अपनी ओर से पार्टी को मुक्त करता हूं: शंकर सिंह वाघेला

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK @SHANKERSINHVAGHELA

राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे आने के ठीक एक दिन बाद ही गुजरात की राजनीति में बड़ा उलटफ़ेर हो गया है. कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शंकर सिंह वाघेला ने कांग्रेस से इस्तीफ़े का ऐलान कर दिया है.

अपने इस्तीफ़े की घोषणा में वाघेला ने कांग्रेस के लिए "विनाश काले विपरीत बुद्धि" कहावत कही और बोले, "मैं कांग्रेस से इस्तीफ़े का ऐलान करता हूं और अपनी ओर से पार्टी को मुक्त करता हूं."

अमित शाह के 'राजनीतिक गुरु' गुजरात में क्या करेंगे?

ब्लॉग: दड़बे में डाल के रखियो विधायक को

इमेज कॉपीरइट AFP

77 वर्षीय गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री वाघेला ने शुक्रवार को अपने जन्मदिन के मौके पर रैली के दौरान ये भी कहा कि उन्हें पार्टी ने निकाल दिया है.

वहीं दूसरी ओर राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने हालांकि इस बात का खंडन किया है कि वाघेला के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई की गई.

उन्होंने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा है, 'शंकर सिंह वाघेला वर्तमान गुजरात कांग्रेस प्रमुख को हटाना चाहते थे. पार्टी हमेशा किसी भी व्यक्ति से ऊपर होती है. उन्हें कांग्रेस ने नहीं हटाया. ये बेबुनियाद बातें हैं. ये उनका निर्णय है.'

इमेज कॉपीरइट AFP

एक दिन पहले ही राष्ट्रपति चुनाव के दौरान गुजरात कांग्रेस में क्रास वोटिंग की बात सामने आई थी. और माना जा रहा था कि शंकर सिंह वाघेला के समर्थकों ने रामनाथ कोविंद को अपना वोट दिया.

गुजरात में नवनिर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को 132 वोट मिले थे जबकि विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार को 49. गुजरात में बीजेपी के 121 विधायक हैं जबकि कांग्रेस के 57, लिहाजा यह साफ़ था कि चुनाव के दौरान कम से कम 8 विधायकों ने कोविंद के पक्ष में अपना मत दिया था.

गुजरात में वाघेला बापू के नाम से जाने जाते हैं और उनका अपना बड़ा जनाधार है. हालांकि पिछले कुछ चुनावों के दौरान, चाहे बीजेपी से या फिर कांग्रेस की तरफ से लड़ रहे हों, वो हमेशा रूठते रहे हैं.

राज्य में पहले से ही हाशिये पर पहुंची हुई कांग्रेस के लिए वाघेला का पार्टी छोड़ना बहुत बड़ा आघात है क्योंकि जहां आने वाले दिनों में गुजरात में राज्यसभा की तीन सीटों के लिए चुनाव होने हैं वहीं इसी साल विधानसभा चुनाव भी होंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)