झारखंड में मोबाइल चोरी का आरोप लगाकर युवती को नंगा कर पीटा

अभियुक्त इमेज कॉपीरइट SONAM KUMARI

झारखंड के दुमका में एक कॉलेज छात्रा का नग्न वीडियो वायरल होने के बाद से हड़कंप मचा हुआ है.

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इस मामले में दुमका प्रशासन से 24 घंटे में रिपोर्ट तलब की है. इसके बाद आनन-फानन मे गठित जांच कमेटी ने पीड़िता और दूसरी लड़कियों से बात की है. इसकी पुलिस रिपोर्ट भी दर्ज़ कराई गई है.

दुमका के उपायुक्त मुकेश कुमार ने बीबीसी को बताया कि इस मामले की जांच के लिए एडीएम स्तर की एक महिला पदाधिकारी के नेतृत्व में तीन अधिकारियों की कमेटी गठित की गयी है. कमेटी के सदस्य संबंधित लोगों से पूछताछ कर रहे हैं. यह कमेटी बुधवार तक अपनी रिपोर्ट सौंप देगी.

मॉडल को 'सेक्स के लिए' खाड़ी देशों में बेचने की तैयारी थी

'मैं नग्न होती रहूंगी ताकि फॉलो करना छोड़ दो'

इमेज कॉपीरइट SONAM KUMARI

दरअसल, यह मामला दुमका के प्रतिष्ठित संथाल परगना महिला कॉलेज (एसपी कॉलेज) का है. यहां आदिवासी हॉस्टल में रहने वाली कुछ छात्राओं पर मोबाइल चोरी के आरोप में अपनी ही सहेली को नंगा कर पीटने और उस घटना का वीडियो क्लिप सोशल साइट्स पर वायरल करने के आरोप लगे हैं.

इमेज कॉपीरइट SONAM KUMARI

इस मामले की पीड़िता सेलिना (बदला हुआ नाम) ने बीबीसी से कहा, "हम बस स्टैंड के पास मोबाइल से बात कर रहे थे. तभी वे लोग (कुछ छात्राएं) आए और मुझे मोबाइल चोर कह कर पकड़ लिया. फिर मुझे हॉस्टल ले गए. वहां एक दिन और एक रात रखा. इस दौरान हमको नंगा करके घुमाया और पीटा. मेरे मना करने के बावजूद उन लोगों ने मेरा वीडियो बना लिया और इसे वायरल करने की धमकी दी. अब हम जी कर क्या करेंगे. मेरी इज्जत चली गई तो हम भी मरे हुए के समान हो गए."

इमेज कॉपीरइट SONAM KUMARI

सेलिना के पिता मणींद्र (बदला हुआ नाम) ने बीबीसी से कहा, "हॉस्टल में सबने पंचायत की. उसमें बाहर से लड़कों को भी बुलाया गया था. उनलोगों ने मेरी बेटी पर 18,600 रुपये का जुर्माना लगाया. मैंने यह रकम चुकाने के लिए 25 अगस्त तक की मोहलत मांगी थी. ताकि बैल बेचकर पैसे का जुगाड़ कर सकूं. लेकिन, उन लोगों मे मेरी बेटी की नंगी फोटो इंटरनेट पर डाल दी."

बहरहाल, इस मामले के उजागर होने के बाद प्रशासन सकते में है. सिदो कान्हू मुर्मू यूनिवर्सिटी दुमका के प्रतिकुलपति डॉक्टर सत्यनारायण मुंडा के नेतृत्व में एक टीम अलग से इसकी जांच कर रही है.

वहीं, दुमका के पुलिस अधीक्षक मयूर पटेल ने बीबीसी को बताया कि इस मामले में सोमवार रात ही एफ़आईआर दर्ज कर ली गई थी. हमने साइबर सेल को कहा है कि वह वीडियो को वायरल होने से रोकने का प्रयास करे. पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लिया है. उनसे पूछताछ की जा रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे