#70yearsofpartition: महिंद्रा और मोहम्मद का वो दिलचस्प क़िस्सा

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
क्या आप जानते हैं कि बंटवारे के साथ महिंद्रा ऐंड महिंद्रा कंपनी का गहरा नाता है

(भारत और पाकिस्तान की आज़ादी के सत्तर साल पूरे होने पर हम एक ख़ास सिरीज़ के ज़रिए आपको दोनों देशों के बीच के दिलचस्प क़िस्से बता रहे हैं. इसी कड़ी में पेश है महिंद्रा और मोहम्मद का ये क़िस्सा)

महिंद्रा ऐंड महिंद्रा भारत की बड़ी कंपनियों में से एक है. ये भारत की बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनियों में से एक है. महिंद्रा ऐंड महिंद्रा दुनिया की सबसे बड़ी ट्रैक्टर कंपनी है. आज इसका कारोबार अरबों डॉलर में है.

लेकिन क्या आपको मालूम है कि कभी इस कंपनी का नाम महिंद्रा ऐंड मोहम्मद था?

जी हां, महिंद्रा ऐंड महिंद्रा कंपनी की जब शुरुआत हुई थी तो इसका नाम महिंद्रा ऐंड मोहम्मद था. इसका देश के बंटवारे से भी गहरा ताल्लुक़ है. बंटवारे का इस कंपनी पर ऐसा असर पड़ा था कि इसका नाम तक बदल गया.

#70yearsofpartition: बंटवारे की पहेली

पाकिस्तान: कई परिवार गाय के गोश्त को हाथ नहीं लगाते

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
बंटवारे से प्रभावित आम लोगों की दास्तान है इस म्यूज़ियम में

महिंद्रा ऐंड महिंद्रा कंपनी की शुरुआत 1945 में हुई थी. इसे के सी महिंद्रा, जे सी महिंद्रा और मलिक गुलाम मोहम्मद ने लुधियाना में शुरू किया था. शुरुआत में ये कंपनी स्टील का कारोबार करती थी.

कंपनी के चेयरमैन केशब महिंद्रा बताते हैं कि के सी महिंद्रा और जे सी महिंद्रा ने मलिक गुलाम मोहम्मद को इसलिए कंपनी में साझीदार बनाया था ताकि वो हिंदू-मुस्लिम एकता का संदेश दे सकें. गुलाम मोहम्मद की कंपनी में छोटी ही हिस्सेदारी थी. मगर उनका नाम कंपनी के साथ जुड़ा था.

तीन मुसलमान और एक हिन्दू- विभाजन पर भारी

जिन्ना पाक गवर्नर जनरल बने माउंटबेटन भारत के

इमेज कॉपीरइट Getty Images

केशब महिंद्रा बताते हैं कि बंटवारे से पहले जब पाकिस्तान की मांग ने ज़ोर पकड़ा तब भी गुलाम मोहम्मद और महिंद्रा परिवार की दोस्ती बरकरार रही. साझा कारोबार चलता रहा.

जब अगस्त 1947 को देश आज़ाद हुआ तो दो हिस्सों में बंट चुका था. मलिक गुलाम मोहम्मद, पाकिस्तान चले गए. वो पाकिस्तान के पहले वित्त मंत्री बनाए गए थे.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
सिखों ने आपस में चंदा इकट्ठा कर दरगाह को ठीक किया.

देश का बंटवारा हुआ तो कारोबार का भी हो गया. 1948 में महिंद्रा ऐंड मोहम्मद का नाम बदलकर महिंद्रा ऐंड महिंद्रा कर दिया गया. क्योंकि अब गुलाम मोहम्मद इस कंपनी के साझीदार नहीं रह गए थे. हालांकि दोनों परिवारों के बीच रिश्ता, बंटवारे के बाद भी बना रहा. लेकिन कारोबारी ताल्लुक़ ख़त्म हो गया.

केशब महिंद्रा कहते हैं कि जब मलिक गुलाम मोहम्मद पाकिस्तान गए, तो उनके परिवार को सदमा लगा था. उन्हें इस बात का दुख था कि गुलाम मोहम्मद ने अपने इरादों के बारे में कभी भी महिंद्रा परिवार को नहीं बताया था.

जब रॉयल इंडियन एयरफ़ोर्स का हुआ बंटवारा

1951 में मलिक गुलाम मोहम्मद पाकिस्तान के गवर्नर जनरल बनाए गए.

इमेज कॉपीरइट Wikipedia (peopelofpakistan.blogspot.kr)

केशब महिंद्रा बताते हैं कि गवर्नर जनरल बनने के बाद भी मलिक गुलाम मोहम्मद महिंद्रा परिवार से पुराने रिश्तों को नहीं भूले.

1955 में गुलाम मोहम्मद, राजपथ पर हुई गणतंत्र दिवस की पहली परेड के मुख्य अतिथि थे. केशब महिंद्रा बताते हैं कि जब गुलाम मोहम्मद दिल्ली आए तो उन्होंने पहला फ़ोन उनकी दादी को किया था. इस तरह दोस्ती का ये रिश्ता अगली पीढ़ियों तक चलता रहा.

आज की तारीख़ में महिंद्रा ऐंड महिंद्रा 15 अरब डॉलर की कंपनी है.

भारत-पाक बंटवारा: 70 साल बाद भी वो दर्द ज़िंदा है..

इमेज कॉपीरइट SAJJAD HUSSAIN/Getty Images
Image caption केशब महिंद्रा

केशब महिंद्रा कहते हैं कि भारत और पाकिस्तान की संस्कृति साझी है. दोनों देशों के लोग एक दूसरे को पसंद करते हैं. मगर इसका असर सियासी रिश्तों पर नहीं दिखता.

वो उम्मीद जताते हैं कि आगे चलकर आम पाकिस्तानियों और हिंदुस्तानियों की तरह दोनों देशो के ताल्लुक़ भी बेहतर होंगे. तल्ख़ी कम होगी और दोनों देश क़रीब आएंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे