प्रेस रिव्यूः 'करगिल युद्ध में बाल बाल बचे थे नवाज़ और मुशर्रफ़'

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption नवाज़ शरीफ़ और परवेज़ मुशर्रफ़ (फ़ाइल फ़ोटो)

इंडियन एक्सप्रेस की एक ख़बर के अनुसार, करगिल युद्ध के दौरान एक बार ऐसा मौका आया जब पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ और सैन्य प्रमुख परवेज़ मुशर्रफ़ भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमान जगुआर के निशाने पर आ गए थे.

आधिकारिक दस्तावेज़ के हवाले से ख़बर में कहा गया है कि जब करगिल युद्ध चरम पर था, 24 जून 1999 को सुबह 8 बजकर 45 मिनट पर जगुआर ने पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में नियंत्रण रेखा के अंदर उड़ान भरी और पाकिस्तान के अग्रिम सैन्य बेस गुलटेरी को निशाना बनाया.

ठीक इसी समय यहां नवाज़ शरीफ़ और मुशर्रफ़ सैनिकों को संबोधित कर रहे थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक ख़बर के अनुसार, खाड़ी देशों में जाने वाले भारतीयों की संख्या में काफ़ी गिरावट दर्ज की गई है. इस कारण भारत भेजे जाने वाले धन में भी कमी आई है. खाड़ी देशों की अर्थव्यवस्थाओं में मंदी को इसका कारण माना जा रहा है.

दैनिक हिंदुस्तान की एक ख़बर के अनुसार, लड़कियों का विषय समझे जाने वाले गृह विज्ञान को स्कूलों में लड़कों के लिए अनिवार्य बनाने की तैयारी चल रही है. इस संदर्भ में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने एक मसौदे को मंज़ूरी के लिए कैबिनेट को भेजा है.

नवभारत टाइम्स की एक ख़बर के अनुसार, एनडीए से उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार वेंकैया नायडू ने कहा है कि पाकिस्तान को 1971 की जंग को याद रखना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

द हिंदू की एक ख़बर के अनुसार, प्रणव मुखर्जी ने अपने विदाई समारोह में कहा है कि विधेयक के ज़रिये क़ानून बनाना अंतिम विकल्प के रूप में इस्तेमाल किया जाना चाहिए.

हिंदुस्तान टाइम्स की एक ख़बर के अनुसार, सुप्रीम कोर्ट में एक व्यक्ति ने याचिका दाखिल कर कहा है कि तिरुपति मंदिर को आठ करोड़ रुपये के पुराने नोट लौटाने की इजाज़त दी जानी चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे