नजरिया: 'शंकर सिंह वाघेला के हाथ में अहमद पटेल की जीत'

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption राहुला गांधी के साथ अहमद पटेल

गुजरात में कांग्रेस के कुल छह विधायक इस्तीफ़ा दे चुके हैं और कांग्रेस ने अपने बाक़ी विधायकों को राज्य से बाहर भेज दिया है.

कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी पर गुजरात में कांग्रेस के विधायकों को लालच देकर बहलाने का आरोप लगाया है. इस सिलसिले में एक शिकायत के साथ कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल कल चुनाव आयोग भी पहुंचा.

कांग्रेस में मची उठापटक की असली वजह और उसके संभावित असर के बारे में बता रहे हैं वरिष्ठ पत्रकार आरके मिश्र.

शंकर सिंह वाघेला तकरीबन दो साल से कांग्रेस के हाईकमान को समझाने की कोशिश कर रहे हैं.

उनका कहना था कि पिछले विधानसभा चुनाव में 2012 में 28 सीटों पर कांग्रेस ने आख़िरी 48 घंटों में अपने उम्मीदवार बदले थे.

बाद में नतीजों के बाद कांग्रेस के पास कुल 58 सीट थी. इसमें 28 सीट और जोड़े जाते हैं तो यह तकरीबन 90 के पास हो जाते हैं.

तो उनका कहना था कि पहले से यह फ़ैसला होना चाहिए ताकि तैयारी के लिए समय मिले.

शंकर सिंह वाघेला का नया दांव क्या होगा?

शंकर सिंह वाघेला के इस्तीफ़े से बीजेपी क्यों खुश है?

राजनीतिक विश्लेषक भी मानते हैं कि यह कांग्रेस के लिए माकूल होता क्योंकि गुजरात में सिर्फ़ कांग्रेस और बीजेपी यही दोनों दल हैं.

उस वक्त शंकर सिंह वाघेला की बात सुनी नहीं गई फिर चाहे कोई भी वजह रही हो. पिछले 33 साल से कांग्रेस गुजरात में चुनाव जीतकर सीधे सत्ता में नहीं आई है.

यह एक संयोग है कि गुजरात में कांग्रेस के कमजोर नेता रहे.

अहमद पटेल सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार हैं इसलिए उनका बड़ा प्रभाव रहा है.

शंकर सिंह वाघेला ने बहुत वक्त बीजेपी में गुजारा है. वो जनसंघ और संघ में रहे हैं. उनके निकलने के साथ ही नेताओं के निकलने का सिलसिला शुरू हो गया है. बीजेपी तो इसी ताक में बैठी थी.

इमेज कॉपीरइट PTI

रणनीति

पिछले दो दिनों के अंदर तीन-तीन मतलब कुल छह विधायक जा चुके हैं. उनमें से एक को तो बीजेपी ने राज्यसभा का उम्मीदवार भी बना दिया.

यह बहुत साफ रणनीति अमित शाह ने अहमद पटेल को हराने के लिए बनाई है.

यह बीजेपी के लिए एक तरह से हौसला बढ़ाने वाला होगा कि उन्होंने कांग्रेस के इतने कद्दावर नेता को हरा दिया.

अब कांग्रेस के पास 57 में से सिर्फ़ 51 विधायक रह गए हैं. अहमद पटेल को 46 वोट चाहिए जीतने के लिए. इसलिए अगर पांच या छह और चले जाते हैं तो फिर उनके लिए राज्यसभा की सीट जीतनी मुश्किल होगी.

अगर अहमद पटेल यह चुनाव हार जाते हैं तो यह कांग्रेस अध्यक्ष के राजनीतिक सलाहकार की हार होगी. यह कांग्रेस के लिए बहुत बड़ा धक्का होगा.

यह अब तक कांग्रेस को मिल रहे धक्कों में सबसे गहरा धक्का होगा.

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमित शाह की जीत

जिसतरह से गुजरात नरेंद्र मोदी का गढ़ माना जाता है उसी तरह कांग्रेस के अंदर अहमद पटेल का गढ़ भी गुजरात को ही माना जाता है.

शंकर सिंह वाघेला जो चाहते थे वो नहीं हुआ तो इसकी सबसे बड़ी वजह अहमद पटेल को माना जाता है.

अब विडंबना देखिए कि अहमद पटेल की राज्यसभा की सीट का भविष्य शंकर सिंह वाघेला के हाथ में है.

माना जाता है कि अभी भी पांच-छह आदमी शंकर सिंह वाघेला के कांग्रेस के अंदर बने हुए हैं.

अगर वो अहमद पटेल को वोट नहीं करते हैं तो अहमद पटेल हार जाएंगे और अमित शाह की इससे बड़ी जीत और क्या हो होगी.

(बीबीसी संवाददाता संदीप सोनी से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे