#SwatchDigitalIndia: सोशल मीडिया में भी ज़रूरी है स्वच्छता अभियान

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जितनी ऊंची छोड़ सकते हो, छोड़ते रहो. सोशल मीडिया में, जाहिर तौर पर इस तकिया कलाम को बहुत पसंद किया जाता है.

ख़ास झुकाव वाली राजनीतिक सोच, उपभोक्ताओं को प्रभावित करना, या बस यूं ही जनता के एक हिस्से को ट्रोल करना, फ़ेक न्यूज़ आइटम कई उद्देश्यों को हासिल करने के लिए बनाए जाते हैं.

ये हर कहीं हैं, और ये भी मुमकिन है आप भी इनमें से किसी का शिकार बन चुके हों.

वेब की दुनिया के लोकतांत्रिक स्वरूप और खुलेपन ने इंटरनेट तक हर किसी की पहुंच बना दी. इस पर नाममात्र की सेंसरशिप के साथ कंटेंट साझा किया जा रहा है, हालांकि इसके कुछ अपवाद भी हैं.

#SwachhDigitalIndia: झूठी ख़बरों का इस्तेमाल और उनका असर

#SwachhDigitalIndia: व्हाट्स ऐप पर संदेश का स्रोत पता लगाना मुमकिन?

#SwachhDigitalIndia: झूठे मैसेज फैलाने में व्हाट्सऐप सबसे आगे!

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
नफ़रत और झूठ के ख़िलाफ़ बीबीसी हिंदी और ‘द क्विंट’ की ख़ास पहल- स्वच्छ डिजिटल इंडिया

आकलन बताते हैं कि 13.60 करोड़ भारतीय सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं. स्वतंत्र अध्ययन में पाया गया है कि 60 फीसद से अधिक भारतीय पत्रकार सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल ख़बरों के स्रोत के तौर पर करते हैं.

सोशल मीडिया सभी के लिए सूचना हासिल करने और साझा करने की पसंदीदा जगह बन चुका है.

आभाषी नागरिकों के इसी विशाल संसार के नेटवर्क का इस्तेमाल फेक न्यूज के लिए भी किया गया और दुष्प्रचार से दर्शकों को भ्रमित किया गया.

पोस्ट ट्रुथ (तर्क और तथ्यों के बजाय भावनात्मक अपीलों से कोई बात स्थापित करना) के इस दौर में सच को झूठ से कैसे अलग किया जा सकता है?

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म भी "वैकल्पिक तथ्य" को हटाकर बाहर कर देने और वेबसाइटों पर भरोसा बहाल करने के लिए कुछ उपाय कर रहे हैं. आइए इन पर बारी-बारी से नज़र डालते हैं.

#SwachhDigitalIndia: फ़र्ज़ी ख़बर का ख़ुद कर सकते हैं पर्दाफ़ाश

#SwachhDigitalIndia: फ़ेक न्यूज़ की पोल खोलने के 8 तरीक़े

फेसबुक़

इमेज कॉपीरइट AFP

भारत में 16.6 करोड़ लोग फेसबुक़ का इस्तेमाल करते हैं, जो कि रूस, श्रीलंका और न्यूज़ीलैंड की कुल आबादी से अधिक है. यह एक हकीकत है, लेकिन फेसबुक पर हर चीज़ ग्रहण करने के योग्य नहीं है.

हालांकि आभाषी संसार में लोगों का 'सामाजिक' होना अच्छी बात हो सकती है, लेकिन यही बात चिंता का विषय भी हो सकती है कि क्या आप अपने घर को चिड़ियाघर बनाने जा रहे हैं?

और यह भी कि अगर निगरानी नहीं रखी गई तो हालात बेकाबू हो सकते हैं. आख़िरकार, हर कोई सिर्फ बिल्ली वाला वीडियो तो पोस्ट नहीं कर रहा है.

फेसबुक़ शायद फेक न्यूज़ की समस्या को समझता है, कि इसके कारण इस प्लेटफॉर्म की विश्वसनीयता खतरे में है. इसने उन पेजेज़ की पहचान की है जो फेक न्यूज़ पोस्ट करते हैं और ये स्रोत न्यूज़ फीड में कम दिखाई देंगे.

झूठ और नफ़रत का डिजिटल चक्रव्यूह तोड़ने की कोशिश

व्हाट्सऐप पर बिक रहा था चोरी हुआ बच्चा

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ने फेक न्यूज का फैलाव रोकने के लिए कई उपाय लागू किए हैं. जो लोग नहीं जानते, उन्हें बता दें कि फेसबुक़ ने फेक न्यूज़ की पहचान के लिए एक फ्लैगिंगटूल भी शुरू किया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

फेसबुक़ खुद को फेकबुक़ बनने से बचने के लिए क्या कर रहा है -

  • फेसबुक़ एक नया विकल्प देगा जिसका इस्तेमाल करके यूज़र संदिग्ध चीज़ को 'फेक न्यूज़' के तौर पर मार्क कर सकता है. फेसबुक़ जांच करेगा कि मार्क की गई स्टोरी किसी वैध मीडिया संस्थान की है या नकली साइट की है.
  • फेसबुक़ सच पता लगाने के लिए स्वतंत्र संस्थानों की मदद ले रहा है. ये संस्थान हैं- स्नॉप्स, फैक्टचेक.ओआरजी, एबीसी न्यूज, द एपी, पॉलिटिफैक्ट- प्वाइंटर्स इंटरनेशनल फैक्ट चेकिंगनेटवर्क के सदस्य.
  • फेसबुक़ विवादित सामग्री को 'डिस्प्यूटेड बाई थर्ड पार्टी' के साथ रीड मोर अबाउट इट के साथ चिह्नित करेगा. अगर यूज़र फिर भी इसको शेयर करने की कोशिश करेगें तो यह दोहराएगा कि स्वतंत्र तथ्य जांचकर्ताओं ने इसे खारिज़ कर दिया है.
इमेज कॉपीरइट Reuters

अप्रैल, 2017 में फेसबुक़ ने ऐलान किया था कि न्यूज़ और झूठी सूचनाओं पर रोक लगाने के लिए यह स्वतंत्र जांचकर्ताओं को भुगतान करने की योजना बना रहा है.

यह प्रस्ताव सच जांचने के काम- संसाधनों से संपन्न काम- को आर्थिक रूप से कम बोझिल बनाएगा और इस तरह यह एक आकर्षक रास्ता बन जाएगा.

व्हाट्सऐप

क्या सुबह-सुबह आपकी नींद रिश्तेदारों की व्हाट्सऐप पर खीज पैदा करने वाली 'गुड मॉर्निंग' की बाढ़ से खुलती है?

दुखद है! लेकिन इस इंस्टैंट मैसेजिंग प्लेटफॉर्म का यही सबसे डरावना हिस्सा नहीं है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
जानलेवा हुआ व्हाट्सऐप पर वायरल वीडियो

भारत में हर महीने 20 करोड़ लोग व्हाट्सऐप को सक्रिय रूप से इस्तेमाल कर रहे हैं. व्हाट्सऐप ने इन सभी को मुफ्त और अनलिमिटेड मल्टीमीडिया मैसेजिंग सेवा बांट रखी है.

इनमें से कुछ तो ये खीज पैदा करने वाले 'गुड मॉर्निंग' मैसेज भेज कर ही सब्र कर लेते हैं, जबकि ऐसे भी लोग हैं जो 'झूठ और गलतबयानियों के घालमेल' को फैलाने में जुटे रहते हैं.

वह चाहे 2000 रुपये के नए नोट में जीपीएस चिप हो या 'बाहुबली के प्रभास द्वारा शहीदों को 121 करोड़ दान करने का दावा', व्हाट्सऐप पर ऐसी कहानियां घूमती रहती हैं और फिर मुख्यधारा में जगह पा जाती हैं.

मोदी की 'भौंडी तस्वीर' लगाने पर हुई गिरफ़्तारी

'वॉट्सऐप की वजह से आत्महत्या'

इमेज कॉपीरइट PA

एक सीमित दायरे में जहां आपके कॉन्टैक्ट लिस्ट से कोई आपको मैसेज फारवर्ड करता है, तो आमतौर पर वह आपके भरोसे का शख्स होता है, इसलिए आप उसके द्वारा व्हाट्सऐप पर फारवर्ड किए गए मैसेज पर यकीन कर लेते हैं.

इस प्लेटफॉर्म पर फेक न्यूज़ को पकड़ने का कोई उपाय नहीं होने के कारण यह सब आगे बढ़ता रहता है.

हालांकि व्हाट्सऐप पर भी फेसबुक़ का ही स्वामित्व है, लेकिन फेसबुक़ ने इस प्लेटफॉर्म पर फेक न्यूज़ का पता लगाने के लिए कोई उपाय करने के बारे में स्पष्ट रूप से कुछ नहीं कहा है.

आप ज़्यादा से ज़्यादा व्हाट्सऐप को यूज़र या मैसेज के बारे में रिपोर्ट कर सकते हैं. इसके लिए 'सेटिंग्स' का बटन दबाकर, 'हेल्प' पर जाकर, 'कॉन्टैक्ट अस' पर जाना होता है.

गूगल

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अपने स्कूल के समय में आपने ऐसा कोई टीचर नहीं देखा होगा, जिसने खुद स्टूडेंट्स को सज़ा न देकर, 'मॉनीटर' को ऐसा करने के लिए कहा हो.

इससे टीचर किसी नकारात्मक प्रतिक्रिया से बचे रहते थे, और स्टूडेंट अधिक चौकन्ने रहते थे.

गूगल क्लासरूम, जो कि इंटरनेट है, का वह क्लास टीचर है.

गूगल का आकलन है कि इस साल, भारत में इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों का आंकड़ा 50 करोड़ को पार कर जाएगा.

इंटरनेट सर्च का पर्याय बन चुके गूगल के ही इसका सिरमौर बने रहने की आशा है. गूगल का सर्च इंजन की-वर्ड्स के आधार पर इंटरनेट पर आटोमेटेड अलगोरिद्म से लाखों-लाख पेज खंगालने के बाद नतीजे सामने रख देता है.

यह प्रक्रिया कम से कम 3.5 अरब सर्च रोजाना के हिसाब से दोहराई जाती है, जिसमें बार-बार मेरा यह सवाल भी शामिल होता है कि- 'यूएसबी किस साइड से फिट होगा, इसका पता कैसे लगाएं.'

इमेज कॉपीरइट AFP

इन सर्चेज को सुरक्षित रखना सच में बहुत मुश्किल काम है.

साल 2016 में गूगल ने अपने ऐ़सेन्स एडवर्टाइजिंग नेटवर्क से 200 पब्लिशर्स को स्थायी रूप से प्रतिबंधित किया, जो यूज़र से धोखाधड़ी की कोशिश कर रहे थे.

  • सर्च इंजन के शहंशाह गूगल ने 'फैक्टचेक' नाम से एक नया टूल पेश किया है. इसे इनेबल कर देने पर गूगल के सर्च रिजल्ट में संदेहास्पद न्यूज स्टोरी फैक्ट चेकिंग टैग के साथ नज़र आती हैं. यह टैब बताता है कि इस स्टोरी में बताए गए तथ्य और आंकड़े सच या झूठ हो सकते हैं. गूगल खुद अपनी तरफ से यह यह दावा नहीं करेगा, बल्कि इसके लिए बाहरी फैक्ट-चेकर वेबसाइट से गठबंधन करेगा.
  • फैक्टचेक अभी सिर्फ यूएस स्थित पब्लिकेशन के लिए काम कर रहा है, लेकिन गूगल की योजना दुनिया भर में इसका विस्तार करने की है.
  • गूगल ने अपने ऑनलाइन कंटेंट निगरानीकर्ताओं से यह भी कहा है कि वास्तविक सर्च रिज़ल्ट में "अरुचिकर" सामग्री पर नजर रखें- और फिर इन रिजल्ट को रेटिंग दें.
  • क्वालिटी की रेटिंग देने वालों की रिपोर्ट से गूगल का रिज़ल्ट नहीं बदलेगा, लेकिन इस रिपोर्ट का इस्तेमाल सर्च के अलगोरिदम को परिमार्जित करने में किया जाएगा. इसका अर्थ यह है कि उनके आंकड़े उन निम्न स्तरीय पेजों पर असर डालेंगे, जिनकी समीक्षकों द्वारा पहचान की जाएगी.

ट्विटर

इमेज कॉपीरइट PA

2.3 करोड़ यूज़र के साथ ट्विटर भारतीयों के बीच ट्रेंडिंग टॉपिक तय करने का प्लेटफॉर्म है.

नए जमाने में यह नामी हस्तियों से रूबरू होने, खराब कंज़्यूमर सर्विस की शिकायत करने और यूं ही किसी को ट्रोल करने का अड्डा है.

यह ऐसी जगह भी है जहां कोई नागरिक विदेश मंत्री से खराब फ्रिज की शिकायत कर सकता है. जी हां! यह इतना ही आसान है.

अभी तक, तो इस माइक्रो ब्लॉगिंग साइट के पास फेक न्यूज़ पर नियंत्रण के नाम पर सिर्फ ट्वीट की लंबाई सीमित करने की पॉलिसी है.

अगर आप ढेर सारे फेक न्यूज़ हैंडलर में से किसी की फेक न्यूज़ पकड़ लेते हैं, तो ट्विटर से इस पीस की शिकायत कर सकते हैं. कंटेंट के 'अरुचिकर' होने की शिकायत पर ट्विटर इसकी समीक्षा करने के बाद इसे टाइमलाइन से हटा देगा.

वेब स्पेस को स्वच्छ करने के लिए सोशल मीडिया का यह दादा छोटे बच्चों जैसे कदम उठा रहा है, वह भी उस दौर में जबकि नेट से जुड़ी पीढ़ी ज्यादा परिपक्व हो गई है. तो, सतर्क रहें कि आप क्या पढ़ रहे हैं और क्या शेयर कर रहे हैं. स्वच्छ डिजिटल इंडिया के लिए कसम उठाएं और एक सोशल पोस्ट करें.

(ये लेख बीबीसी हिंदी और द क्विंट की साझा पहल 'स्वच्छ डिजिटल इंडिया' का हिस्सा है. इसी मुद्दे पर द क्विंट के आक़िब रज़ा ख़ान का अंग्रेज़ी लेख यहाँ पढ़िए. )

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)