नज़रिया: 'ऐसे भिड़ेंगे कि बिहार में बहार की बात हवा हो जाएगी'

नीतीश कुमार इमेज कॉपीरइट cmbihar.in

बिहार की सत्ता में जो फेरबदल की सनसनी बुधवार शाम शुरू हुई, वह रात भर जारी रही. लगा कि सारा कुछ पूर्व नियोजित था.

आनन-फानन इस्तीफ़ा और शपथ ग्रहण की पटकथा का मंचन हो गया.

यह भी पता चला कि इस पूरे प्रकरण की सूत्रधार भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ही थी. भले ही नीतीश कुमार इसके मुख्य किरदार नज़र आते रहे.

देखते ही देखते कांग्रेस समेत लालू यादव की राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सरकार से बाहर हो गई और बीजेपी अंदर आ गई.

LIVE: नीतीश कुमार छठी बार बने बिहार के मुख्यमंत्री

शाम से लेकर सहर तकः यूं बदली बिहार की सियासत

'विश्वसनीयता की ऐसी-तैसी'

इमेज कॉपीरइट PIB

जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के मुखिया फिर से मुख्यमंत्री पद पर बरक़रार रह गए. यह सियासत भी ग़ज़ब का खेल है!

जिसे गले से लगाया, उसे चुटकी में चलता कर दिया. विश्वसनीयता की ऐसी-तैसी हो, तो हो जाए.

लालू-नीतीश की सत्तावादी सियासत बीस महीने में ही चल बसी. अटूट महागठबंधन की रट लगाने वाले घटक एक झटके में टूट-फूट के पात्र बन गये.

'28 साल के लड़के से डर गए नीतीश कुमार'

'यूँ #NiKu और #NaMo का इश्क़ आबाद हो गया!'

ज़ाहिर है कि नीतीश कुमार ने यहां लालू परिवार को सत्ता से बेदखल करने में बेनामी सम्पत्ति संबंधी मामले को हथियार बनाया.

उन्हें लगा कि अब लालू के साथ लगे रहने से उनकी भ्रष्टाचार विरोधी प्रचारित छवि नहीं बचेगी. इसलिए तय कर लिया कि फिर से बीजेपी के सहारे सत्ता में बने रहने का यही अच्छा मौक़ा है.

चौबे ने छब्बे बनने की महत्वाकांक्षा फ़िलहाल छोड़ दी, क्योंकि दूबे बन जाने की आशंका होने लगी थी.

इमेज कॉपीरइट cmbihar.in

'संघ मुक्त' भारत के वादे का क्या?

नीतीश समय आने पर फिर पलटी मार लेंगे. क्या फ़र्क़ पड़ता है?

वो तो सार्वजनिक सभा में हाथ उठा कर प्रतिज्ञा कर चुके थे कि मिट्टी में मिल जाएंगे लेकिन बीजेपी से फिर कभी हाथ नहीं मिलाएंगे. वादा किया था कि 'संघ मुक्त' भारत बना कर दम लेंगे.

वही आज कह रहे हैं कि पुरानी दोस्त बीजेपी के बूते ही बिहार में बहार ला सकेंगे.

वैसे, सोच कर देखें तो इस बात में दम है. केंद्र चाहे तो इस उपेक्षाग्रस्त राज्य के हालात बदल सकते हैं. लालू परिवार की छवि से चिढ़ते आ रहे अधिकांश लोगों का यही ख़याल है.

नीतीश ने कहा, बीजेपी में हिम्मत है तो.....

आखिर लालू और नीतीश के बीच चल क्या रहा है?

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption लालू की पत्नी और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और लालू के बेटे तेज प्रताप यादव

लेकिन फिर वही बात. लुभावने जुमलों से लोगों को ठगने के सबूत भी तो सामने आते ही रहे हैं.

अब 'लालू मुक्त बिहार' के नारे लगाने वाले और 'मौक़ापरस्त नीतीश' के आरोप उछालने वाले एक-दूसरे के ख़िलाफ़ ऐसे भिड़ेंगे कि बिहार में बहार की बात हवा हो जाएगी.

याद रहे कि लालू वो नाम है, जो मुश्किलों में फंसने और फिर उनसे उबरने की मिसाल क़ायम कर चुका है.

नीतीश-भाजपा ब्रेकअप का काउंटडाउन शुरु ?

'इंडिया को नहीं बचा पाए तो क्या फ़ायदा'

अब लालू का क्या होगा?

लालू का जेलों में या सत्ता में आने-जाने का सिलसिला कब थमेगा, कहा नहीं जा सकता.

हालांकि हस्तिनापुर में जड़ जमा चुकी सियासी जमात इस बार बिहार में अपने विरोधियों की उखाड़-पछाड़ में पूरी ताक़त लगाती हुई दिख रही है.

सुशील कुमार मोदी की मेहनत काम आई. उन्हें उपमुख्यमंत्री का खोया दर्जा मिल गया.

इमेज कॉपीरइट PTI

अब यह बात किसी से छिपी नहीं रही कि लालू परिवार की बेनामी संपत्ति पर हमले के हथियार उन्हें किसने थमाए.

अब लगता यही है कि लालू प्रसाद आगामी चुनाव में नीतीश-मोदी गठबंधन से बदला लेने में जुटेंगे और केंद्र सरकार लालू परिवार को क़ानून की गिरफ़्त में ही तोड़ देने जैसे हालात पैदा करने में लगी रहेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे