'तो ये संदेश जाता कि कांग्रेस डूबता सूरज है'

अहमद पटेल इमेज कॉपीरइट RAVEENDRAN/Getty Images

हाल के दिनों में या हाल के सालों में इतना ड्रामा भरा चुनाव नहीं देखा.

ये चुनाव प्रधानमंत्री के लिए नहीं था, मुख्यमंत्री के लिए भी नहीं था, संसद के लिए ज़रूर था लेकिन वो भी ऊपरी सदन यानी राज्यसभा के लिए था.

लेकिन दोनों पक्षों के लिए ये प्रतिष्ठा का सवाल बन गया क्योंकि दोनों पक्षों के लिए दांव पर बहुत कुछ लगा था.

मान लीजिए कि जैसे ये चुनाव अमित शाह बनाम अहमद पटेल बन गया था अगर इसमें अगर अहमद पटेल हार गए होते.

काफी हद तक मामला ऐसा बन गया था कि अगर चुनाव आयोग ने दो वोट रद्द ना किए होते तो अहदम पटेल हार ही जाते.

अहमद पटेल गांधी परिवार के इतने ख़ास क्यों हैं?

कांग्रेस को हक़ीक़त का आईना देखने की ज़रूरत!

'संदेश जाता कि कांग्रेस डूबता सूरज है'

इमेज कॉपीरइट Reuters

अगर अमित शाह एक तरफ से राज्यसभा में आते और साथ-साथ दूसरी तरफ से अहमद पटेल राज्यसभा से बाहर जाते तो उसका अपना ही संदेश था.

अहमद पटेल सोनिया गांधी और कांग्रेस के सिस्टम बीते दस सालों से अधिक समय से संभाल रहे हैं. अगर वो शख्स राज्यसभा से जाते तो कांग्रेस से मनोबल पर असर पड़ता.

देश में संकेत जाता था भाजपा उगता हुआ सूरज और कांग्रेस डूबता हुआ सूरज है. ऐसे में जो लोग राजनीति हैं उनमें होड़ लग जाती कि भाजपा के ख़ेमे में जाओ क्योंकि इसी पार्टी की अब ख़ास भूमिका होगी.

जहां तक गुजरात का सवाल है वहां को कांग्रेस पूरी तरह ख़त्म होने की कग़ार तक पहुंच जाती.

देश बदल गया है, कांग्रेस को भी बदलना होगा: जयराम

वो फैक्टर जिस पर निर्भर है अहमद पटेल का चुनाव जीतना

इमेज कॉपीरइट Getty Images

तीन सप्ताह पहले तक कांग्रेस के पास 57 विधायक थे और अहमद पटेल को आसानी से जीत सकते थे, लेकिन जैसे-जैसे चुनाव नज़दीक आए 15 विधायक पार्टी छोड़ कर चले गए. आगे जा कर पार्टी का क्या होता ये देखने वाली चीज़ होती.

इसीलिए भी कांग्रेस का इस सीट को जीतना ज़रूरी हो गया और भाजपा के लिए इस सीट पर अहमद पटेल को हराना ज़रूरी हो गया.

अहमद पटेल के लिए भी लड़ना बेहद ज़रूरी हो गया था क्योंकि उनकी अपनी पोज़ीशन, कांग्रेस की पोज़ीशन, कांग्रेस अध्यक्ष की पोज़ीशन सब उसमें शामिल हो गया था.

पटेल को जिताने और शाह का खेल बिगाड़ने वाले?

रात भर यूं चलता रहा गुजरात का सियासी ड्रामा

क्या था ज़रूरी- सीट या पटेल?

इमेज कॉपीरइट SAM PANTHAKY/Getty Images

एक और सवाल ये सामने आता है कि यहां पर राज्यसभा की सीट जीतना ज़रूरी था या फिर अहमद पटेल को राज्यसभा पहुंचाना.

सीट ज़रूरी नहीं थी वो तो कांग्रेस को जीत जानी चाहिए थी. पटेल की अपनी सीट होते हुए उन्होंने एक लड़ाई लड़ी और किसी तरह जीत गए.

ये सिर्फ एक सीट का मामला नहीं था ये अहमद पटेल का मामला था, कांग्रेस पार्टी और सोनिया गांधी का मामला था. ये आगे जा कर कांग्रेस की क्या हैसियत होती, उसका भविष्य क्या होगा उसका मामला था.

हालांकि कांग्रेस के लिए जीत भी काफी मुश्किल भरी रही लेकिन कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में जो संकेत गया है वो ये है कि कहीं ना कहीं लड़ाई बाक़ी है.

आज उन्हें लगता है कि अभी भी हम अगर कमर कस लें तो हम लड़ सकते हैं. ये चीज़ें कार्यकर्ताओं में एक नई उर्जा ला सकती है.

तीन साल में पंजाब को छोड़ कर कहीं से भी कांग्रेस के पास अच्छी ख़बर नहीं मिली है.

इमेज कॉपीरइट PRAKASH SINGH/Getty Images

कांग्रेस में संकट है और ये बात इस पूरे प्रकरण में साफ दिखती है. विधायकों को मैनेज करने का मतलब ये नहीं कि जनता कांग्रेस के साथ है.

एक राज्यसभा की सीट से कुछ नहीं होने वाला है, कांग्रेस को अपने अंदर झांक कर देखना होगा और बड़े पैमाने पर काम करने की ज़रूरत है.

हाल में जयराम रमेश ने कहा कि हमारे अस्तित्व को ले कर संकट है. पहले भी हम चुनाव हारते थे लेकिन फिर उससे रिकवर भी कर लेते थे, लेकिन अब तो बड़े नेता कहते हैं कि अस्तित्व को ले कर संकट है.

कांग्रेस को सोचना होगा कि वो क्यों हारे, क्या कारण हैं हारने के और स्थति में सुधार लाने के लिए उन्हें क्या करना होगा. उन्हें मंथन करना होगा कि उन्हें क्या कड़े सुधार करने चाहिए.

अहमद पटेल की जीत से कुछ मनोबल तो बढ़ेगा लेकिन इससे कुछ ख़ास नहीं बदलने वाला है.

(बीबीसी संवाददाता मानसी दाश से बातचीत पर आधारित.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)