है, "मामले का संज्ञान लिया गया है. बेंगलुरू केंद्रीय जेल में जो कुछ भी गड़बड़ियों के आरोप लगे हैं, उसकी उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिए गए हैं."

रूपा स्टांप पेपर घोटाले के दोषी अब्दुल करीम तेलगी पर भी जेल में विशेष सुविधाएं प्राप्त करने के आरोप लगा चुकी हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे