नाराज़ मायावती ने राज्यसभा से दिया इस्तीफ़ा

इमेज कॉपीरइट Pti

बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायवती ने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है.

मायावती का कहना है कि अगर वो 'अपने समुदाय की बात सदन में नहीं रख सकतीं' तो उनका राज्यसभा सदस्य रहने का कोई फ़ायदा नहीं.

वो राज्यसभा में बोलने का मौका नहीं मिलने से नाराज़ थीं.

मायवती ने उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में दलितों के साथ हुई कथित हिंसा का मुद्दा उठाया था. उन्हें बोलने के लिए तीन मिनट का वक्त दिया गया था.

इमेज कॉपीरइट Twitter

मायावती जब इसके आगे बोलने लगीं तो उन्हें उप सभापति पीजे कुरियन ने रोका. इस पर मायावती नाराज़ हो गईं और उन्होंने कहा कि वो इस्तीफा दे देंगी.

इस मुद्दे पर सदन में हंगामा भी हुआ.

जनाधार खिसकने के डर से सहारनपुर पहुंचीं मायावती

इमेज कॉपीरइट Pti

बोलने नहीं दिया

बाद में मायावती ने राज्यसभा के सभापति को अपना इस्तीफा भेज दिया.

मायावती ने अपने पत्र में सत्ता पक्ष पर भी आरोप लगाया है और कहा है कि जब उन्होंने बोलना शुरू किया तो भाजपा के सांसदों और मंत्रियों ने शोर-शराबा करना शुरू कर दिया.

बाद में पत्रकारों से बातचीत में मायावती ने कहा, "यूपीए और अन्य विपक्ष के नेताओं ने मुझसे अनुरोध किया था कि आप देश और जनहित के मुद्दे पर मज़बूती से अपनी बात उठाती हैं. हमारा अनुरोध है कि आप इस्तीफा न दें."

उन्होंने आगे कहा, "मुझे कमज़ोर तबके के जो लोग हैं, जो ग़रीब लोग हैं, किसान हैं, मज़दूर हैं और खास तौर से जिस समाज से मैं ताल्लुक रखती हूं, जब उस समाज की बात भी मैं हाउस में नहीं रख पाऊंगी तब मेरा इधर रहने का कोई फायदा नहीं है."

मायावती का राज्यसभा सदस्य के तौर पर कार्यकाल अगले साल अप्रैल तक था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे