'बच्चों की मौत योगी सरकार के माथे पर कलंक': पूर्व स्वास्थ्य मंत्री

बीआरडी कॉलेज इमेज कॉपीरइट Getty Images

उत्तर प्रदेश के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री अहमद हसन ने गोरखपुर के अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से हुई बच्चों की मौत को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए इसके लिए राज्य की मौजूदा सरकार को ज़िम्मेदार ठहराया है.

गोरखपुर के अस्पताल को ऑक्सीजन फर्म ने दी थीं सात चेतावनियां

'आप कहां हैं प्रधानमंत्री जी...मन की बात करनी चाहिए'

बीबीसी से बात करते हुए उन्होंने कहा, "ऑक्सीजन की कमी से बच्चों का मरना दुर्भाग्यपूर्ण है. यह मौजूदा योगी सरकार के माथे पर कलंक है."

दूसरी ओर राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले की जांच के आदेश दिए हैं. राज्य सरकार ने ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की मौत होने की खबर को भ्रामक बताया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पहले की सरकारें रहती थी सजग

सरकार ने गैस सिलेंडर सप्लायर की भूमिका की जांच के लिए मुख्य सचिव की अगुवाई में जांच समिति बनाई गई है.

ये जांच समिति हफ़्ते भर में अपनी रिपोर्ट देगी. फ़िलहाल, विधान परिषद में विरोधी दल के नेता हसन ने इस घटना को चिकित्सकीय इतिहास का काला दिन बताया है.

उन्होंने कहा, "चिकित्सकीय इतिहास में ऐसी घटना कभी नहीं हुई. यह काला दिन है. इसके बाद सरकार का गैर-जिम्मेदाराना बयान और लीपापोती की साजिश, बहुत ही शर्म की बात है."

गोरखपुर त्रासदी: बच्चों की मौत के मामले में अब तक क्या हुआ

उन्होंने अपने कार्यकाल को याद करते हुए कहा कि समाजवादी सरकार में इस तरह की कोई घटना नहीं हुई. सरकार पहले से इंतजाम करती थी. ज्यादा दवाएं और डॉक्टर भेजे जाते थे.

उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा की सरकार उन मुद्दों पर बात करती है जिनका जनता की भलाई से कोई लेना-देना नहीं होता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

20-20 लाख रुपये मिले मुआवजा

हसन ने कहा कि उनकी पार्टी की जब सरकार थी, तब समय पर कंपनियों को भुगतान करती थी और दवाइयों की सप्लाई भी सही समय पर हो, इसका ख़्याल रखती थी.

उन्होंने मृतकों के परिवारों को 20-20 लाख रुपए का मुआवजा देने की मांग की.

जब हसन से पूछा गया कि उन्होंने पहले इस विभाग को संभाला है, आखिर चूक कहां हुई होगी?

गोरखपुर त्रासदी: गैस सप्लायर की भूमिका की जांच होगी

इस सवाल पर हसन ने कहा कि यह व्यवस्था की चूक का मामला नहीं है, बल्कि भाजपा सरकार ने पूरी व्यवस्था को ही तहस-नहस कर दिया है.

उन्होंने ये भी दावा किया कि समाजावादी सरकार के समय में गोरखपुर मेडिकल कॉलेज को हज़ार करोड़ रुपए तक की मदद दी गई थी, ताकि वहां कैंसरों के मरीजों का भी इलाज हो सके.

लेकिन मौजूदा सरकार बच्चों के लिए आक्सीजन तक उपलब्ध नहीं करवा पाई. उन्होंने ये भी कहा कि समाजवादी सरकार में कभी भी बकाए और लापरवाही की ऐसी मिसाल नहीं देखी गई.

(उत्तर प्रदेश के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री अहमद हसन से बीबीसी संवाददाता प्रदीप कुमार की बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)