नज़रिया: 'मौसम की मार से पीछे हटेंगे चीनी सैनिक'

भारत-चीन इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत और चीन के बीच सिक्किम के पास डोकलाम में तनाव बरक़रार है.

पिछले महीने से सिक्किम के पास डोकलाम में भारतीय और चीनी सैनिक आमने-सामने डटे हुए हैं.

तबसे चीन ने भारत को कई बार आंख दिखाई है और लगातार कहा है कि भारतीय सैनिकों के डोकलाम से पीछे हटने पर ही तनाव कम होगा.

हाल ही में चीन ने कहा कि भारत के लिए चीन का सब्र हमेशा नहीं बना रहेगा. चीनी मीडिया में भी लगातार भारत को लेकर बयानबाज़ी होती रही है.

चीन की सरकार और चीन के सरकारी मीडिया की तरफ़ से भारत के साथ एक तरह का मनोवैज्ञानिक युद्ध छेड़ा गया है.

चीन ने पश्चिमी देशों के राजनयिकों को बुलाकर अपना रुख़ रखा है वो चीन की तरफ़ से भारत पर दबाव बनाने की कोशिश है.

भारत और चीन के बीच तनातनी की वजह क्या है?

'चीन के सामने भूटान को रखकर सीमा विवाद भड़का रहा है भारत'

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
सिक्किम को भारत का हिस्सा नहीं बनाना चाहते थे चोग्याल

छोटे-बड़े सभी देशों से उलझ रहा चीन

असल में चीन ने भूटान की सीमा में अतिक्रमण कर एक रास्ता बनाने की कोशिश की, जिसे रोकने के लिए भारत की सेना ने हस्तक्षेप किया.

इससे बौखलाया चीन असलियत को छुपाना चाहता है.

अपने अतिक्रमण पर पर्दा डालने के लिए चीन लगातार भारत पर आरोप लगा रहा है. लेकिन दुनिया के देश चीन के रवैये से वाकिफ़ हैं.

चीन क्षेत्रफल के हिसाब से एशिया का बहुत बड़ा देश है वो भूटान जैसे छोटे से देश के प्रति आक्रामकता बरत रहा है.

भूटान की जनसंख्या आठ लाख के करीब है. लेकिन चीन ऐसे देश के साथ भी उलझ रहा है.

चीन और भारत के बीच तनाव को ख़त्म करने का एक समाधान यही हो सकता है कि डोकलाम से चीन सैनिक और भारत के सैनिक हट जाएं और वहां यथास्थिति बहाल हो.

भारत-चीन भिड़े तो नतीजे कितने ख़तरनाक?

जब भारतीय सैनिकों ने सिक्किम के चोग्याल के महल को घेरा

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सैनिक हस्तक्षेप

जैसा कि चीन का कहना है कि भारतीय सेना के डोकलाम से हटने पर ही इस तनाव का हल होगा ये संभव नहीं है.

इसलिए ये सोचना कि चीन की सेना भूटान की सीमा से होते हुए डोकलाम पठार पर सड़क बनाएगी, ये परिदृश्य संभव नहीं होगा.

क्योंकि उस इलाके में चीन के मुकाबले भारत भौगोलिक और सैन्य ताकत में फ़ायदे की स्थिति में हैं.

अगर अभी नहीं तो कुछ समय के बाद चीन की सेना डोकलाम से ज़रूर हटेगी क्योंकि जब सख्त सर्द मौसम आएगा तो चीन और भारत के सैनिकों को वहां से हटना पड़ेगा.

कई सालों से चीन धीरे-धीरे भूटान की सीमा में अतिक्रमण कर रहा है .

उत्तर और पश्चिमी भूटान में चीन ने सेंध लगाने की कोशिश कर रहा है, लेकिन इससे पहले भारत ने कभी सैनिक हस्तक्षेप नहीं किया है.

'भारत सेना वापस बुलाए वरना शर्मिंदगी होगी'

चीन ने तिब्बत में किया युद्ध अभ्यास

इमेज कॉपीरइट INDRANIL MUKHERJEE/AFP/Getty Images

भारत का नरम रवैया

लेकिन इस बार भारतीय सेना को हस्तक्षेप करना पड़ा क्योंकि ये भारत की ज़मीन का छोटा सा टुकड़ा जिसे हम 'चिकन नेक' कह सकते हैं, वो हिस्सा जो भारत को अपने उत्तर-पूर्वी राज्यों से जोड़ता है उसके आगे भूटान की सीमा में चीन ने अतिक्रमण किया है.

ये इलाका भारत के लिए सामरिक रूप से महत्वपूर्ण हो जाता है इसलिए भारत चीन के अतिक्रमण को स्वीकार नहीं कर सकता है.

भारत काफ़ी रक्षात्मक रवैया रहा है, अक्सर भारत बचाव की मुद्रा में रहा है.

चीन के साथ भारत का तनाव करीब छह हफ़्तों से शुरू हुआ है, तब से भारत की प्रतिक्रिया काफ़ी सधी हुई रही है लेकिन चीन का रुख़ अब तक आक्रामक और युद्ध को बढ़ावा देने वाला रहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

चीन की सरकार

भारत की तरफ़ से एक बयान आया है जबकि चीन की तरफ़ से दर्जनों बयान आए हैं वो चाहे चीनी सरकार की तरफ़ से हो या चीनी रक्षा मंत्रालय की तरफ़ से.

देखें तो हर दिन चीन की तरफ़ से भारत के लिए धमकी आती है लेकिन भारत की तरफ़ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आती है.

क्योंकि भारत का रक्षात्मक रवैया है जो उसकी मानसिकता में गहराई तक बसा हुआ है और कहीं न कहीं ये भारत की कमज़ोरी साबित होती है.

चीन के साथ मुकाबला करने के लिए भारत का रक्षात्मक रवैया उसके लिए एक बोझ साबित हो सकता है. इसलिए इसमें परिवर्तन आना चाहिए.

(सैन्य एवं अंतरराष्ट्रीय मामलों के विशेषज्ञ ब्रह्म चेलानी से बीबीसी संवाददाता हरिता कांडपाल से बातचीत पर आधारित. )

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे