प्रेस रिव्यू: चीन ज़मीन पर भारी, पर समंदर में भारत से कैसे पार पाएगा?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इकोनॉमिक टाइम्स के अनुसार चीन के विशेषज्ञों ने शी जिनपिंग सरकार को चेतावनी दी है अगर भारत के साथ डोकलाम विवाद लंबा खिंचा तो इसका असर उसकी महत्वाकांक्षी योजना 'वन बेल्ट, वन रोड' पर पड़ सकता है.

मकाऊ स्थित सैन्य विशेषज्ञ एंटनी वोंग डोंग ने चेतावनी दी है कि डोकलाम विवाद पर चीन का अड़ियल रुख़ भारत को उससे दूर कर रहा है और हो सकता है इसका नतीजा ये हो कि भारत उसका दुश्मन बन जाए.

वोंग ने साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट से कहा, "चीन मनोवैज्ञानिक जंग लड़ रहा है....लेकिन उसे ये अहसास होना चाहिए कि अगर वो ज़मीन पर भारत को हरा भी देता है तब भी पीएलए नेवी के लिए समंदर में भारत से पार पाना लगभग नामुमकिन होगा."

उन्होंने कहा कि चीन प्रमुख रूप से आयातित तेल पर निर्भर है और हाल ही चीन के सरकारी मीडिया में छपी रिपोर्टों के अनुसार उसका 80 फ़ीसदी तेल हिंद महासागर के रास्ते आता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

एक अन्य विशेषज्ञ सुन शइहाई ने अख़बार से कहा कि पिछले तीन दशक में भारत और चीन के बीच ये सबसे बड़ा सीधा टकराव है. अगर ये विवाद लंबा खिंचा तो भारत में चीन विरोधी भावनाएं प्रबल हो जाएंगी.

भौगोलिक रूप से भारत चीन की वन बेल्ट, वन रोड योजना के लिए बेहद महत्वपूर्ण है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दैनिक जागरण के मुताबिक उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में होने वाले विवाहों का पंजीकरण अनिवार्य करने के एक प्रस्ताव को मंगलवार को मंजूरी दे दी. यह सभी धर्मों पर लागू होगा.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक में यह फैसला किया गया. बैठक के बाद राज्य सरकार की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया कि मंत्रिपरिषद ने 'उत्तर प्रदेश विवाह पंजी​करण नियमावली 2017' को लागू करने का प्रस्ताव मंजूर किया है.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक भाजपा सांसदों के राज्यसभा से ग़ैरहाज़िर रहने पर पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कड़ी नाराज़गी जताई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मंगलवार को बीजेपी संसदीय बोर्ड की बैठक में शाह ने इस मुद्दे पर अपनी नाराजगी जताई. संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने कहा, जब पार्टी व्हिप जारी करती है तो सदस्यों को सदन में मौजूद रहना चाहिए.

उन्होंने कहा कि पार्टी अध्यक्ष ने इसे गंभीरता से लिया है और सदस्यों से कहा है कि ऐसा दोहराया न जाए.

दरअसल, राज्यसभा में सोमवार को सरकार की उस समय किरकिरी हुई जब विपक्ष का एक संशोधन पास हो गया.

ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने संबंधी संविधान संशोधन विधेयक पर वोटिंग के दौरान सरकार को हार का सामना करना पड़ा. एनडीए के कई सांसद सदन में मौजूद नहीं थे और इसी का फायदा विपक्ष को मिला.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)