असम: बाढ़ से काजीरंगा पार्क में 58 जानवर मरे

असम इमेज कॉपीरइट Dilip Sharma

असम पिछले कई दिनों से भारी बारिश के कारण बाढ़ की चपेट में है. बाढ़ की वजह से अब तक कम से कम 55 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं काजीरंगा नेशनल पार्क का अधिकतर हिस्सा बाढ़ के पानी में डूब जाने से वन्य जीवों की जान ख़तरे में पड़ गई है.

अनहोनी: तेंदुए के बच्चे को पाल रही है शेरनी

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
असम में बाढ़ से बिगड़े हालात

काजीरंगा नेशनल पार्क के निदेशक सत्येंद्र सिंह ने बीबीसी को बताया, ''अबतक बाढ़ के कारण 58 वन्य जीवों की मौत हो चुकी हैं.

इमेज कॉपीरइट Dilip Sharma

इनमें एक सींग वाले गैंडे के तीन बच्चे भी शामिल हैं. आठ वन्य जीवों की मौत पार्क से सटे राष्ट्रीय राजमार्ग को पार करने के दौरान हुई.''

बाढ़ से बदहाल असम, 17 लाख लोग प्रभावित

इमेज कॉपीरइट Dilip Sharma

यह पार्क गैंडे के अलावा हिरण, हाथी, जंगली भैंस समेत कई तरह के जानवरों का बसेरा है. सत्येंद्र सिंह के अनुसार बाढ़ के पानी में डूबने से गैंडे के तीन बच्चे मारे जा चुके हैं जबकि अब तक की बाढ़ में कम से कम 45 हिरण मारे गए हैं.

इमेज कॉपीरइट Dilip Sharma

अब तक करीब 104 जानवरों की जान बचाई गई है, जिनमें एक गैंडे का बच्चा समते चार जीवों का इलाज चल रहा है.

इमेज कॉपीरइट Dilip Sharma

असम में हर साल मानसून के समय बाढ़ के कारण काजीरंगा नेशनल पार्क के जानवरों को अपनी जान बचाने के लिए ऊंची जगह की तलाश में पास के पहाड़ी ज़िले कार्बी आंग्लोंग का रुख करना पड़ता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पार्क से बाहर निकलना वन्य जीवों ख़ासकर एक सींग वाले गैंडे के लिए ख़तरे से खाली नहीं होता. कार्बी आंग्लोंग ज़िले में कई विद्रोही गुट सक्रिय हैं और पिछले कुछ सालों में गैंडे के अवैध शिकार के मामले इसी इलाक़े में सामने आए हैं.

इमेज कॉपीरइट Dilip Sharma

ऐसी उम्मीद की जा रही है कि अगले एक हफ़्ते के भीतर ब्रह्मपुत्र के पानी का स्तर घट सकता है लेकिन यह तभी संभव होगा जब बारिश रुकेगी.

इमेज कॉपीरइट Dilip Sharma

दुनिया में एक सींग वाले गैंडों के लिए प्रसिद्ध काजीरंगा नेशनल पार्क के डूबने का कारण ब्रह्मपुत्र में बाढ़ का आना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे