प्रेस रिव्यू- चोटियां कटीं तो होगा लाई डिटेक्टर टेस्ट!

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption फ़ाइल फोटो

नवभारत टाइम्स के मुताबिक चोटी कटने की बढ़ती घटनाओं से परेशान दिल्ली पुलिस अब ऐसी घटनाओं पर ऐसी महिलाओं का लाई डिटेक्टर यानी झूठ पकड़ने का टेस्ट कराने की योजना बना रही है.

पुलिस का कहना है कि पहले तो अधेड़ महिलाओं की ही चोटियां कट रहीं थीं, लेकिन पिछले दो दिनों से नाबालिगों की भी चोटियां कटने के मामले सामने आ रहे हैं.

ख़बर के मुताबिक दिल्ली के आंबेडकर नगर इलाके में 12 साल की लड़की की चोटी कटने की सूचना पर पुलिस पहुँची तो जाँच में पता चला कि लड़की के दो छोटो भाइयों ने ही चोटी काटी थी.

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि अंधविश्वास की वजह से लोग नीम के पेड़ों की टहनियों और पत्तों को तोड़कर घरों में लगा रहे हैं.

द हिंदू के मुताबिक पशु व्यापार पर प्रतिबंध के नियमों को संसद में पेश नहीं किया गया, जबकि लागू करने से पहले इन्हें सदन के पटल पर रखा जाना चाहिए था. अख़बार ने सूचना के अधिकार के तहत लोकसभा सचिवालय से मांगी गई सूचना के आधार पर ये दावा किया है.

पशु व्यापार पर प्रतिबंध के नए नियमों को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है और एक याचिकाकर्ता ने लोकसभा सचिवालय से ये जानकारी मांगी थी. सरकार ने 23 मई को पशु व्यापार के नियम अधिसूचित किए थे, जिनके तहत पशुओं को सिर्फ़ खेती के लिए ही पशु बाज़ार से ख़रीदा जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक आधार के बिना अब मृत्यु पंजीकरण नहीं होगा.

एक अक्टूबर से मृतक के पंजीकरण के लिए उसकी पहचान के रूप में आधार की आवश्यकता होगी.

अगर आवेदक को मृत व्यक्ति का आधार नंबर या एनरॉलमेंट आईडी नंबर न पता हो तो उसे एक हलफ़नामा देना होगा कि उसकी जानकारी में मृत व्यक्ति के पास आधार नंबर नहीं था. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक अक्टूबर से मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए आधार ज़रूरी करने को मंज़ूरी दे दी है.

जम्मू-कश्मीर, असम और मेघालय के लिए इस फ़ैसले के लागू होने की तारीख की घोषणा बाद में की जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे